दा इंडियन वायर » राजनीति » चीन पर आरएसएस का बड़ा बयान : चीनी वस्तुओं का करें बहिष्कार
राजनीति समाचार

चीन पर आरएसएस का बड़ा बयान : चीनी वस्तुओं का करें बहिष्कार

इंद्रेश कुमार आरएसएस
भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद पर आरएसएस के नेता इंद्रेश कुमार ने बड़ा बयान दिया है। इंद्रेश कुमार ने बताया है कि चीन जैसे 'असुर' से निपटने के लिए हमें मन्त्र जाप का सहारा लेना चाहिए। इसके साथ ही हमें सभी चीनी वस्तुओं का देश में बहिष्कार करना चाहिए।

भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद पर आरएसएस के नेता इंद्रेश कुमार ने बड़ा बयान दिया है। इंद्रेश कुमार ने बताया है कि चीन जैसे ‘असुर’ से निपटने के लिए हमें मन्त्र जाप का सहारा लेना चाहिए। इसके साथ ही हमें सभी चीनी वस्तुओं का देश में बहिष्कार करना चाहिए।

जाहिर है सिक्किम में भारत और चीन के बीच सीमा को लेकर विवाद चल रहा है। इसी को लेकर आज आरएसएस के नेता इंद्रेश कुमार ने बड़ा बयान दिया है। कुमार ने एक निजी चैनल से बातचीत के दौरान कहा कि, ‘‘कैलाश, हिमालय और तिब्बत चीन की असुरी शक्ति से मुक्त हो इस मंत्र का जाप हर भारतीय को फिर चाहे वो हिंदू हो या मुसलमान पूजा-अर्चना या नमाज़ से पहले करना चाहिए। इससे न सिर्फ चीन को नुकसान पहुंचेगा, बल्कि यह हमारी आध्यात्मिक ऊर्जा को भी बढ़ाएगा और वातावरण में सकारात्मक प्रभाव होगा।’

भारत और चीन

कुमार ने आगे बताया कि हमें इस मन्त्र को पूजा और नमाज़ से पहले पांच बार दोहराना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने देश की जनता से चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करने को कहा है। उनके अनुसार ऐसा करने से चीनी सरकार को सबक मिलेगा। कुमार ने कहा कि, ‘चीनी वस्तुओं के भारतीय बाज़ार में आने से कई भारतीयों का रोज़गार छिना है। लोगों को दीवाली, राखी, ईद जैसे त्योहारों पर चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करना चाहिए।

इससे पहले आरएसएस के सेवकों ने नागपुर में चल रहे एक चीनी प्रोजेक्ट का विरोध किया था। इसके साथ ही उन्होंने प्रधान मंत्री मोदी से भी अपील की है कि वे चीनी सरकार के साथ किये 851 करोड़ के निवेश को भी रद्द कर दें।

About the author

पंकज सिंह चौहान

पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]