शुक्रवार, नवम्बर 15, 2019

मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जिओ और अनिल अंबानी की आरकॉम को DoT का कर्ज चुकाने पर समझौते के लिए मिले तीन हफ्ते

Must Read

दीदी के चाहने वालों की दुआओं ने किया असर, लता मंगेशकर की स्थिति में सुधार

स्वर कोकिला लता मंगेशकर को सांस लेने में तकलीफ होने के चलते सोमवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया...

भोपाल गैस पीड़ितों के हक के लड़ाई लड़ने वाले अब्दुल जब्बार का निधन

भोपाल गैस पीड़ितों के हक की लड़ाई को राजनीतिक दलों और तमाम गैर सरकारी संगठनों ने भले ही स्वार्थ...

जमैका के विश्व प्रसिद्ध धावक योहान ब्लेक भारत में प्रमोट करेंगे रोड़ सेफ्टी

वर्ल्ड एवं ओलम्पिक 100 मीटर और 200 मीटर चैम्पियन जमैका के योहान ब्लेक रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज को प्रोमोट...
विकास सिंह
विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने रिलायंस जिओ एवं रिलायंस कम्युनिकेशन को तीन हफ़्तों का समय दिया गया है। इस समय में उन्हें निष्कर्ष पर आना होगा की DoT पर बकाया पिछला कर्ज कोण भरेगा। ऐसा करना रिलायंस कम्युनिकेशन एवं रिलायंस जिओ के बीच होने वाले सौदे की मंजूरी के लिए जरूरी है।

सुप्रीम कोर्ट का आर्डर :

शीर्ष अदालत ने कहा था कि दूरसंचार विभाग (डीओटी) आरकॉम और जिओ द्वारा पिछले बकाए को लेकर अपने बीच के मसले को हल करने के बाद ही इस सौदे के लिए आवश्यक अनापत्ति प्रमाणपत्र देगा। न्यायाधीश ने 7 जनवरी को अंतिम सुनवाई के दौरान कहा “बैठो और इसे अपने बीच में हल करो, यह हमारे लिए नहीं है। जब तक आप अपने बीच का समाधान नहीं करते, तब तक हम कुछ नहीं कर सकते। ”

आरकॉम एवं जिओ के सौदे की जानकारी :

रिलायंस जिओ एवं रिलायंस कम्युनिकेशन सौदा

आरकॉम ने हाल ही में अपने ऋणों को कम करने के लिए जिओ के साथ एक सौदा तय किया है जिसके अंतर्गत वह जिओ को 250 अरब रूपए में अपनी टावर परिसम्पतियाँ बेचेगा। ऐसा करने से वह अपने पिछले ऋण चुका पायेगा लेकिन दूरसंचार विभाग ने इसकी मंजूरी नहीं दी है। उनका यह मत है की रिलायंस पहले दूरसंचार विभाग में बाकी क़र्ज़ चुकाए उसके बाद ही उसे जिओ के सौदे की अनुमति दी जायेगी।

जिओ ने किया था सहायता से इनकार :

अब इस सौदे का परिणाम आरकॉम के हाथों में है यदि वह पहले अपने पिछले ऋण चुका देता है तो यह सौदा हो जाएगा लेकिन अगर ऐसा नहीं कर पाता है तो इस सौदे को मंज़ूरी नहीं मिल पाएगी। जिओ ने इस मामले में रिलायंस कम्युनिकेशन की किसी भी तरह की सहायता करने से इनकार कर दिया था। अतः जिओ की तरफ से रिलायंस कम्युनिकेशन को कोई भी आशा नहीं रही।

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने रिलायंस कम्युनिकेशन के सामने शर्त रखी थी की उनके इस सौदे को तभी मंजूरी मिल पाएगी जब वह इस शर्त की पालना होगी। शर्त थी की दो दिनों के भीतर सरकार को कॉर्पोरेट गारंटी के रूप में पूर्व में 1,400 करोड़ रुपये मिले। रिलायंस रियल्टी, आरकॉम की एक इकाई द्वारा प्रस्तुत की जाने वाली यह कॉर्पोरेट गारंटी, भूमि पार्सल के अतिरिक्त थी जिसे टीडीसैट के आदेश के अनुसार सुरक्षा प्रदान की जानी थी। DoT ने रिलायंस जियो को अपनी स्पेक्ट्रम बिक्री को मंजूरी देने के लिए रिलायंस कम्युनिकेशन को बकाया स्पेक्ट्रम शुल्क के लिए 2,950 करोड़ रुपये की बैंक गारंटी प्रदान करने के लिए कहा था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दीदी के चाहने वालों की दुआओं ने किया असर, लता मंगेशकर की स्थिति में सुधार

स्वर कोकिला लता मंगेशकर को सांस लेने में तकलीफ होने के चलते सोमवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया...

भोपाल गैस पीड़ितों के हक के लड़ाई लड़ने वाले अब्दुल जब्बार का निधन

भोपाल गैस पीड़ितों के हक की लड़ाई को राजनीतिक दलों और तमाम गैर सरकारी संगठनों ने भले ही स्वार्थ के चाहे जिस चश्मे से...

जमैका के विश्व प्रसिद्ध धावक योहान ब्लेक भारत में प्रमोट करेंगे रोड़ सेफ्टी

वर्ल्ड एवं ओलम्पिक 100 मीटर और 200 मीटर चैम्पियन जमैका के योहान ब्लेक रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज को प्रोमोट करने भारत आएंगे। इस सीरीज...

वायु गुणवत्ता रैंकिंग के आधार पर शुक्रवार को दिल्ली रहा विश्व का सर्वाधिक प्रदूषित शहर

विश्व वायु गुणवत्ता सूचकांक रैंकिंग पर एयर विजुअल के आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली ने शुक्रवार को 527 एआईक्यू के साथ दुनिया का सबसे प्रदूषित...

भारत बांग्लादेश टेस्ट मैच: मयंक, राहणे ने जमाए पैर, 153 रनों से भारत की बढ़त

मयंक अग्रवाल और उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे ने यहां होल्कर स्टेडियम में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के दूसरे दिन शुक्रवार को चायकाल तक...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -