Thu. Jun 13th, 2024
    जिओ गीगाफाइबर

    पिछले एक साल में जिओ की गीगाफाइबर ब्रॉडबैंड सेवाओं ने बहुत सुर्खियाँ बटोरी हैं। ऐसा खासकर इसकी स्पीड को लेके हुआ है। माना जा रहा है की इस ब्रॉडबैंड के प्रदाता 1 Gbps स्पीड प्रदान करने का वादा करते हैं। हालांकि अभी इसके लांच के लिए कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया गया है।

    मार्च में हो सकता है लांच :

    जिओ ब्रॉडबैंड के सन्दर्भ में सबसे लेटेस्ट रिपोर्ट का यह कहना है की जिओ द्वारा ब्रॉडबैंड सेवाएं 2019 की पहली तिमाही में लांच की जायेंगी। इसके साथ ही उसका यह कहना है की मार्च में इन सेवाओं के शुरू होने की सबसे ज्यादा संभावना मार्च में है ऐसा रिपोर्ट में बताया गया है।

    प्लान, मूल्य और इंस्टालेशन की जानकारी :

    जिओ द्वारा हालांकि लांच करने की तारीख की पुष्टि नहीं की गयी है, लेकिन गीगाफाइबर ब्रॉडबैंड में उपलब्ध प्लान, उनका मूल्य और इंस्टालेशन मूल्य आदि के बारे में जानकारी जारी कर दी गयी हो।

    हालांकि जिओ के प्लान और उनकी कीमतों की आधिकारिक पुस्ष्टि होना बाकी है, उम्मीद लगाई जा रही है की इन प्लानों की शुरुआत 500 रूपए से शुरू होगी जिसके अंतर्गत ग्राहकों को 100 Mbps स्पीड पर 300 GB डाटा मिलेगा।

    दूसरी ओर, जिओ गीगाफाइबर प्रिव्यू ऑफर की भी घोषणा की गई है, जिसके तहत सभी नए जिओ गीगाफाइबर कनेक्शन पहले तीन महीनों के लिए 100Mbps पर मासिक 100GB के पूरक डेटा के साथ ग्राहकों को पेश किये जायेंगे।

    ग्राहक मुफ्त में करा सकेंगे इंस्टालेशन :

    प्लान की घोषणा करने के साथ-साथ जिओ ने यह भी कहा है की गीगाफाइबर ब्रॉडबैंड सेवा का इंस्टालेशन मुफ्त में किया जायेगा। लेकिन  सब्सक्राइबर्स को सिक्योरिटी के रूप में 4500 रूपए जमा कराने होंगे जोकि रिफंड किये जा सकेंगे।

    1100 शहरों से की जायेगी शुरुआत :

    जिओ ने यह भी जानकारी दी है की गीगाफाइबर की शुरुआत पहले 1100 शहरों से की जायेगी और इसके बाद जों शहरों से ज्यादा लोग आवेदन करेंगे उन्ही शहरों में यह सर्विस शुरू की जायेगी। इसका मतलब पहले 1100 शहरों के बाद आवेदन के हिसाब से इस सुविधा को दुसरे शहरों में शुरू किया जाएगा।

    इसकी शुरुआत में परिक्षण के बाद यह परिणाम सामने आये हैं की यह औसत 700 Mbps की स्पीड प्रदान करेगा।

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *