Wed. Feb 21st, 2024
    डोनाल्ड ट्रम्प और शिंजो आबे

    अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प 26 अप्रैल को जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे से मुलाकात करेंगे। इस दौरान दोनों नेता द्विपक्षीय वारत और उत्तर कोरिया की परमाणु निरस्त्रीकरण प्रक्रिया के बाबत चर्चा करेंगे। व्हाइट हाउस ने गुरूवार को जानकारी दी कि “राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और प्रधानमंत्री शिंजो आबे कोरिया के सम्बन्ध में हालिया विकास पर बातचीत करेंगे। इसमें अंतिम, पूर्ण और निरीक्षित परमाणु निरस्त्रीकरण शामिल है।”

    बयान के मुताबिक, दोनों नेता मुक्त और खुले इंडो पैसिफिक के लिए साझा नजरिये से मार्गो का पता लगाएंगे। साथ ही हमारे द्विपक्षीय व्यापार और निवेश संबंधों को मज़बूत करेंगे।” सूत्रों के हवाले से जापान टाइम्स ने रिपोर्ट जारी की कि “इस दिन शिंजो आबे अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रम्प का जन्मदिन का जश्न मना सकते हैं और 27 अप्रैल को राजधानी के बाहर प्रेजिडेंट ट्रम्प के साथ गोल्फ खेल सकते हैं।”

    फरवरी में उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के साथ अमेरिका की वार्ता असफल रहने के बाद जापान के साथ इस मसले पर बातचीत लाजिमी है। इस सम्मेलन में दोनों नेताओं की बीच बैठक बिना किसी समझौते और संयुक्त बयान के खत्म हो गयी थी।

    सूत्रों के मुताबिक शिंजो आबे का फोकस दोनों देशों के बीच व्यापार पर होगा क्योंकि नए द्विपक्षीय व्यापार समझौते के लिए वार्ता जारी है। खबरों के मुताबिक, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प मई में जापान की यात्रा की तैयारियां कर रहे हैं। टोक्यों में अमेरिकी राष्ट्रपति पहले वदेशी मेहमान होंगे को नवनिर्वाचित सम्राट नारुहितो से भेंट करेंगे।

    मौजूदा सम्राट अकिहितो के इस्तीफे के बाद 1 मई को उनके वंसज को सम्राट की गद्दी सौंप दी जाएगी। व्हाइट हाउस ने कहा कि “25 मई से 28 मई 2019 तक प्रथम महिला मेलानिया भी जापान की यात्रा पर जाएँगी। सम्राट और साम्रगी से मुलाकात के बाद राष्ट्रपति ट्रम्प जापानी पीएम शिंजो आबे के साथ द्विपक्षीय वार्ता में शामिल होंगे।”

    बयां के मुताबिक, इस बैठक का मकसद जापानी और अमेरिकी अवाम के बीच ताल्लुक को अधिक गहरा करना है।” मई के बाद डोनाल्ड ट्रम्प जी 20 की बैठक के लिए दोबारा जापान की यात्रा पर जा सकते है। यह सम्मेलन ओसाका में आयोजित होगा।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *