मंगलवार, दिसम्बर 10, 2019

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019: भाजपा-आजसू के बीच दरार, टूट सकती है 19 साल पुरानी दोस्ती

Must Read

बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए रिकॉर्ड किया तेलुगू गाना

सिंगर बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए अपना पहला तेलुगू गाना 'सूर्योदय चंद्रुडिवो' रिकॉर्ड किया है।...

आईआईटी-मद्रास के 831 छात्रों की हुई कैंपस प्लेसमेंट

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) के छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट के पहले चरण के दौरान 184 कंपनियों द्वारा कुल...

दक्षिण अफ्रीका का मदद करने को तैयार हैं गैरी कर्स्टन

पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारत को विश्व विजेता बनाने वाले कोच गैरी कस्टर्न ने कहा है कि वह जरूत...

झारखंड बनने के बाद से करीब 19 सालों तक भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन (आजसू) के बीच चली दोस्ती अब टूट के कगार पर पहुंच गई है।

दोनों दलों ने हालांकि अब तक इसकी औपचारिक घोषणा नहीं की है, परंतु इस विधानसभा चुनाव में जिस तरह एक-दूसरे के दावे वाली सीटों पर प्रत्याशी उतारने की घोषणा की जा रही है, उससे यह साफ है कि दोनों दल अब बस गठबंधन के टूटने के ‘अपयश’ से बचना चाह रहे हैं।

भाजपा अब तक प्रत्याशियों की तीसरी सूची जारी कर कुल 68 प्रत्याशियों की घोषणा कर चुकी है, जबकि आजसू ने 12 उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी है। झारखंड में कुल 81 विधानसभा सीटें हैं।

इन दोनों दलों के प्रत्याशियों की घोषणा के बाद अब तक इस चुनावी रण में छह ऐसी सीटें हो गई हैं, जहां दोनों दलों के प्रत्याशी एक-दूसरे के आमने-सामने होंगे।

इधर, झारखंड के भाजपा चुनाव प्रभारी ओम माथुर दिल्ली में गुरुवार को कह चुके हैं कि आजसू की रोज बढ़ती मांग पूरा करना असंभव है। हमलोग गठबंधन बनाए रखना चाहते हैं, तय आजसू को करना है।

वहीं दूसरी ओर, आजसू के प्रमुख सुदेश महतो ने 17 सीटों पर अपना दावा बनाए रखते हुए कहा, “पार्टी 26 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने की तैयारी पूरी कर चुकी है। भाजपा नेतृत्व को पहले ही हमारे दावे वाली सीटों की जानकारी दी जा चुकी थी। तय तो भाजपा को करना है।”

इन बयानों से स्पष्ट है कि दोनों दल एक दूसरे के पाले में गेंद को डालकर अपने प्रत्याशी भी चुनावी मैदान में उतारते जा रहे हैं।

भाजपा के नेता संजय मयूख कहते हैं, “इस चुनाव में भाजपा की रणनीति 65 पार की है और पार्टी 65 सीटों पर जीत दर्ज करेगी। उन्होंने कहा कि जनता उनके साथ है। जनता को साथ रहना चाहिए।”

भाजपा ने गुरुवार को हुसैनाबाद सीट से भी निर्दलीय प्रत्याशी विनोद कुमार सिंह को समर्थन देने की घोषणा कर दी। हुसैनाबाद में पहले ही आजसू अपना प्रत्याशी उतार चुकी है। इसके अलावा, लोहरदगा, वंदनकियारी, छतरपुर, चक्रधरपुर, सिंदरी और मांडु ऐसी सीटें हैं, जहां दोनों दल अपने-अपने प्रत्याशी की घोषणा कर चुके हैं।

सूत्रों का दावा है कि आजसू शुक्रवार या शनिवार को प्रत्याशियों की दूसरी सूची जारी कर देगी।

आजसू के प्रवक्ता देवशरण भगत कहते हैं, “पार्टी कभी नहीं चाहती कि गठबंधन टूटे। राज्य के विषय मजबूती से हल होने चाहिए। आजसू चाहती है कि एक एजेंडा बने जिसे लेकर इस विधानसभा चुनाव में लोगों के बीच जाकर जनादेश मांगा जाए।”

उन्होंने कहा कि चुनाव के बाद कोई ऐसी परिस्थिति नहीं बने, जिसके लिए झारखंड के जनादेश पर प्रश्नचिह्न् खड़ा हो। उन्होंने कहा कि पार्टी का अधिक से अधिक सीटों पर जीत सुनिश्चित करने पर ध्यान है।

गौरतलब है कि 81 सदस्यीय झारखंड विधानसभा के चुनाव के लिए 30 नवंबर से 20 दिसंबर के बीच पांच चरणों में मतदान होने हैं। नतीजे 23 दिसंबर को आएंगे। पहले चरण के मतदान के लिए नामांकन पर्चा दाखिल करने की अंतिम तिथि समाप्त हो चुकी है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए रिकॉर्ड किया तेलुगू गाना

सिंगर बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए अपना पहला तेलुगू गाना 'सूर्योदय चंद्रुडिवो' रिकॉर्ड किया है।...

आईआईटी-मद्रास के 831 छात्रों की हुई कैंपस प्लेसमेंट

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) के छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट के पहले चरण के दौरान 184 कंपनियों द्वारा कुल 831 छात्रों को नौकरियों के...

दक्षिण अफ्रीका का मदद करने को तैयार हैं गैरी कर्स्टन

पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारत को विश्व विजेता बनाने वाले कोच गैरी कस्टर्न ने कहा है कि वह जरूत पड़ने पर दक्षिण अफ्रीका की...

दुष्कर्म की घटनाओं पर प्रधानमंत्री चुप क्यों? : राहुल गांधी

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने यहां सोमवार को सवाल उठाया कि देश में दुष्कर्म की बढ़ती घटनाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुप क्यों...

भारतीय जवानों को हनीट्रैप में फंसाने का प्रयास कर रही आईएसआई : रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) ने भारतीय सशस्त्र बलों के अधिकारियों को फंसाने के लिए हनीट्रैप को एक उपकरण के तौर पर...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -