गुरूवार, फ़रवरी 27, 2020

डब्ल्यूएचओ ने कहा, कोरोना वायरस चीन के लिए हेल्थ एमरजेंसी, लेकिन पूरे विश्व के लिए नहीं

Must Read

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...

चीन में फैल रहे नोवेल कोरोना वायरस को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन की एमरजेंसी कमेटी ने एक अहम मीटिंग की है। इस बैठक में चीन, जापान, कोरिया, थाईलैंड व सिंगापुर के प्रतिनिधि शामिल हुए। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट में बताया गया है कि नोवेल कोरोना वायरस से ग्रसित रोगियों में से 25 प्रतिशत रोगियों की स्थिति गंभीर है। जहां चीन में इसके सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। वहीं सिंगापुर में भी अब नोवेल कोरोना वायरस का एक नया मामला सामने आया है।

डब्लूएचओ के महानिदेशक टेडरोस ने नोवेल कोरोना वायरस को लेकर कहा कि फिलहाल कोरोना वायरस को स्वास्थ्य मामलों के लिहाज से अंतर्राष्ट्रीय आपातकालीन स्थिति घोषित नहीं किया जा रहा है। डब्लूएचओ प्रमुख ने माना कि कोरोना वारयस चीन के लिए जरूर एक आपातकालीन स्थिति है लेकिन पूरे विश्व के लिए यह स्वास्थ्य के लिहाज से आपातकालीन स्थिति नहीं है।

गुरुवार की रात डब्लूएचओ की एमरजेंसी कमेटी की बैठक में चीन, जापान, कोरिया और थाईलेंड के स्वास्थ्य मंत्रालयों के प्रतिनिधि पहुंचे। इन चारों राष्ट्रों के स्वास्थ्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने अपने-अपने देशों में नोवेल कोरोना को काबू करने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी डब्लूएचओ को दी है।

डब्लूएचओ के मुताबिक चीन के वूहान प्रांत में नोवेल कोरोना वायरस के फोर्थ जेनेरेशन के केस सामने आए हैं। वहीं वूहान प्रांत से बाहर के राज्यों में यह केस सेंकड जेनेरेशन के हैं। डब्लूएचओ ने इस बैठक की जानकारी भारत सरकार के स्वास्थ्य विभाग के साथ भी साझा की है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, अभी यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हो पाया है कि नोवेल कोरोना वायरस एक इंसान से दूसरे इंसान के शरीर में फैल रहा है या नहीं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चीन, जापान, सिंगापुर, थाईलैंड व कोरिया स्थित अपने विभिन्न केंद्रो को और अधिक सर्तकता बरतने के निर्देश दिए हैं। साथ ही इन केंद्रों को वहां की सरकारों व स्वास्थ्य विभाग के साथ बेहतर तालमेल स्थापित करने को भी कहा गया है। डब्लूएचओ का कहना है कि सभी प्रभावित क्षेत्रों में पर्याप्त सहायता पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने नोवेल कोरोना वायरस को लेकर एशिया के सभी देशों समेत विश्व के कई देशों को सर्तकता बरतने को कहा है। इसके चलते भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी कोरोना वायरस की पहचान व रोकथाम के लिए अपनी तैयारी शुरू कर दी है। मामले की गंभीरता को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन की एमरजेंसी कमेटी 10 दिन के भीतर संबंधित राष्ट्रों के साथ दोबारा मीटिंग करेगी। इस मीटिंग में इन राष्ट्रों की आवश्यकता अनुसार उन्हें जरूरी स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराई जाएंगी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के लिए 5-6 फिल्मों को अस्वीकार...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -