मंगलवार, नवम्बर 19, 2019

चीन का उभार भारत, इंडो पैसिफिक क्षेत्र के लिए चुनौती उत्पन्न करेगा: अमेरिकी राजदूत

Must Read

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

चीन के वैश्विक ताकत के तौर पर विस्तार भारत और इंडो पैसिफिक क्षेत्र के लिए चुनौतियों को उत्पन्न कर सकता है। भारत में अमेरिका के राजदूत केनेथ जुस्टर में सोमवार को यह बयान दिया था।

भारतीय ऊर्जा मंच को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि “अंतरराष्ट्रीय मामलो में सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक चीन का वैश्विक ताकत के तौर पर उभारना है। किसी भी परिदृश्य में उभरता हुआ चीन भारत और इंडो पैसिफिक क्षेत्र के लिए चुनौतियों को उत्पन्न करेगा।”

हाल ही में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत के दूसरे अनौपचारिक सम्मेलन में प्रधामंत्री मोदी के साथ मुलाकात करने के लिए आये थे। उन्होए नियमो के आधार पर खुले और समावेशी क्षेत्र की मांग की है। इस क्षेत्र में अपनी सैन्य मौजूदगी का विस्तार करने की कोशिशो में चीन जुटा हुआ है। इस क्षेत्र में हिन्द महासागर और पश्चिमी व मध्य पैसिफिक समुन्द्र, दक्षिणी चीनी सागर भी शामिल है।

बीजिंग समस्त दक्षिणी चीनी सागर पर अपना दावा करता है। वियतनाम, फिलिपींस, मलेशिया, ब्रूनेई और ताइवान भी इस इलाके पर अपने अधिकार का दावा करते हैं। जुस्टर इस क्षेत्र के बाबत अमेरिका के विचारों को रेखांकित किया था कि अमेरिका और भारत के नेताओं ने और ऐसे ही जापान ने एक दृष्टिकोण को तैयार किया है और मुक्त व खले इंडो पैसिफिक के लिए सिद्धांतो को तय किया है।

राजनयिक ने कहा कि “हम नियमो के आधार पर एक खुले और समावेशी क्षेत्र को चाहते हैं जो सभी देशो की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का का सम्मान करे। हमें नौचालन की आजादी, उड़ान भरने की स्वतंत्रता और वाणिज्य की आजादी की गारंटी चाहिए।”

उन्होंने कहा कि “हम मुक्त और निष्पक्ष व्यापार चाहते हैं और उत्पादों, सुविधाओं, पूँजी और आंकड़ो की मुक्त आवाजाही चाहते हैं। हम चाहते हैं कि क्षेत्रीय और समुंद्री विवादों को शांतिपूर्ण तरीके और अंतरराष्ट्रीय कानून के आधार पर हल कर लिया जाना चाहिए। हम वह क्षेत्र चाहते है जहां निजी सेक्टर वृद्धि करे और उर्जा की सप्लाई सुरक्षित रहे।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज के बाद...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को दरकिनार करते...

मोइन अली ने कहा, आईपीएल जीतने के लिए आरसीबी नहीं रह सकती विराट कोहली और डिविलियर्स के भरोसे

इंग्लैंड के हरफनमौला खिलाड़ी मोइन अली उन दो विदेशी खिलाड़ियों में से हैं जिन्हें रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आगामी...

श्रीलंका राष्ट्रपति चुनाव: गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी, भारत के लिए झटका

श्रीलंका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी जताई जा रही है। मीडिया में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -