भारत आने वाले समय में ग्लोबल इकॉनमी का केंद्र बनकर उभरेगा। एक रिपोर्ट के अनुसार भारत आने वाले दशक में विश्व का सबसे तेजी से बढ़ने वाला देश बन जाएगा। इस सूची में भारत लगातार चीन से आगे बना रहेगा।

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में किये गए एक शोध मैं ऐसा खुलासा किया गया। यूनिवर्सिटी द्वारा की गयी रिसर्च में यह सामने आया है की 2025 तक भारत और युगांडा सालाना 7.7 फीसदी ग्रोथ के साथ विश्व के सबसे तेजी से बढ़ने वाले देश बन जाएंगे। हालांकि ग्लोबल इकनोमिक ग्रोथ में आने वाले दशक में सुस्ती बनी रहेगी। आगे बताया गया है इकनोमिक गतिविधियों का मुख्या केंद्र अब चीन से हटकर भारत बन गया है।

भारत और चीन

रिपोर्ट में कहा गया कि आने वाले समय में भारत के निवेश बाज़ार विश्व में सबसे तेजी से बढ़ने वाला निवेश बाज़ार बन जाएगा। ऐसे में विदेशी निवेश भी भारत के बाज़ारों में बढ़ जाएगा। भारत ने अपने निर्यात कि जानेवाली चीज़ों में भी विविधता लायी है। भारत ने अपने निर्यात कारोबार को रसायन, वाहन और कुछ तरह के इलेक्ट्रानिक्स सामानों जैसे जटिलता क्षेत्रों में आगे बढ़ाया है। वहीं चीन के ताजा आंकड़े उसके निर्यात में गिरावट आयी है।

आने वाले समय में जहाँ भारत की वार्षिक इकनोमिक ग्रोथ 7.7 फीसदी होगी वहीँ चीन की ग्रोथ को 5 फीसदी से काम दिखाया है।


पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।