Wed. Feb 1st, 2023
    जापान

    जापान (Japan) ने गुरुवार को दक्षिण कोरिया (South Korea) के प्रस्तावित प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया है। इस प्रस्ताव की पेशकश युद्धरत मजदूरों को मुआवजा देने संयुक्त फंड की स्थापना का प्रस्ताव था। यह मुद्दा दोनों सरकारों के बीच सबसे कड़वा मतभेद का कारण है।

    प्रमुख कैबिनेट सेक्रेटरी योशिहिदे सुगा ने कहा कि प्रस्तावित फंड इस मुद्दे को हल नहीं होगा। दक्षिण कोरियाई प्रस्ताव पूरी तरह अस्वीकार्य है। हम दक्षिण कोरिया से मध्यस्थता रजामंद हो जाने का आग्रह करते रहेंगे।”

    दक्षिण कोरिया की अदालतों से जापानी कंपनियों को युद्धरत मज़दूरों को मुआवजा देने के आदेश के बाद से दोनों अमेरिकी सहयोगियों के बीच संबंधों में तनाव में काफी तेजी आई है। जापान की सरकार और इसमें शामिल फर्मों ने निर्णयों को अस्वीकार कर दिया है।  जिसमें टोक्यो ने कहा कि “जब दोनों देशों के संबंध सामान्य हो तब इस मुद्दे को सुलझा लिया गया था।”

    पिछले महीने, टोक्यो ने इस मुद्दे का प्रस्ताव 1965 के समझौते के तहत रखा था, जब दोनों देशों के बीच संबंध सामान्य थे। यह समझौता दोनों देशों के लिए एक मध्यस्थता पैनल गठित करना है अगर वे राजनयिक वार्ताओं के माध्यम से विवाद को हल नहीं कर सकते हैं।

    दक्षिण कोरिया ने बुधवार को एक और प्रस्ताव की पेशकश की जो दक्षिण कोरियाई और जापानी फर्म पीड़ितों को मुआवजा देने के लिए एक स्वैच्छिक कोष स्थापित किया जाना था। सियोल ने एक बयान में कहा “अगर टोक्यो हमारे प्रस्ताव को स्वीकार करता है, तो हमारी सरकार जापानी सरकार के आग्रह की समीक्षा के लिए इच्छुक है।”

    जापान और दक्षिण कोरिया दोनों लोकतान्त्रिक देश, बाज़ारी अर्थव्यवस्था और अमेरिकी सहयोगी हैं, लेकिन कोरियाई प्रायद्वीप पर टोक्यो के साल 1910 से 45 तक क्रूर औपनिवेशिक शासन के लिहाज से दशकों से दोनों देशों के संबंध तनावपूर्ण रहे हैं।

    जब संबंधों को सामान्य हो  गए थे तो टोक्यो एक पुनर्मूल्यांकन पैकेज पर सहमत हुआ था। जिसमें अनुदान और सास्ता कर्ज शुमार था। यह युद्धकालीन नीतियों के पीड़ितों के लिए माव्जा था। जापान का तर्क है कि पैकेज को समस्या का स्थायी समाधान करना चाहिए था।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *