Sun. May 19th, 2024
    तमिलनाडु के सेलम जिले को साबूदाना उत्पादन के लिए मिला GI टैग

    तमिलनाडु के सेलम जिले को अपने साबूदाना उत्पादन के लिए GI टैग  मिला है। सेलम साबूदाना, जिसे स्थानीय रूप से जाव्वारिसी के नाम से जाना जाता है, टैपिओका जड़ों से निकाले गए गीले स्टार्च पाउडर से प्राप्त होता है। भारतीय टैपिओका जड़ों में लगभग 30-35% स्टार्च सामग्री पाई जाती है।

    साबूदाना उत्पादन 1967 से सेलम के आर्थिक विकास की आधारशिला रहा है। वर्तमान में, भारत में 80% से अधिक साबूदाना सेलम क्षेत्र में उत्पादित किया जाता है, जिसका एक महत्वपूर्ण हिस्सा सागोसर्व के माध्यम से विपणन किया जाता है।

    सलेम साबूदाना के लिए भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग के लिए अनुरोध सलेम स्टार्च और सागो मैन्युफैक्चरर्स सर्विस इंडस्ट्रियल को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड द्वारा दायर किया गया था, जिसे आमतौर पर सागोसर्व के नाम से जाना जाता है।

    GI टैग सेलम क्षेत्र में किसानों और सेलम, इरोड, नम्माकल और धर्मपुरी जैसे क्षेत्रों में 400 से अधिक साबूदाना और स्टार्च इकाइयों के लिए व्यापार को काफी बढ़ावा दे सकता है। इन क्षेत्रों में साबूदाना उत्पादन की पुरानी परंपरा है।

    सलेम: टैपिओका हार्टलैंड और सागो की भूमि

    सलेम जिला टैपिओका की खेती के लिए लगभग 35,000 हेक्टेयर भूमि का उपयोग करता है, जिसकी औसत उपज 25-30 टन प्रति हेक्टेयर के बीच होती है। साबूदाना का कैलोरी मान कम (310 किलो कैलोरी/100 ग्राम) होता है और इसका आकार 2 से 4.5 मिमी तक होता है। उल्लेखनीय रूप से, पांच किलोग्राम टैपिओका कंद से एक किलोग्राम टैपिओका साबूदाना का उत्पादन किया जा सकता है।

    जिले के फायदे, जैसे प्रचुर मात्रा में कच्चा माल, लागत प्रभावी श्रम और लंबे समय तक धूप, इसे साबूदाना और स्टार्च जैसे टैपिओका-आधारित उत्पादों के लिए एक आदर्श केंद्र बनाते हैं। इसने अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भी सलेम को ‘साबूदाना की भूमि’ के रूप में ख्याति दिलाई है।

    क्या है GI टैग  के लाभ?

    कानूनी सुरक्षा: यह जीआई-टैग उत्पादों को अनधिकृत उपयोग से बचाने के लिए कानूनी सुरक्षा उपाय प्रदान करता है।

    गैरकानूनी उपयोग की रोकथाम: जीआई टैग दूसरों को बिना प्राधिकरण के प्रतिष्ठित उत्पाद नाम का उपयोग करने से रोकते हैं।

    गुणवत्ता आश्वासन: उपभोक्ता जीआई-टैग उत्पादों की गुणवत्ता और प्रामाणिकता में आश्वस्त हो सकते हैं।

    आर्थिक समृद्धि: राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में जीआई-टैग वाली वस्तुओं की मांग बढ़ जाती है, जिससे उत्पादकों के लिए आर्थिक समृद्धि को बढ़ावा मिलता है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *