बुधवार, जनवरी 22, 2020

जयशंकर ने चीनी समकक्षी से की मुलाकात, कहा- भारत-चीन संबंधों का वैश्विक राजनीति में अनोखा स्थान है

Must Read

मायावती ने स्वीकर की गृहमंत्री शाह की चुनौती, कहा बसपा कहीं भी सीएए पर बहस को तैयार

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) व एनआरसी को लेकर गृहमंत्री अमित...

टोक्यो ओलंपिक : पाल सिंह संधू को महिला वेटलिफ्टर मीराबाई चानू से पदक की उम्मीद

भारोत्तोलन में भारत के पहले द्रोणाचार्य अवार्डी विजेता पाल सिंह संधू को उम्मीद है कि अनुभवी महिला वेटलिफ्टर साइखोम...

इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च का अनुमान, वित्त वर्ष 2021 में जीडीपी वृद्धि दर 5.5 फीसदी

इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च ने बुधवार को कहा कि उसे उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2021 में सकल घरेलू...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार को चीनी समकक्षी वांग यी से मुलाकात की थी और संयुक्त हित के वैश्विक व क्षेत्रीय मामलो पर चर्चा की थी। जयशंकर तीन दिवसीय चीन की यात्रा पर है और वह दूसरी भारत-चीन हाई लेवल मैकेनिज्म की बैठक की सह अध्यक्षता करेंगे।

जयशंकर ने कहा कि “वैश्विक राजनीति में भारत के साथ चीन के संबंधो का अनोखा स्थान है और वर्षों से ऐसा ही है।” मई में सत्ता पर आसीन होने के बाद जयशंकर की चीन की यह पहली अधिकारिक यात्रा है। वह रविवार को बीजिंग पंहुचे थे और इस दौरान भारत और पाक के सम्बन्ध बेहद तनावग्रस्त है।

एचएलएम के गठन का निर्णय मोदी और जिनपिंग के बीच पहली अनौपचारिक मुलाकात के दौरान लिया गया था, जो बीते वर्ष वुहान में आयोजित हुई थी। एचएलएम बैठक का उद्घाटन समारोह बीते वर्ष 21 दिसम्बर को नई दिल्ली में हुआ था।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि “दूसरी एचएलएम बैठक के दौरान पहली एचएलएम बैठक के परिणामो पर चर्चा की जाएगी और दोनों देशों के बीच जनता से जनता के संबंधों के विस्तार के नए पहलुओं पर चर्चा की जाएगी।” वांग के साथ बैठक में जयशंकर ने दोहराया कि वुहान सम्मेलन में हमारे नेताओं ने गहन, परामर्श और खुले विचारो को साझा किया गया था।

जयशंकर ने बीते महीने बैंकाक में आसियान सम्मेलन के इतर चीनी समकक्षी से मुलाकात की थी। इस दौरान दोनों नेताओं ने अपने विचारो का आदान प्रदान किया था और भारत चीन संबंधों को मज़बूत करने के तरीको पर चर्चा की थी।

बीते हफ्ते भारत ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटा दिया था और इसकी इस्लामाबाद ने सख्त आलोचना की थी। भारत के साथ द्विपक्षीय संबंधों को निलंबित करना भी शामिल है। जयशंकर की यात्रा से पूर्व पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने चीन की यात्रा की थी और चीनी समकक्षी के साथ कश्मीर मुद्दे को उठाया था।

वांग के साथ मुलाकात में कुरैशी ने मांग की कि “इस वक्त विश्व अत्यधिक अनिश्चित है, हमने यकीन है कि हमारे सम्बन्ध इस इलाके में स्थिरता का कारक होगा।” चीन ने हाल ही में 370 को हटाने के सरकार के निर्णय की आलोचना की थी। भारत ने बयान जारी कर कहा कि यह कदम एक आंतरिक मामला है।”

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

मायावती ने स्वीकर की गृहमंत्री शाह की चुनौती, कहा बसपा कहीं भी सीएए पर बहस को तैयार

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) व एनआरसी को लेकर गृहमंत्री अमित...

टोक्यो ओलंपिक : पाल सिंह संधू को महिला वेटलिफ्टर मीराबाई चानू से पदक की उम्मीद

भारोत्तोलन में भारत के पहले द्रोणाचार्य अवार्डी विजेता पाल सिंह संधू को उम्मीद है कि अनुभवी महिला वेटलिफ्टर साइखोम मीराबाई चानू आगामी टोक्यो ओलंपिक...

इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च का अनुमान, वित्त वर्ष 2021 में जीडीपी वृद्धि दर 5.5 फीसदी

इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च ने बुधवार को कहा कि उसे उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2021 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर...

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 : आचार संहिता उल्लंघन की 228 एफआईआर दर्ज, आप के खिलाफ फिर 13 मामले

दिल्ली में 8 फरवरी को विधानसभा चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से कराने में जुटे राज्य चुनाव मुख्यालय ने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है। चुनाव...

जम्मू-कश्मीर : संभावित आतंकी हमलों के मद्देनजर गणतंत्र दिवस से पहले हाईअलर्ट

जम्मू-कश्मीर में गणतंत्र दिवस से पहले संभावित आतंकी हमलों की खुफिया सूचना के बाद से हाईअलर्ट घोषित कर दिया गया है। सूत्रों ने कहा कि...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -