Fri. May 24th, 2024
    जेल से बाहर आते ही कांग्रेस नेता सिद्धू ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- ‘देश में लोकतंत्र जंजीरों में जकड़ा हुआ है’

    पंजाब के कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू 34 साल पहले एक व्यक्ति की हत्या करने वाले रोड रेज मामले में कैद होने के 10 महीने बाद शनिवार को जेल से बाहर आ गए। पंजाब के पटियाला में जेल से बाहर आने के बाद सिद्धू ने केंद्र पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि देश में लोकतंत्र जंजीरों में जकड़ा हुआ है और संस्थाएं गुलाम हो गई हैं।

    उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र उस राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाना चाहता है जहां भाजपा की धुर प्रतिद्वंद्वी आम आदमी पार्टी सत्ता में है। सिद्धू ने पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को “अखबरी मुख्‍यमंत्री” बताया और कानून व्यवस्था और कर्ज के मुद्दों पर उनकी सरकार की आलोचना की। 

    सिद्धू ने कहा, “पंजाब में राष्ट्रपति शासन लगाने की साजिश है। वे पंजाब को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं। मैं राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और हर कांग्रेस कार्यकर्ता के साथ दीवार की तरह खड़ा हूं।”

    सिद्धू ने कहा, ‘मैं अपने छोटे भाई भगवंत मान से पूछना चाहता हूं। आपने पंजाब के लोगों को बेवकूफ क्यों बनाया? जिन्हें आज निर्धारित समय से आठ घंटे बाद जेल से रिहा किया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार चाहती है कि उन्हें रिहा करने से पहले मीडिया वहां से चले जाएं।

    सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल मई में सिद्धू को एक साल के “कठोर कारावास” का आदेश दिया था, जो तब तक राज्य के चुनाव में अपनी पार्टी की हार के बाद पंजाब कांग्रेस प्रमुख के रूप में पद छोड़ चुके थे।

    1988 के रोड रेज मौत के मामले में करीब 10 महीने जेल में बिताने वाले सिद्धू शनिवार को रिहा होकर बाहर आए। पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष को मई 2022 में 65 वर्षीय गुरनाम सिंह की मौत के मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा एक साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाए जाने के बाद जेल भेज दिया गया था।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *