दा इंडियन वायर » विदेश » तालिबान ने अफगान मॉडल को YouTube वीडियो में ‘इस्लाम का अपमान’  करने के आरोप में किया गिरफ्तार, बाद में वीडियो जारी कर मॉडल से बुलवाई माफ़ी 
विदेश

तालिबान ने अफगान मॉडल को YouTube वीडियो में ‘इस्लाम का अपमान’  करने के आरोप में किया गिरफ्तार, बाद में वीडियो जारी कर मॉडल से बुलवाई माफ़ी 

तालिबान ने अफगान मॉडल को YouTube वीडियो में 'इस्लाम का अपमान' करने के आरोप में किया गिरफ्तार, बाद में वीडियो जारी कर मॉडल से बुलवाई माफ़ी

तालिबान ने एक अफगान मॉडल-यूट्यूबर अजमल हकीकी और उसके तीन सहयोगियों को इस्लाम और कुरान का अपमान करने का आरोप लगाते हुए गिरफ्तार किया है।

मानवाधिकार एनजीओ एमनेस्टी इंटरनेशनल (Amnesty International) के अनुसार, पिछले हफ्ते, काबुल स्थित सोशल मीडिया प्रभावकार ने अपने यूट्यूब अकाउंट पर एक वीडियो पोस्ट किया था। इसमें कहा जाता है कि उसने और उसके तीन सहकर्मियों ने मजाक में कुरान की आयतों पड़ते दिखे ।

 बता दें कि अफगान सोशल मीडिया यूजर्स के बीच हकीकी के हास्य और एथनिक अफगान फैशन के वीडियो काफी चर्चित हैं। वह अपने अधिकांश वीडियो में गुलाम सखी के साथ दिखाई देते हैं।

वीडियो में वे हंसते हुए देखे गए, जबकि उनके एक सहकर्मी ने अरबी में कुरान की आयतें मजाकिया लहजे में पढ़ीं। हकीकी ने बाद में 5 जून को एक और वीडियो पोस्ट किया जिसमें उन्होंने घटना के लिए माफी मांगी। 

हालांकि, एमनेस्टी इंटरनेशनल के अनुसार, उन्हें और उनके तीन सहयोगियों को तालिबान के  जनरल डायरेक्टरेट ऑफ इंटेलिजेंस (जीडीआई)  द्वारा 7 जून को “इस्लामी पवित्र मूल्यों का अपमान” करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया था और बाद में उस दिन हकीकी का एक वीडियो ‘कबूलनामा’ जारी किया गया था जहां उन्होंने फिर से माफी मांगी।

अफगान जनरल डायरेक्टरेट ऑफ इंटेलिजेंस (जीडीआई) द्वारा जारी एक वीडियो में अजमल हकीकी को मंगलवार को तालिबान आतंकवादी समूह के नियंत्रण में देखा गया था।

दो छोटे वीडियो में वह थके हुए देखा जा सकता है। हकीकी को वीडियो में  अजमल हकीकी ने कहा , “मैं अफगान लोगों, सम्मानित धार्मिक विद्वानों और इस्लामिक अमीरात की सरकार से माफी मांगता हूं।” 

एमनेस्टी इंटरनेशनल द्वारा 8 जून को एक बयान जारी किया गया था जिसमें लिखा था, “तालिबान को तुरंत और बिना शर्त YouTubers को रिहा करना चाहिए और उन लोगों की निरंतर सेंसरशिप को समाप्त करना चाहिए जो अपने विचारों को स्वतंत्र रूप से व्यक्त करना चाहते हैं।”

“अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार पर प्रतिबंध कानून द्वारा स्पष्ट रूप से प्रदान किया जाना चाहिए और एक वैध उद्देश्य के लिए कड़ाई से आवश्यक और आनुपातिक होना चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार कानून केवल इस आधार पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के प्रतिबंधों की अनुमति नहीं देता है कि इसमें अपमान या अपमान करने की क्षमता है। न ही धार्मिक विश्वासों या उनके अनुयायियों की धार्मिक संवेदनाओं की सुरक्षा के लिए। यह घटना इस बात का एक उत्कृष्ट उदाहरण है कि कैसे तालिबान लोगों को चुप कराने के लिए मनमानी गिरफ्तारी और जबरदस्ती करके अफगानिस्तान में भय का माहौल पैदा कर रहा है,”  बयान में आगे कहा गया।

 

About the author

Surubhi Sharma

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]