Wed. Nov 30th, 2022
    दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल

    दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने चुनाव आयोग पर निशाना साधते हुए उसे भाजपा का कार्यालय बताया है।

    इसके कुछ घंटे पहले ही चुनाव आयोग ने ‘भ्रामक’ फोन कॉल के खिलाफ दिल्ली पुलिस कमिश्नर से शिकायत दर्ज़ कारवाई थी।

    वहीं दूसरी ओर दिल्ली भाजपा प्रमुख मनोज तिवारी ने चुनाव आयोग से आप की सदस्यता रद्द करने की गुहार लगाई है। मनोज तिवारी के अनुसार आप के कार्यकर्ता दिल्ली की जनता से यह झूठ बोल रहे हैं कि उनका नाम वॉटर लिस्ट से हटा दिया गया है और आप के कार्यकर्ता अब लोगों का नाम फिर से वॉटर लिस्ट में जुड़वाने का काम करेंगे।

    अरविंद केजरीवाल ने एक ट्वीट करते हुए कहा है कि  ‘चुनाव आयुक्त को चुनाव आयोग को भाजपा कार्यालय में बदलने के लिए इस्तीफा दे देना चाहिए। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि मोदी जी ने सभी संस्थाओं को विकृत बना दिया है। लेकिन हम उन्हे इस षड्यंत्र में सफल नहीं होने देंगे।’

    इसी के साथ ही केजरीवाल ने प्रधानमंत्री मोदी पर यह भी यह कहते हुए आरोप लगाया है कि ‘वो पुलिस और चुनाव आयोग का उपयोग ‘गंदे कामों’ के लिए न करें। यह देश किसी भी पार्टी से अधिक महत्वपूर्ण है।’

    वहीं दिल्ली भाजपा प्रमुख मनोज तिवारी ने भी ट्वीट करते हुए कहा है कि ‘यह किसी राजनीतिक पार्टी द्वारा किया गया एक गंभीर अपराध है, जो भारत के संविधान का सम्मान नहीं करती है। जनता को गुमराह करने के लिए आम आमी पार्टी की सदस्यता रद्द होनी चाहिए। दिल्ली पुलिस को दोषियों के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज़ करते हुए फौरन कार्यवाही करनी चाहिए।’

    चुनाव आयोग ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को ‘भ्रामक कॉल’ के संदर्भ में जरूरी कदम उठाने के लिए कहा था।

    दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी के पास लोगों ने शिकायतें दर्ज़ करवाईं थीं कि उनके पास ऐसी कॉल आ रही हैं, जिसमें कहा गया है कि उनका नाम मतदाता सूची से हटा दिया गया है। अधिकारी का कहना है कि इस काम का अधिकार सिर्फ संबन्धित अधिकारी को ही होता है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *