दा इंडियन वायर » समाचार » इस रविवार अमेरिका के जलवायु दूत जॉन केरी आएंगे भारत
विदेश समाचार

इस रविवार अमेरिका के जलवायु दूत जॉन केरी आएंगे भारत

विदेश विभाग ने शुक्रवार को कहा कि जलवायु के लिए अमेरिका के विशेष राष्ट्रपति के दूत जॉन केरी 12-14 सितंबर तक भारत की यात्रा करेंगे। विभाग के अधिकारीयों ने बताया कि, “वैश्विक जलवायु महत्वाकांक्षा को बढ़ाने और भारत के स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण को गति देने के प्रयासों पर चर्चा करने के लिए जॉन केरी कई बैठकें करेंगे।

विभाग ने एक बयान में कहा कि अपनी यात्रा पर केरी अपने भारतीय समकक्षों और निजी क्षेत्र के नेताओं से मुलाकात करेंगे। अमेरिकी जलवायु दूत केरी पार्टियों के 26वें संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन या सीओपी26 में अमेरिका की भागीदारी के लिए आधार तैयार कर रहे हैं, जो 31 अक्टूबर से 12 नवंबर तक ब्रिटेन के ग्लासगो में आयोजित किया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों के साथ बातचीत के लिए पिछले सप्ताह जापान और चीन की यात्रा की।

उनकी यात्रा के दौरान भारत और अमेरिका क्लाइमेट एक्शन एंड फाइनेंस मोबिलाइजेशन डायलॉग (सीएएफएमडी) लॉन्च करेंगे। यह यूएस-इंडिया एजेंडा 2030 पार्टनरशिप के दो मुख्य ट्रैक में से एक है, जिसकी घोषणा अप्रैल 2021 में राष्ट्रपति बिडेन और प्रधान मंत्री मोदी ने जलवायु पर लीडर्स समिट में की थी। .

अप्रैल में जॉन केरी ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बात की थी कि कैसे संयुक्त राज्य अमेरिका ग्लोबल वार्मिंग के खिलाफ लड़ाई में वैकल्पिक ऊर्जा के उत्पादन में जोखिम को कम करने के लिए फण्ड जुटाने में मदद कर सकता है। भारत चीन और संयुक्त राज्य अमेरिका के बाद ग्रीनहाउस गैसों का दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा उत्सर्जक है, यद्यपि उन देशों की तुलना में प्रति व्यक्ति उत्सर्जन बहुत कम है।

इससे पहले प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने निवेश जुटाने और हरित सहयोग को सक्षम करने के लिए भारत-अमेरिका जलवायु और स्वच्छ ऊर्जा साझेदारी की घोषणा की थी।

पिछले महीने अमेरिका द्वारा आयोजित जलवायु पर वर्चुअल लीडर्स समिट में पीएम मोदी ने कहा था कि, “एक जलवायु-जिम्मेदार विकासशील देश के रूप में, भारत में सतत विकास के खाके बनाने के लिए भागीदारों का स्वागत करता है। ये अन्य विकासशील देशों की भी मदद कर सकते हैं, जिन्हें हरित वित्त और स्वच्छ प्रौद्योगिकियों तक सस्ती पहुंच की आवश्यकता है।”

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!