दा इंडियन वायर » विदेश » 2005 के बाद अब जर्मनी में बन सकती है एसडीपी की सरकार; एंजेला मर्केल की पार्टी दुसरे स्थान पर
विदेश

2005 के बाद अब जर्मनी में बन सकती है एसडीपी की सरकार; एंजेला मर्केल की पार्टी दुसरे स्थान पर

जर्मन सोशल डेमोक्रेट ओलाफ स्कोल्ज़ ने सोमवार को यूरोपीय संघ को मजबूत करने और तीन-तरफा गठबंधन सरकार में ट्रान्साटलांटिक साझेदारी को बनाए रखने का वादा किया। वह उम्मीद कर रहे हैं कि क्रिसमस तक एंजेला मर्केल के रूढ़िवादियों से सत्ता स्थानांतरण का कार्यक्रम पूरा हो जाएगा।

ओलाफ स्कोल्ज़ की सोशल डेमोक्रेट्स (एसपीडी) रविवार के राष्ट्रीय चुनाव में पहलेस्थान पर रहे। उनके बाद एंजेला मर्केल की रूढ़िवादी पार्टी काबिज़ रही। 2005 के बाद पहली बार सोशल डेमोक्रेट्स ने ग्रीन्स और लिबरल फ्री डेमोक्रेट्स (एफडीपी) के साथ गठबंधन में सरकार का नेतृत्व करने का लक्ष्य रखा है।

63 वर्षीय ओलाफ स्कोल्ज़ ने यह पूछे जाने पर कि क्या निकट चुनाव परिणाम और लंबे समय तक गठबंधन वार्ता की संभावना ने जर्मनी में अपने यूरोपीय सहयोगियों को अस्थिरता का संदेश भेजा है, उन्होंने शांत आश्वासन की भावना की और संकेत दिया।

शीत युद्ध के युग के एसपीडी चांसलर को पूर्व और पश्चिम के बीच संवाद को बढ़ावा देने के लिए नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित विली ब्रांट की एक प्रतिमा के पास खड़े होकर कहा कि, “जर्मनी में हमेशा गठबंधन सरकारें बनती रहीं हैं और यह हमेशा से ही स्थिर भी रहीं हैं।”

जर्मनी की सबसे पुरानी पार्टी एसपीडी ने 25.7% वोट हासिल किए जो 2017 के संघीय चुनाव से पांच प्रतिशत अंक ऊपर है। अनंतिम परिणामों के अनुसार 24.1% वोटों के साथ एंजेला मर्केल के सीडीयू/सीएसयू रूढ़िवादी ब्लॉक दुसरे स्थान पर रहा। वहीँ ग्रीन्स और एफडीपी ने क्रमशः 14.8% और 11.5%वोट हासिल किये।

2020 में अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में डेमोक्रेट जो बिडेन के चुनाव के बाद एसपीडी की वापसी यूरोप के कुछ हिस्सों में केंद्र-वाम दलों के लिए एक अस्थायी पुनरुद्धार का प्रतीक है। नॉर्वे के केंद्र-वाम विपक्षी दल ने भी इस महीने की शुरुआत में चुनाव जीता है।

एंजेला मर्केल के निवर्तमान ‘महागठबंधन’ में वित्त मंत्री के रूप में कार्य करने वाले ओलाफ स्कोल्ज़ ने कहा कि उनके नेतृत्व वाली सरकार ट्रान्साटलांटिक संबंधों में यू.एस. निरंतरता की पेशकश करेगी। उन्होंने आगे कहा कि, “जर्मनी में हमारे लिए ट्रान्साटलांटिक साझेदारी महत्वपूर्ण है इसलिए आप इस सम्बन्ध में निरंतरता पर भरोसा कर सकते हैं।”

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!