मंगलवार, नवम्बर 19, 2019

चीन-नेपाल ने माउंट एवेरेस्ट की उंचाई को दोबारा मापने का किया संयुक्त ऐलान

Must Read

चिली में विरोध प्रदर्शन के पहले महीने के पूरा होने पर हजारों लोग सकड़ पर उतरे

चिली में विरोध प्रदर्शन व सबसे गंभीर नागरिक अशांति के पहले महीने के पूरा होने पर देशभर में हजारों...

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019: भाजपा से मैदान में उतरे सार्वाधिक करोड़पति उम्मीदवार

झारखंड में 30 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले चरण में सबसे अधिक 'करोड़पति' उम्मीदवार सत्तारूढ़ भारतीय...

दिल्ली में पानी की गुणवत्ता को लेकर आप का पलटवार, वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा किसी तटस्थ एजेंसी से पानी जंचवाएं पासवान

दिल्ली में पीने के पानी को लेकर एक केंद्रीय एजेंसी की रिपोर्ट पर संदेह जताते हुए आम आदमी पार्टी(आप)...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

नेपाल और चीन ने संयुक्त रूप से माउंट एवेरेस्ट की उंचाई को दुबारा मापने के लिए रजामंदी जाहिर की है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ मुलाकातों का सिलसिला खत्म होने के बाद एक संयुक्त बयान में उन्होंने कहा कि “माउंट एवेरेस्ट नेपालियों के लिए सागरमाथा और चीनियों के लिए ज्हुमुलान्गमा की तरह मशहूर है, यह नेपाल और चीन के बीच एक मजबूत दोस्ती को प्रदर्शित करता है।”

बयान में कहा कि ” दोनों पक्ष विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग का प्रचार करेंगे इसमें जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण का संरक्षण शामिल है। उन्होंने संयुक्त रूप से माउंट सागरमाथा/ ज्हुमुलान्गमा की उंचाई का ऐलान करेंगे और साइंटिफिक रिसर्च का आयोजन करेंगे।”

नेपाल ने माउंट एवेरेस्ट की उंचाई को मापने के लिए सरकार द्वारा नियुक्त पर्वतरोहियो को भेज दिया है। विश्व जा सबसे बड़ा पर्वत हिमालय के इलाके में पड़ता है जो नेपाल और चीन की सीमा पर स्थित है।

साल  1954 में भारतीय सर्वे के कारण इसकी अधिकारिक उंचाई 8848 मीटर है और इसकी छोटी की उंचाई को भी नापगाया गया था। हालाँकि साल 2015 में एक भारी भूकंप के बाद हिमालय की उंचाई को लेकर बहस छिड गयी थी।नेपाल की सर्वे डिपार्टमेंट कमीशन ने साल 2017 में एक टीम तैयार की थी। चीन के राष्ट्रपति भारत के बाद नेपाल की यात्रा पर गए थे।

चीन के साथ रेलवे की परियोजना को चीन भारत से निर्भरता को खत्म करने के लिए एक वैकल्पिक चयन के तौर पर देखता है। नेपाल के दो-तिहाई व्यापार पर भारत का कब्ज़ा है और यह ईंधन के सप्लाई का एकमात्र स्त्रोत है। साल 2015 में बॉर्डर क्रोसिंग में बाधा उत्पन्न होने के कारण नेपाल में कई महीनो तक दवाइयों और ईंधन की काफी किल्लत रही थी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

चिली में विरोध प्रदर्शन के पहले महीने के पूरा होने पर हजारों लोग सकड़ पर उतरे

चिली में विरोध प्रदर्शन व सबसे गंभीर नागरिक अशांति के पहले महीने के पूरा होने पर देशभर में हजारों...

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019: भाजपा से मैदान में उतरे सार्वाधिक करोड़पति उम्मीदवार

झारखंड में 30 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले चरण में सबसे अधिक 'करोड़पति' उम्मीदवार सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के हैं। पहले...

दिल्ली में पानी की गुणवत्ता को लेकर आप का पलटवार, वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा किसी तटस्थ एजेंसी से पानी जंचवाएं पासवान

दिल्ली में पीने के पानी को लेकर एक केंद्रीय एजेंसी की रिपोर्ट पर संदेह जताते हुए आम आदमी पार्टी(आप) के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा...

कबूल हुई प्रशंसकों की दुआएं, लता मंगेशकर की तबीयत में काफी सुधार

स्वर कोकिला लता मंगेशकर को पिछले सोमवार सांस लेने में दिक्कत आने के बाद मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था...

50 वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव से पहले कांग्रेस ने की गोवा से धारा 144 हटाए जाने की मांग

गोवा में विपक्षी दल कांग्रेस ने मंगलवार को मांग करते हुए कहा कि 50वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) के मद्देनजर राज्य सरकार धारा...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -