Sun. May 19th, 2024
    एयरटेल वोडाफोन और जिओ

    टेलिकॉम बाज़ार में जिओ के प्रवेश के बाद से प्रतिस्पर्धा में बहुत तेज बढ़ोतरी हुई है। इससे अन्य टेलिकॉम प्रदाताओं के उपभोक्ता कम हुए और आय में भी गिरावट आई। इसके कारण उन पर दबाव पड़ा जिससे बे अब लगातार अपनी सुविधाओं में सुधार कर शीर्ष पर बने रहना चाहते हैं और ग्राहकों को नहीं खोना चाहते हैं।

    हालांकि बढ़ी हुई प्रतिस्पर्ध का ग्राहकों को बहुत फायदा मिला है। सबसे अहम् फायदा तो यह हुआ है की उस्विधोँ के दाम बहुत कम हो गए हैं जहा पहले 1 GB इन्टरनेट के लिए 100 रूपए या उससे ज्यादा देने होते थे आज उसके लिए 1 या 2 रूपए लगते हैं। इसके साथ साथ अब ग्राहकों को मिलने वाले विकल्पों की संख्या भी बढ़ गयी है। अतः यदि अब ग्राहक एक प्रदाता से संतुष्ट नहीं है तो वह दुसरे प्रदाता की सुविधाओं का प्रयोग शुरू कर सकता है।

    हाल ही में Ookla द्वारा इन सभी टेलिकॉम प्रदाताओं की सुविधाओं की गुणवत्ता के आंकड़े पेश किये हैं। इनमे प्रदाताओं की इन्टरनेट स्पीड, नेटवर्क उपलब्धता आदि जांच की गयी थी। आइये जानते हैं कोनसा टेलिकॉम प्रदाता सबसे बेहतर है।

    4G नेटवर्क उपलब्धता में जिओ शीर्ष पर:

    ऊक्ला द्वारा पेश की गयी रिपोर्ट में कहा गया है की दुसरे प्रदाताओं की तुलना में जिओ की देश भर में सामान्य उप्लाब्द्थ्ता अच्छी थी।ऊक्ला द्वारा किये गए ग्राहकों के सर्वेक्षण में जिओ ने कुल 99.3 अंक हासिल किये जिनसे जिओ पहले स्थान पर रहा। Jio के बाद एयरटेल का 99.1 प्रतिशत का सामान्य उपलब्धता स्कोर था, जबकि वोडाफोन और आइडिया ने क्रमशः 99 प्रतिशत और 98.9 प्रतिशत के सामान्य उपलब्धता स्कोर के साथ तीसरा और चौथा स्थान प्राप्त किया।

    4G स्पीड के मामले में जिओ एयरटेल से पीछे :

    हालांकि देश भर में जिओ अपनी उपलब्धता के मामले में शीर्ष पर है, लेकिन 4G इन्टरनेट स्पीड के मामले में जिओ एयरटेल को नहीं पछाड़ पाया। 11.23 एमबीपीएस की औसत गति स्कोर के साथ एयरटेल सबसे तेज दूरसंचार ऑपरेटर रहा।  Ookla के अनुसार, गति स्कोर एक संयुक्त मीट्रिक है जो कई प्रदर्शन स्तरों में अपलोड और डाउनलोड गति को ध्यान में रखता है। एयरटेल के बाद वोडाफोन द्वारा 9.13 एमबीपीएस की स्पीड स्कोर के साथ दूसरा स्थान लिया, जबकि जियो ने 7.11 एमबीपीएस स्पीड स्कोर के साथ तीसरा स्थान हासिल किया।

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *