मंगलवार, दिसम्बर 10, 2019

Reliance Jio ने अनिल अम्बानी की RCom की पिछली बकाया राशी भरने से किया इनकार

Must Read

दिल्ली अनाज मंडी अग्निकांड : सीबीआई जांच, न्यायिक जांच की याचिका खारिज

दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को अनाज मंडी अग्निकांड की न्यायिक और सीबीआई जांच की मांग वाली याचिका खारिज...

मध्य प्रदेश भाजपा नेता प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल कर दी गई है। विधानसभाध्यक्ष एन. पी....

‘कुंग फू पांडा’ के निर्देशक जॉन स्टीवेन्सन भारत में काम करने को हैं तैयार

ऑस्कर के लिए नामांकित फिल्म निर्माता और अनुभवी एनिमेटर जॉन स्टीवेन्सन 'कुंग फू पांडा' और 'शरलॉक गोम्स' जैसी अपनी...
विकास सिंह
विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

अनिल अम्बानी की रिलायंस कम्युनिकेशन के लिए मुश्किलें ख़त्म होने का नाम ही नहीं ले रही हैं। बुधवार को दूरसंचार विभाग के साथ एक मीटिंग में जिओ ने यह साफ़ कह दिया की जिओ एवं रिलायंस कम्युनिकेशन के इस समझोते में रिलायंस की पिछली बकाया राशी भरने में जिओ की कोई ज़िम्मारी नहीं होगी। अर्थात रिलायंस जिओ की बकाया राशी जिओ नहीं भरेगा।

क्यों हुई थी मीटिंग ?

बुधवार को त्रिपक्षीय मीटिंग आरकॉम, जिओ एवं दूरसंचार विभाग के बीच लंबित NOC पर एक समझोते पर पहुचने के लिए की गयी थी। यह NOC आरकॉम एवं जिओ के बीच एक सौदे के लिए ज़रूरी है। लेकिन जिओ ने अपना मत नहीं बदला है। इस सौदे का अंतिम परिणाम अब आरकॉम के साथ है, जिसमें सुप्रीम कोर्ट में डीओटी के रुख को चुनौती देने का विकल्प है।

इससे पहले दूरसंचार विभाग ने जोर देकर कहा था की आरकॉम 30 अरब रुपयों की बैंक गारंटी देगा। इस पर आरकॉम ने उन्हें ज़मीन की गारंटी देनी चाहि जिसपे DOT मुकर गया था। इसका कारन यह था की बैंक गारंटी आसानी से नकदी बनायी जा सकती है।

आरकॉम एवं जिओ के बीच सौदा

आरकॉम ने हाल ही में अपने ऋणों को कम करने के लिए जिओ के साथ एक सौदा तय किया है जिसके अंतर्गत वह जिओ को 250 अरब रूपए में अपनी टावर परिसम्पतियाँ बेचेगा। ऐसा करने से वह अपने पिछले ऋण चुका पायेगा लेकिन दूरसंचार विभाग ने इसकी मंजूरी नहीं दी है। उनका यह मत है की रिलायंस पहले दूरसंचार विभाग में बाकी क़र्ज़ चुकाए उसके बाद ही उसे जिओ के सौदे की अनुमति दी जायेगी।

जिओ ने किया सहायता से इनकार

अब इस सौदे का परिणाम आरकॉम के हाथों में है यदि वह पहले अपने पिछले ऋण चुका देता है तो यह सौदा हो जाएगा लेकिन अगर ऐसा नहीं कर पाटा है तो इस सौदे को मंज़ूरी नहीं मिल पाएगी। जिओ ने इस मामले में रिलायंस कम्युनिकेशन की किसी भी तरह की सहायता करने से इनकार कर दिया है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली अनाज मंडी अग्निकांड : सीबीआई जांच, न्यायिक जांच की याचिका खारिज

दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को अनाज मंडी अग्निकांड की न्यायिक और सीबीआई जांच की मांग वाली याचिका खारिज...

मध्य प्रदेश भाजपा नेता प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल कर दी गई है। विधानसभाध्यक्ष एन. पी. प्रजापति ने लोधी को उच्च...

‘कुंग फू पांडा’ के निर्देशक जॉन स्टीवेन्सन भारत में काम करने को हैं तैयार

ऑस्कर के लिए नामांकित फिल्म निर्माता और अनुभवी एनिमेटर जॉन स्टीवेन्सन 'कुंग फू पांडा' और 'शरलॉक गोम्स' जैसी अपनी फिल्मों के लिए जाने जाते...

चिली का सैन्य विमान लापता, 38 लोग थे सवार

अंटार्कटिका जा रहा चिली का एक सैन्य विमान सोमवार को लापता हो गया। विमान में 38 लोग सवार थे। देश की वायु सेना ने...

लोकसभा में 311 मतों के समर्थन के साथ पारित हुआ नागरिकता संशोधन विधेयक

लोकसभा में आखिरकार सोमवार की आधी रात के बाद नागरिकता संशोधन विधेयक पारित कर दिया। जिसमें पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आने वाले गैर-मुस्लिम...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -