Wed. Nov 30th, 2022
    amit-shah-

    गुरुवार को विपक्षी नेताओं को कमजोर बताते हुए भाजपा प्रमुख अमित शाह ने कहा है कि तमिलनाडू में 2019 लोकसभा चुनाव जीतने के लिए भाजपा मजबूत गठजोड़ करेगी। उन्होंने कहा कि विपक्षियों की नीतियां, विधारधारा और तरीके सब कमजोर हैं। इसलिए 2019 में एकबार फिर भगवा (बीजेपी) रंग लहराएगा और भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार केंद्र में आएगी।

    इरोड में हैंडलूम और पावरलूम ऐशोसिएशन में सभा को संबोधित करने के दौरान शाह ने कहा कि “2019 की चुनौती का मुकाबला करने के लिए भाजपा मजबूत गठबंधन करेगी। जो सभी 39 सीटों पर लड़ेगी। यह गठबंधन कुछ दिनों का नहीं होगा।”

    तमिलनाडू में चुनावी रणनीति को लेकर शाह ने कहा ‘मैं तमिलनाडू की जनता को आश्वसत करता हूं कि भाजपा गठबंधन करेगी और अपने सहयोगी दलों के साथ 2019 में सत्ता में आएगी।’

    फिलहाल राज्य में चल रहे डीएमके और कांग्रेस गठबंधन को लेकर उन्होंने कहा कि इस गठजोड़ से राज्य का कुछ भला नहीं हुआ बल्कि भ्रष्टाचार और घोटाले हुए हैं। उन्होंने इस गठबंधन को भ्रष्टाचार और घोटाले का गठबंधन बताया।

    शाह ने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में विपक्ष के दो दल पहले ही है।

    एक दल कांग्रेस जिसके मुखिया राहुल गांधी हैं और दूसरा अन्य विरोधी पार्टियां जिसके मुखिया का अबतक पता नहीं है।

    भाजपा मुखिया ने कहा कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए सरकार राष्ट्र का निर्वाहन करने के लिए फिर से तैयार है।

    डीएमके मुखिया एम. के. स्टॉलिन की चुटकी लेते हुए शाह ने कहा, ‘वे कभी गांधी को नेता मानते हैं तो कभी गांधी विरोधी हो जाते है। उनकी प्राथमिकता लोगों के समझ से परे है।’
    ऐसा कहकर शाह का इशारा प्रधानमंत्री पद के लिए राहुल गांधी को दिए जा रहे समर्थन की ओर था।

    हालांकि स्टॉलिन ने पिछले जनवरी में कोलकाता में आयोजित विपक्ष रैली में भागीदारी की थी।

    विपक्षी गठबंधन पर तंज कसते हुए शाह ने कहा कि ‘विपक्षियों की न तो कोई विशिष्ट नीति है, न मूल्य, न विचारधारा और न कोई एक नेता। यह बस सत्ता हासिल करने के लिए की गई मजबूरी है।’

    वहीं दूसरी ओर उन्होंने कहा कि मोदी की एनडीए सरकार ‘सबका साथ, सबका विकास’ में विश्वास रखती है। यह सरकार सर्वागिंक विकास की समर्थक है।

    शाह ने जनता को याद दिलाया कि जब यूपीए केंद्र में थी तब 2जी घोटाला हुआ था और डीएमके को 13वीं वित्तीय कमीशन में तमिलनाडू को 94 हजार करोड़ का बजट दिया गया था।

    लेकिन एनडीए सरकार ने दक्षिण भारत से किए वादे को पूरा किया है। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने बजट आवंचन को पांच गुना तक बढ़ा दिया है, जो आज 5.42 लाख करोड़ रुपये का है।

    शाह ने काहा ‘जिस तरह स्टॉलिन मोदी से जवाब मांगते हैं कि उनकी सरकार ने तमिलनाडू के लिए क्या किया तो मैं उनसे पूछता हूं यूपीए के शासनकाल में जब तमिलनाडू में डीएमके की सरकार थी तब उन्होंने क्या किया?’

    शाह ने केंद्र की ओर से तमिलनाडू को की गई सारी मदद गिनवाई। कहा कि सरकार ने कपड़ा उद्दोग को राज्य में बढ़ाने के लिए विशेषकर मदद की है। राज्य में कपड़ा व्यापारियों, मजदूरों को जो भी सहायता मिली है उन्होंने उसका भी जिक्र किया।

    उन्होंने कहा कि हमने जनता के लिए काम किया है, हम हिसाब दे रहे हैं। स्टॉलिन बताए कि 94हजार के बजट से उन्होंने क्या किया?

    शाह ने कहा कि सरकार तमिलनाडू के विकास की दिशा में इच्छुक है। अगर अन्य पांच सालों के लिए जनता एनडीए को चुनती है तो आने वाले पांच साल तमिलनाडू के लिए विकास के साल होंगे।

    बाद में उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं के बूथ कमिटी को संबोधित किया। वहां उन्होंने कार्यकर्ताओं को वोटिंग के दौरान ध्यान रखने और पार्टी की जीत को सुनिश्चित करने की कोशिश करने को कहा।

    शाह ने यह भी कहा कि ‘सरकार गरीबी रेखा से नीचे के लोगों के जीवन स्तर को सुधारना चाहती है। इस बार के बजट से पता चलता है कि सरकार मध्यम वर्गीय परिवारों को लाभ पहुंचाने की दिशा में कार्य कर रही है।’

    देश रक्षा के लिए खुले हाथ से खर्च करके सरकार अपनी देशभक्ति का प्रमाण भी दे रही है। यह साफ है कि प्रधानमंत्री मोदी एक साफ-सुथरी ‘एंटी-करप्ट’ सरकार चाहते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि ये सभी काम रुकने नहीं चाहिए इसलिए जनता एकबार फिर से भाजपा को अपना मत दे।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *