छींक का इलाज और छींक रोकने के उपाय

छींक रोकने के उपाय

छींक अक्सर असहजता का कारण बन जाती है लेकिन यह शरीर से बैक्टीरिया निकालने का बहुत भी लाभदायक तरीका होता है।

छींक आने से नाक साफ़ हो जाती है और स्वसन नली में से हानिकारण कण बाहर निकल जाते हैं।

इस लेख में हम छींक से सम्बंधित कुछ विषयों पर चर्चा करेंगे। पहले छींक आने का कारण, फिर छींक का इलाज और अंत में कुछ घरेलु उपायों के बारे में चर्चा करेंगे।

छींक आने के कारण

छींक आने के कई कारण हो सकते हैं। इनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

  • नाक में कंजेशन
  • धूल और अन्य पदार्थों से एलर्जी
  • धूप में अधिक रहना
  • अत्यधिक पसीना
  • ड्रग्स
  • गर्भावस्था

आइये जानते हैं कि आप छींक रोकने के लिए कौनसे उपाय अपना सकते हैं।

छींक का इलाज

  • अपनी इम्युनिटी बढाएं

शरीर में इम्युनिटी बढ़ जाने से बार बार एलर्जी के कारण आने वाली छींक से आराम मिलता है। विटामिन सी इसमें आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

अमरुद, नीम्बू, संतरे, अमला, ब्रोक्कोली, बेरी आदि ऐसी चीजें होती हैं जो शरीर में विटामिन की मात्रा बढ़ाती हैं। आप बाज़ार से विटामिन सी के सप्लीमेंट भी खरीद सकते हैं।

चिकित्सकों के मुताबिक़ आपको 500 मिलीग्राम विटामिन सी प्रतिदिन लेने की आवश्यकता होती है।

  • पानी करता है प्रतिरक्षा

पानी आपको हाइड्रेट करता है और सूखी हुई नाक की नली के कारण छींक रोकने में मदद करता है। एक गिलास गुनगुना पानी पीयें।

पानी शरीर से विषैले पदार्थ निकाल देता है और शरीर की सफाई करके आपको आराम देता है। आप छींकते समय पानी से अपना मुँह भी धो सकते हैं। 

  • एलर्जी पैदा करने पदार्थों से दूर रहे

कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे होते हैं जो एलर्जी पैदा कर देते हैं जिसके कारण आपको छींकें आने लगती हैं इसलिए ध्यान रखें कि आप ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करें। 

जमे हुए खाद्य पदार्थ, रेफ्रिजेरेटेड ड्रिंक, वाष्पित पेय, पास्ता, ग्लूटेन समृद्ध खाद्य पदार्थ, मूंगफली, डेयरी खाद्य पदार्थ सामान्य एलर्जी कारकों के कारण होते हैं।

कुछ लोग ऐसे भी हैं जो लेटेक्स हाथ दस्ताने या यहां तक ​​कि चाक धूल से भी ऐल्लेर्जिक हो सकते हैं। निवारण हमेशा इलाज से बेहतर होता है इसलिए इन ट्रिगर्स से दूर रहे। 

  • हाथ साफ़ रखें

बाहर से घर वापिस आने के तुरंत बाद अपने हाथ गर्म पानी और साबुन से धो लें। इससे कीटाणु आपके पास नहीं आयेंगे और आपको छींक की समस्या भी नहीं होगी।

यदि आपको धूल से एलर्जी हो जाती है तो रसायन से मुक्त और सुगंध रहित सैनिताइज़र का प्रयोग करें। 

छींक रोकने के घरेलू उपाय

  • सौंफ

ऊपरी श्वासन मार्ग में हुए संक्रमण को आप सौंफ के सेवन से दूर कर सकते हैं। इसमें एंटीबायोटिक, एंटीहिस्टामिन और एंटीसेप्टिक गुणों के कारण एक मुट्ठी भुनी हुई सौंफ अदरक के साथ लेने से छींक में आराम मिलता है।

विकल्प के तौर पर, आप 2 चम्मच कुचली हुई सौंफ को पानी में उबाल सकते हैं और शहद से मिठास बढ़ाकर इसे सिप करके ग्रहण कर सकते हैं।

  • पेट्रोलियम जेली

यह एक ऐसा उपाय जो वयस्कों के साथ बच्चों के लिए भी अत्यधिक लाभकारी साबित होता है। अपनी नाक की नली में साफ़ हाथों से पेट्रोलियम जेली लगा लें जिससे आपकी नाक को नमी मिलेगी और छींकें रुक जाएँगी।

  • इमली

इसे काली मिर्च के साथ इस्तेमाल करने से इसके अनेक लाभ होते हैं। इमली और काली मिर्च का सूप लेने से छींक में अत्यधिक आराम मिलता है।

एक छोटा इमली का टुकड़ा आधे घंटे के लिए गर्म पानी में डालकर रख दें। इसका पानी निकाल और 2 कप पानी, 10-12 करी पत्ते, 1 बड़ा चम्मच काली मिर्च चूर्ण, सेंधा नमक और 1/2 बड़ा चम्मच हल्दी चूर्ण डाल दें।

इस मिश्रण को उबाल लें और आंच धीमी करके 15 मिनट तक पकने दें या जब तक कि इमली की खटास खत्म न हो जाये।

आप इस मिश्रण का सेवन ऐसे ही कर सकते हैं या फिर इसे चावल के साथ भी ले सकते हैं। सूप जितना तीखा होगा उतना अधिक फायदेमंद होगा।

  • मेथी के दाने

इन दानों में एंटीहिस्तामिक, एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो साइनस के कारण होने वाली असहजता को दूर करते हैं। 1 चम्मच भुने हुए मेथी के दाने पानी में डालकर चाय बना लें।

इसे 10 मिनट तक धीमी आंच पर पकने दें और छान कर इसका सेवन कर लें। आप स्वाद के लिए इसमें थोडा शहद भी डाल सकते हैं।

  • युकलिप्टस का तेल

यदि एलर्जी या घुटन का कारण आपको नाक में तकलीफ हो रही है तो उस समस्या में आप इसका प्रयोग कर सकते हैं। अपने रूमाल पर थोडा युकलिप्टुस का तेल डाल लें और इसे सूंघ लें जिससे आपके नाथने साफ़ हो जायेंगे और खुल जायेंगे।

  • अदरक

अदरक छींक से निजात पाने में सबसे लाभदायक उपाय होता है। इसे कच्चा भी खा सकते हैं या फिर इसका शहद के साथ मिश्रण बना लें।

इसके एंटीहिस्तामिक गुणों के कारण यह अत्यधिक उपयोगी होता है। ये नथनों को बंद होने से रोकता है। यदि आपके पास ताज़ा अदरक उपलब्ध नहीं है तो आप सूखा हुए अदरक का चूर्ण भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

1/2 चम्मच अदरक के चूर्ण के साथ 1/2 चम्मच काली मिर्च का चूर्ण मिला लें और उसमें 2 पीसी हुई इलाइची और 1 चुटकी इलाइची की चाय डाल लें।

इसमें शहद या गुड़ डालकर इसका स्वाद बढ़ा लें और सिप करके पीयें।

3 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here