दा इंडियन वायर » समाचार » जयपुर ग्रामीण के चुनावी दंगल में राज्यवर्धन सिंह राठौर बनाम कृष्णा पूनिया
राजनीति समाचार

जयपुर ग्रामीण के चुनावी दंगल में राज्यवर्धन सिंह राठौर बनाम कृष्णा पूनिया

rajyavardhan singh rathore krishna poonia

2019 लोकसभा चुनाव में जयपुर ग्रामीण लोकसभा क्षेत्र में इस बार दो ओलंपिक खिलाड़ियों का आमना सामना होगा। जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट से भाजपा सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे राज्यर्वधन सिंह रठौर के खिलाफ कांग्रेस ने डिस्कस थ्रोअर कृष्णा पूनिया को उतारा हैं। राठौर ने 2004 में एथेंस गेम्स में डबल ट्रप में सिलवर मेडल जीता था। जबकि पूनिया ने 2012 के लंदन गेम्स में डिस्कर थ्रोअर की लाजवाब पारी छठे स्थान पर खत्म की।

भाजपा ने पहले ही अपनी सूची में राठौर की उम्मीदवारी सुनिश्चत कर दी थी। लेकिन कांग्रेस द्वारा पूनिया के निर्वाचन क्षेत्र  की घोषणा अचानक की गई। कृष्णा पूनिया ने कहा कि सीएम अशोक गहलोत से बात करने के बाद यह निश्चत हुआ कि कांग्रेस चाहती हैं कि मैं जयपुर ग्रामीण सीट से चुनाव में खड़ी हूँ। पूनिया ने कहां कि  कांग्रेस द्वारा मुझे बुलावा आने पर मैने बिना किसी अभिज्ञांता के इस एक मौके के रुप में स्वीकार किया हैं।

पूनिया ने कहां कि ‘मैं एक किसान की बेटी हूँ और मैं जानती हैं कि ग्रामीण क्षेत्र के लोगों के सामने क्या समस्याए हैं। मैने एयर कंडिशनर हॉल में खेलकर कोई मेडल नही जीता।

दोनों ने ही अपना राजनीतिक करियर 2013 में ही शुरु किया था। 2014 की मोदी लहर में राठौर ने इस लोकसभा सीट को जीता था। मगर पूनिया को दिंसबर 2013 के विधांसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा।

लेकिन पांच सालों का परिदश्य काफी अलग हैं। पूनिया आज सादुलपुर की विधायक हैं उन्होंने बसपा विधायक मनोज न्यागंली और वरिष्ठ नेता राम सिंह कस्वां को 2018 के विधांसभा चुनाव में हराया था।

एथेंस गेम्स में सिलवर मेडल जीतने  के अलावा राठौर ने दो बार वर्ल्ड शूटिंग चैंपियनशिप में दो बार गोल्ड भी जीत चुके हैं। इसके अलावा दो गोल्ड राष्ट्रमंडल खेलों में भी जीते हैं। राजनीति में वह एक स्थाई शख्सियत बन चुके हैं और सियासी पारी में देरी के बावजूद अब वह मंत्री भी बन गए हैं। बीजेपी उनको जिताने  के लिए कोई कसर नही छोड़ने वाली। दूसरी ओर राज्य की सत्ता में वापसी के बाद कांग्रेस भी पूनिया को जिताने में पूरी ताकत झोकेगी।

राज्य में जहां जाति समीकरण एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। जाट समुदाय से आने वाली पूनिया को सजातीय वोटों पर भरोसा हैं। जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट पर 23 प्रतिशत जाट वोटर हैं। राजपूत समुदाय से आने वाले राठौर 2014 में कांग्रेस के दिग्गज नेता सी पी जोशी को हराया था। इस लोकसभा सीट में राजपूत समुदय के 10 प्रतिशत वोट हैं।

About the author

मीता सैनी

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]