10 में 4 भारतीय चाहते हैं तंबाकू, पीयूबीजी पर प्रतिबंध : अध्ययन

Must Read

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के...

औरंगाबाद में रेल के नीचे आने से 16 मजदूरों की मौत, 45 किमी की दूरी तय करने के बाद हुई घटना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में शुक्रवार सुबह कम से कम 16 प्रवासी श्रमिक ट्रेन के नीचे कुचले...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

नई दिल्ली, 7 मई (आईएएनएस)| लोकप्रिय मोबाइल गेम प्लेयरअननोन्स बैटलग्राउंड (पीयूबीजी) पर गुजरात में प्रतिबंधों को लेकर पैदा हुए विवाद के बीच एक नए अध्ययन में पाया गया है कि लगभग 40 प्रतिशत भारतीय सिगरेट, गांजा, ई-सिगरेट, हिंसक वीडियो गेम्स और ऑनलाइन जुआ पर पूर्ण प्रतिबंध चाहते हैं।

मार्केट रिसर्च फर्म, इप्सोस द्वारा किए गए सर्वे के अनुसार, हालांकि 68 प्रतिशत प्रतिभागियों ने संयम के साथ सोशल मीडिया के उपयोग का समर्थन किया, वहीं 62 प्रतिशत ने पैकेटबंद नमकीन का संयम के साथ उपभोग का समर्थन किया, जबकि 57 प्रतिशत शहरी भारतीयों ने संयम के साथ मीठे सॉफ्ट ड्रिंक के उपयोग का समर्थन किया।

इप्सॉस पब्लिक अफेयर्स, कॉरपोरेट रिपुटेशन एंड कस्टमर एक्सपीरियंस में सर्विस लाइन लीडर, पारिजात चक्रवर्ती ने एक बयान में कहा, “दोष को ज्यादातर सामाजिक कलंक के रूप में परिभाषित किया जाता है और सर्वे इस बात को सत्यापित करता है कि क्या सामाजिक रूप से स्वीकार्य है और क्या स्वीकार्य नहीं है। और खेल के नियम बदलने वाले नहीं लगते।”

ये परिणाम भारत में 26 नवंबर और सात दिसंबर, 2018 के बीच 1000 लोगों पर किए गए एक सर्वेक्षण पर आधारित है।

इप्सॉस हेल्थकेयर (एचईसी) इंडिया में कंट्री सर्विस लाइन हेड, मोनिका गंगवानी ने कहा, “संयम चाकलेट, नमकीन और मीठे सॉफ्ट पेय के लिए भी जरूरी है। इन चीजों के अधिक इस्तेमाल स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है, और मोटापा, रक्तचाप और मधुमेह की समस्या हो सकती है।”

अध्ययन में कहा गया है कि मात्र 36 प्रतिशत भारतीय महसूस करते हैं कि गांजा का चिकित्सा महत्व है और मात्र लगभग 39 प्रतिशत भारतीय इस बात से सहमत हैं कि गांजा चिकित्सा उपयोग के लिए वैध होना चाहिए।

अध्ययन में कहा गया है कि लगभग 45 प्रतिशत भारतीय महसूस करते हैं कि ई-सिगरेट और वैपिंग डिवाइसेस का इस्तेमाल अगले 10 वर्षो में बढ़ेगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच टकराव की...

औरंगाबाद में रेल के नीचे आने से 16 मजदूरों की मौत, 45 किमी की दूरी तय करने के बाद हुई घटना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में शुक्रवार सुबह कम से कम 16 प्रवासी श्रमिक ट्रेन के नीचे कुचले गए, जब वे मध्य प्रदेश...

भारत में कोरोनावायरस के आंकड़े 50,000 के पार, महाराष्ट्र में सबसे भयानक स्थिति

भारत (India) में कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित लोगों की संख्या में पिछले दो दिनों में 14 फीसदी की वृद्धि देखि गयी है। यह आंकड़ा...

कोरोनावायरस अपडेट: देश में 24 घंटों में सबसे तेजी से वृद्धि, कुल आंकड़ा 46,000 के पार

भारत में कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामलों में पिछले 24 घंटों में सबसे तेजी वृद्धि देखने को मिली है। पिछले 1 दिन में कुल आंकड़ों...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -