तालिबान के साथ जारी जंग में नागरिक सुरक्षा की योजना को अफगानी राष्ट्रपति ने दी मंज़ूरी

Must Read

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के...

औरंगाबाद में रेल के नीचे आने से 16 मजदूरों की मौत, 45 किमी की दूरी तय करने के बाद हुई घटना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में शुक्रवार सुबह कम से कम 16 प्रवासी श्रमिक ट्रेन के नीचे कुचले...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने शुक्रवार को नागरिको की हताहत से सुरक्षा के लिए योजना को लागू किया है क्योंकि राष्ट्र में चरमपंथी समूह तालिबान के साथ वार्ता का दौर जारी है। अफगानिस्तान के नंगरहार प्रान्त में गुरूवार को ड्रोन हमले की जिम्मेदारी अमेरिका ने की थी। इस हमले में करीब 30 नागरिको की मौत हुई थी।

उन्होंने राष्ट्रपति की जलालाबाद में चुनावी रैली के दौरान नंगरहार की राजधानी में वादा किया था। राष्ट्रपति के चुनावो का दौर समस्त अफगानिस्तान में 28 से सितम्बर से होगा। मंगलवार को तालिबान के प्रमुख वरताकार शेर मोहम्मद अब्बास ने कहा कि “अगर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प बातचीत को दोबारा शुरू करने के लिए तैयार है तो हमारे दरवाजे भी खुले हैं।”

एक सप्ताह पूर्व डोनाल्ड ट्रम्प ने ऐलान किया था कि ट्रम्प की अफगान शनै प्रक्रिया खत्म हो चुकी है। इस मैंने की सुरुआत में दोनों पक्ष अफगान नागरिक युद्ध को खत्म करने के समझौते के काफी नजदीक आ गए थे।

तालिबान के हमले में एक अमेरिकी सैनिक की मौत हो गयी थी, ट्रम्प ने अनिश्चित बैठक को रद्द कर दिया था। ट्रम्प ने कहा कि “उन्होंने तालिबान के नेताओं और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी से रविवार को वार्ता के लिए कैंप डेविड शिविर में वार्ता के लिए आमंत्रित किया था।”

तालिबान के वार्ताकार ने कहा कि “अमेरिकी-तालिबानी वार्ता ही अफगानी सरजमीं पर शान्ति का एकमात्र तरीका है। 23 सितम्बर को आंतरिक अफगान वार्ता को रद्द कर दिया गया है और समझौते को खत्म कर दिया गया है। इसमें संघर्षविराम को लेकर भी वार्ता हो रही थी।”

अफगान राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डॉक्टर हम्दुल्लाह मोहिबित ने बीबीसी को बताया कि “तालिबान की ऐसी पैतरेबाजी कामयाब नहीं होंगी। आप आप अफगानिस्तान में शान्ति देखना चाहते हैं तो अफगानी सरकार के साथ सीधा बातचीत करे।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच टकराव की...

औरंगाबाद में रेल के नीचे आने से 16 मजदूरों की मौत, 45 किमी की दूरी तय करने के बाद हुई घटना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में शुक्रवार सुबह कम से कम 16 प्रवासी श्रमिक ट्रेन के नीचे कुचले गए, जब वे मध्य प्रदेश...

भारत में कोरोनावायरस के आंकड़े 50,000 के पार, महाराष्ट्र में सबसे भयानक स्थिति

भारत (India) में कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित लोगों की संख्या में पिछले दो दिनों में 14 फीसदी की वृद्धि देखि गयी है। यह आंकड़ा...

कोरोनावायरस अपडेट: देश में 24 घंटों में सबसे तेजी से वृद्धि, कुल आंकड़ा 46,000 के पार

भारत में कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामलों में पिछले 24 घंटों में सबसे तेजी वृद्धि देखने को मिली है। पिछले 1 दिन में कुल आंकड़ों...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -