दा इंडियन वायर » विदेश » जोशु वोंग ने हांगकांग लोकतंत्र के समर्थक आन्दोलन में अमेरिका से मांगी मदद
विदेश

जोशु वोंग ने हांगकांग लोकतंत्र के समर्थक आन्दोलन में अमेरिका से मांगी मदद

जोशुआ वोंग

होंग्कोमंग में लोकतंत्र के लिए प्रदर्शन में जोशुआ वोंग प्रदर्शनकारियों के साथ सबसे अधिक दिखने वाले नेताओं में शुमार है। लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनों के समर्थन के लिए वह अमेइचा की यात्रा पर गए हैं। हालिया महीने में निरंतर प्रदर्शन ने एशियाई फाइनेंसियल हब के कई भागो को नुकसान पंहुचाया है।

अमेरिका पंहुचे जोशुआ वोंग

हांगकांग में तीन महीनो से लोकतंत्र के समर्थन में प्रदर्शन जारी है और जोशुआ वोंग को जमानत पर होने के बावजूद विदेशी मुल्को की यात्रा की अनुमति मिल गयी है। वह अगले कुछ दिनों में सांसदों, मानव अधिकार कार्यकर्ताओं और छात्रो से न्यूयोर्क और वांशिगटन में बातचीत करेंगे।

वोंग के अधिकतर दर्शक कॉलेज छात्र होंगे। इस दौरे पर कार्यकर्ता न्यूयोर्क में कोलोम्बिया यूनिवर्सिटी में शुक्रवार को एक सत्र को संबोधित करेंगे। वह अगले बुधवार को वांशिगटन में जॉर्जटाउन यूनिवर्सिटी की यात्रा भी करेंगे। एक स्वतंत्र निगरानी समूह फ्रीडम हाउस, जो समस्त विश्व में आज़ादी पर निगरानी रखता है भी वोंग और अन्य कार्यकर्ताओं के लिए अगले मंगलवार को एक ब्रीफिंग की मेजबानी करेंगे।

इससे पूर्व वोंग ने जर्मनी की यात्रा की थी जहां उन्होंने निरंतर कॉलम लिखने के लिए सन्डे एडिशन ऑफ़ डाई वेल्ट के साथ एक समझौते पर दस्तखत किये थे। हांगकांग को ब्रिटेन ने अपनी राजशाही छोड़ने के बाद चीन के सुपुर्द कर दिया था और इसे स्वायत्तता प्रदान की थी।

ब्रिटेन के साथ समझौते के तहत चीन ने वादा किया कि हांगकांग साल 2047 तक मुक्त बाज़ार प्रणाली और लोकतान्त्रिक आज़ादी को कायम रख सकता है। लेकिन हजारो प्रदर्शनाकरियो ने विरोध किया कि चीन उनकी आज़ादी पर अतिक्रमण कर रहा है।

वांशिगटन में वोंग हांगकांग में मानव अधिकार के समर्थन और डेमोक्रेसी एक्ट पर बात करेंगे। अमेरिका के रक्षा विभाग की सचिव रंदेल स्च्रिवर ने कहा था कि “हम हांगकांग में अभिव्यक्ति की आज़ादी का सम्मान करते हैं हमें लगता हिया कि यह एक अधिकार है जिसकी गारंटी आधारभूत कानून में दी गयी है। इसलिए हम आशावादी है कि यह हांगकांग की जनता हांगकांग के प्रशासन इस मामले का हल निकाल लेंगे।”

About the author

कविता

कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!