Wed. Oct 5th, 2022

    भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा कथित तौर पर की गई व्यापक हिंसा के बीच दो दिवसीय यात्रा पर आज पश्चिम बंगाल पहुंचेंगे। भगवा पार्टी के दावे के मुताबिक, विधानसभा चुनाव के नतीजों की घोषणा के बाद हुई हिंसा में नौ भाजपा कार्यकर्ताओं की जान चली गई है। नड्डा ने कहा कि हिंसा से प्रभावित लोगों के परिवारों से मुलाकात की जाएगी। 

    भाजपा ने ट्वीट करते हुए कहा की “भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा 4-5 मई को पश्चिम बंगाल का दौरा करेंगे, जहां  विधानसभा चुनाव के परिणाम को मद्देनजर रखते हुए तृणमूल कांग्रेस के गुंडों ने भाजपा कार्यकर्ताओं और समर्थकों पर व्यापक हिंसा की है। उन्होंने यह भी कहा कि वह प्रभावित कार्यकर्ताओं के परिवारों से मिलने जाएंगे”।

    इससे पहले भाजपा ने यह फैसला लिया था कि वह तृणमूल कांग्रेस द्वारा पार्टी कार्यकर्ताओं पर कथित अत्याचार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन आयोजित करेगी। भाजपा ने 5 मई को पार्टी के सभी संगठनात्मक मंडलों के साथ मिलकर देशव्यापी धरना देने की घोषणा की है। इस धरने में सभी कोविड प्रोटोकॉल का मूल रूप से पालन किया जाएगा।

    “भाजपा 5 मई को टीएमसी कार्यकर्ताओं द्वारा पश्चिम बंगाल में चुनाव परिणाम के बाद व्यापक हिंसा के खिलाफ देशव्यापी धरने की घोषणा कर रही है। यह विरोध प्रदर्शन भाजपा के सभी संगठनात्मक मंडलों में सभी कोविड प्रोटोकॉल के साथ होगा”। – भाजपा ने ट्वीट किया

    भाजपा के एक बयान में कहा गया है की चुनाव परिणामों के 24 घंटों के भीतर, कई भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी गई है। कई कार्यकर्ता गंभीर रूप से घायल हुए हैं। पार्टी के कई कार्यकर्ताओं के घर, ऑफिस और दुकानों को भी जला दिया गया है। ममता बनर्जी की नंदीग्राम से हार और तृणमूल कांग्रेस की कल के चुनाव परिणामों में जीत के बाद तृणमूल कांग्रेस के गुंडों ने हिंसा और खून से जीत का जश्न मनाना शुरू कर दिया। भाजपा ने इसकी कड़ी निंदा की है।

    इस बीच, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने भी आरोप लगाया है कि 15-20 टीएमसी कार्यकर्ताओं ने कोलकाता कार्यालय में एबीवीपी कार्यकर्ताओं पर हमला किया और विवाद में उलझे रहे। इसके अलावा, टीएमसी कार्यकर्ताओं ने संगठन के कार्यालय में भी तोड़फोड़ की है।

    एबीवीपी ने कहा, “नंदीग्राम में ममता बनर्जी की हार ने टीएमसी गुंडों को उसके नुकसान के लिए जिम्मेदार बना दिया था और इस तरह के ‘देशद्रोहियों’ को लंबे समय तक बंगाल में रहने नहीं दिया जाएगा”।

    By दीक्षा शर्मा

    गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से LLB छात्र

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.