Tue. Oct 4th, 2022
    डाटा साइंस data science in hindi

    डाटा साइंस का मतलब (data science meaning in hindi)

    डाटा साइन्स एक तरह का ज्ञान है जिसमे हम जानकारी को एक साथ इकठ्ठा करते हैं जिससे की हम उसका बिज़नेस ओर आईटी रणनीतियों में काम में ले सकें। हम इस ज्ञान को फिर अच्छे से इकट्ठा करके उससे मूल्यवान संसाधन बनाते हैं।

    डाटा साइन्स जिनको आता है उनकी आज के जमाने में काफी पूछ है क्योंकि डाटा साइन्स पर काफी कंपनीयाँ निर्भर हैं। ज्यादा मात्रा में डाटा की छान बिन करने से हमे काफी काम की चीज़ें मिल जाती हैं और फिर उसमे से हम काम के डाटा को इकट्ठा करके अपने काम के लिए रख लेते हैं।

    इससे कंपनी की मुक़ाबला करने की क्षमता बढ़ती है क्योंकि हम डाटा साइन्स में खोज बिन करते हैं इससे कंपनी का बिज़नेस भी बढ़ता है।

    डाटा साइन्स जो क्षेत्र है उसमें गणित, स्टेटिस्टिक्स, और कम्प्युटर साइन्स वाले लोग काम करते हैं। यह मशीन लर्निंग, क्लस्टर एनालिसिस, डाटा माइनिंग जैसी तकनीकों का इस्तेमाल करते हैं।

    डाटा साइंटिस्ट (data scientist in hindi)

    जैसे ही किसी कंपनी के बिज़नेस में डाटा बढ़ता है वैसे ही डाटा साइंटिस्टो की कंपनीयों में जरूरत पड़ने लगती है और उन्हे डाटा को सही से रखने और उसकी सही से रिपोर्ट बनाने के लिए रखा जाता है। जिससे की कंपनी इस डाटा को बेच सके और कुछ लाभ कमा सके और कंपनी की प्रगति हो पाए।

    डाटा साइंटिस्ट का प्रमुख काम रॉ डाटा को व्यवस्थित करना होता है। सामान्य रूप से डाटा को अव्यवस्थित डाटा में से निकालना होता है और उसे व्यवस्थित करना होता है जिससे की वह डाटा आगे इस्तेमाल हो सके।

    इस डाटा की उसके बाद छान बिन होती है और उसमे से काम का डाटा छाँट लिया जाता है। डाटा साइंटिस्ट को मशीन लर्निंग, डाटा माइनिंग, ऐनालिटिकस आदि का ज्ञान भरपूर होता है और कोडिंग और एल्गॉरिथ्म लिखना भी बखूबी आता है। इसी तरह से डाटा को प्रबंधित और व्याख्या करते हुए डाटा साइंटिस्ट का काम होता है की वह इस डाटा को इस तरह से बनाए जिससे की इसको ग्राफिकल्ली और विडियो, फोटो आदि के रूप में भी दिखा सकें। इस तरीके से डाटा को हम डिजिटली भी रख सकते हैं और बाकी की कंपनीयों को बेच सकते हैं जिससे की बिज़नेस में काफी इजाफा होता है।

    प्रभावी होने के लिए डाटा साइंटिस्ट के अंदर शिक्षा के साथ साथ भावुक बुद्धि और डाटा एनालिटिक्स का ज्ञान भी भरपूर होना चाहिए। सबसे महत्वपूर्ण जो कौशल होता है किसी डाटा साइंटिस्ट में वह यह है की वो किस तरह से डाटा को रख रहा है और लोगों को समझा पा रहा है और कितने अच्छे तरीके से दर्शा पा रहा है की इसमें काम कैसे होता है।

    यह भी जरूरी होता है की वो अच्छे सॉफ्टवेयर इस्तेमाल कर रहा हो और डाटा का महत्व भी बता रहा हो। डाटा साइंटिस्ट डिजिटल जानकारी को चैनल और स्त्रोतों से बनाते हैं जैसे की स्मार्ट फोन इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IOT) डिवाइस, सोशल मीडिया, सर्वे, इंटरनेट सर्च, खरीददारी। डाटा साइंटिस्ट बहुत सारे डाटा सेट्स में से ऐसे पैटर्न को निकालते हैं जिससे की मुश्किलों को यह डाटा एनालिसिस के द्वारा आसानी से सुलझा सकें इस प्रक्रिया को हम डाटा माइनिंग भी बोलते हैं।

    डाटा साइंस के फायदे (benefits of data science in hindi)

    डाटा साइन्स बिज़नेस के निर्णय लेने में काफी काम आता है। यह डाटा को बड़े ही सही तरीके से इस्तेमाल करता है और उसे उपयोगी बनाता है जिससे की हम उसे इस्तेमाल कर सकें।

    डाटा से जो हम निर्णय लेते हैं वह हमे काफी लाभ देता है और काम करने की क्षमता को भी बढ़ा देता है। डाटा साइन्स लोगों की भर्ती में भी काफी काम आता है जैसे की लोगो की आंतरिक कार्यों में जैसे की जो लोग आगे की स्टेज के लिए चुने गए हैं तो उनको भी डाटा साइन्स को इस्तेमाल करके इसी तरीके से छाँटा जाता है।

    डाटा से एप्टिट्यूड टेस्ट लेना और गेमस, कोडिंग आदि ह्यूमन रिसौरस के लोगों के लिए काफी उपयोगी होते हैं क्योंकि इससे वो लोगों को कंपनी में लेते हैं।

    डाटा साइंस के उपयोग (application uses of data science in hindi)

    डाटा साइंस के फायदे कंपनी के लक्ष्य और संसाधानों पर भी निर्भर करते हैं की कंपनी किस तरह का काम करती है और किस तरह से संसाधनो को इस्तेमाल करती है। सेल्स और मार्केटिंग डिपार्टमेंट पर भी कंपनी का फायदा निर्भर करता है। उद्धारण के तौर पर हम यह देख सकते हैं की कुछ कंपनी उपयोगकर्ताओं के डाटा को खरीदती हैं और फिर उसका विश्लेषण करती हैं।

    डाटा को सही तरीके से समझा जाता है और उसके बाद उसकी उचित रिपोर्ट बनायी जाती है और फिर कंपनी में इसका पूरा विचार विमर्श होता है, जिससे की इस डाटा को प्रभावी बनाया जा सके। यह कैम्पेन करने में भी काफी उपयोगी होता है।

    नेट्फ़्लिक्स में भी डाटा पर निर्भर करने वाली एल्गॉरिथ्म इस्तेमाल होती है जो की उपयोगकर्ता का इतिहास बताती है की उसने पहले क्या क्या देखा था नेट्फ़्लिक्स में। डाटा साइन्स बहुत ही उभरता हुआ क्षेत्र है और तकनीकी दुनिया में आने वाले समय में यह काफी तरक्की करेगा और हम पूरी तरह इसपर निर्भर होंगे।

    मशीन लर्निंग की चीज़ें भी डाटा साइन्स में उपयोग होती हैं जैसे की इमेज रेकोगनिशन और स्पीच रेकोगनिशन।

    डाटा साइंस से सम्बंधित किसी भी सवाल या सुझाव को आप नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

    17 thoughts on “डाटा साइंस (डाटा विज्ञान) क्या है?”
    1. data science ka course karna hai mujhe? mujhe ai jaise subject mein bahut interests hai. maine robotics ke baare mein bhi padha hai aur mujhe is field mein job chahiye.

      1. data scientist ka scope bahut hai future mein. india mein easily 2-3 lakh rupay ki salary milti hai.

    2. Free site k naam bta sakte h jha se me data science k bare me deep or detail me padh sakoon bina paid ya membership k

    3. Sir Mai BCA final ka student hu BCA ke baad MCA ya data science Kon sa better hoga or kha se karna chahiye please😫🙏🙏💓 mobile no 9771413048

    4. Sir
      I am nitin sharma. I have done b. Sc. LLM. And i want to do a course in data science.
      Kindly give me information about it.
      9760396698

    5. hello sir
      im interested this course plz guide me
      can anyone tell me about course duration and what i need in my subject math is necessary plz guide
      me.
      Thank you.

    6. thank you bhai . itna accha koi bhi explain nhi karta yaar . you are doing great job brother . keep going

    7. सर आपकी यह पोस्ट बहुत अच्छी है और हमें आपकी सारी पोस्ट पढ़ कर बहुत कुछ सीखने को मिलता है और मैं चाहता हूं कि आप ऐसी और भी अच्छी अच्छी पोस्ट लाते रहे जिससे हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता रहे धन्यवाद सर “Data Science क्या है” इसके बारे मे और भी अधिक जानने के लिये “Data Science क्या है और डेटा साइंटिस्ट कैसे बने” इस पर क्लिक करे।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.