सोमवार, फ़रवरी 24, 2020

चीन का उभार भारत, इंडो पैसिफिक क्षेत्र के लिए चुनौती उत्पन्न करेगा: अमेरिकी राजदूत

Must Read

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

चीन के वैश्विक ताकत के तौर पर विस्तार भारत और इंडो पैसिफिक क्षेत्र के लिए चुनौतियों को उत्पन्न कर सकता है। भारत में अमेरिका के राजदूत केनेथ जुस्टर में सोमवार को यह बयान दिया था।

भारतीय ऊर्जा मंच को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि “अंतरराष्ट्रीय मामलो में सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक चीन का वैश्विक ताकत के तौर पर उभारना है। किसी भी परिदृश्य में उभरता हुआ चीन भारत और इंडो पैसिफिक क्षेत्र के लिए चुनौतियों को उत्पन्न करेगा।”

हाल ही में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत के दूसरे अनौपचारिक सम्मेलन में प्रधामंत्री मोदी के साथ मुलाकात करने के लिए आये थे। उन्होए नियमो के आधार पर खुले और समावेशी क्षेत्र की मांग की है। इस क्षेत्र में अपनी सैन्य मौजूदगी का विस्तार करने की कोशिशो में चीन जुटा हुआ है। इस क्षेत्र में हिन्द महासागर और पश्चिमी व मध्य पैसिफिक समुन्द्र, दक्षिणी चीनी सागर भी शामिल है।

बीजिंग समस्त दक्षिणी चीनी सागर पर अपना दावा करता है। वियतनाम, फिलिपींस, मलेशिया, ब्रूनेई और ताइवान भी इस इलाके पर अपने अधिकार का दावा करते हैं। जुस्टर इस क्षेत्र के बाबत अमेरिका के विचारों को रेखांकित किया था कि अमेरिका और भारत के नेताओं ने और ऐसे ही जापान ने एक दृष्टिकोण को तैयार किया है और मुक्त व खले इंडो पैसिफिक के लिए सिद्धांतो को तय किया है।

राजनयिक ने कहा कि “हम नियमो के आधार पर एक खुले और समावेशी क्षेत्र को चाहते हैं जो सभी देशो की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का का सम्मान करे। हमें नौचालन की आजादी, उड़ान भरने की स्वतंत्रता और वाणिज्य की आजादी की गारंटी चाहिए।”

उन्होंने कहा कि “हम मुक्त और निष्पक्ष व्यापार चाहते हैं और उत्पादों, सुविधाओं, पूँजी और आंकड़ो की मुक्त आवाजाही चाहते हैं। हम चाहते हैं कि क्षेत्रीय और समुंद्री विवादों को शांतिपूर्ण तरीके और अंतरराष्ट्रीय कानून के आधार पर हल कर लिया जाना चाहिए। हम वह क्षेत्र चाहते है जहां निजी सेक्टर वृद्धि करे और उर्जा की सप्लाई सुरक्षित रहे।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...

गुजरात सीएम विजय रूपानी ने डोनाल्ड ट्रम्प-मोदी रोड शो की तैयारी की की समीक्षा

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी (Vijay Rupani) ने गुरुवार को अहमदाबाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -