शनिवार, दिसम्बर 7, 2019

चीन की बढ़ती गतिविधियों पर रोकथाम के लिए जापान-भारत करेंगे सैन्य समझौते पर दस्तखत

Must Read

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है।...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

जापान के राजदूत ने मंगलवार को कहा कि जापान भारत के साथ मिलिट्री लोजिस्टिक पैक्ट यानी सैन्य संचालन समझौता करना चाहता है। इस पैक्ट से भारत और जापान के जहाज एक-दूसरे के सैन्य बेस पर जा सकेंगे। यह समझौता चीन की क्षेत्र में बढ़ती प्रभावशीलता को संतुलित रखने के तहत किया जा रहा है।

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इस सप्ताह आयोजित सालाना सम्मेलन में शरीक होने के लिए जापान के दौरे पर जायेंगे। इस यात्रा के दौरान पीएम मोदी अपने जापानी समकक्षी शिंजो अबे से मुलाकात कर सैन्य समझौते को अमलीजामा पहनाने की कवायद शुरू कर देंगे। उम्मीद है कि इस बैठक के दौरान दोनों राष्ट्रों के प्रमुख इस समझौते पर हस्ताक्षर कर दे।

प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी और शिंजो अबे के कार्यकाल के दौरान भारत और जापान के बीच नजदीकियां बढ़ी है। दोनों राष्ट्र हर साल त्रिस्तरीय सैन्य अभ्यास का आयोजन करते हैं। साथ ही अमेरिका के साथ मिलकर जापान और भारत हिन्द महासागर और पैसिफिक में साझा अभ्यास करते हैं।

भारत में नियुक्त जापानी राजदूत ने कहा कि दोनों राष्ट्रों की सेनाओं के लिए लोजिस्टिक समझौता एकसमान होगा। दोनों राष्ट्र प्रत्येक वर्ष कई बार युद्धाभ्यास करते हैं। उन्होंने कहा इस समझौते पर दस्तखत कर दोनों देश अधिकारिक बातचीत की दिशा में बढ़ेंगे।

इस पैक्ट के तहत जापानी जहाजों को अंडमान और निकोबार सहित कई भारतीय बेस में ईंधन की पूर्ती और मरम्मत की इज़ाज़त होगी। हिन्द महासागर में चीनी गतिविधियों पर रोकथाम के लिए भारतीय नौसेना ने भी जहाजों को भेजा है।

पीएम मोदी की सरकार ने साल 2016 में चीन की नाराज़गी के डर से काफी हिचकिचाहट के बाद अमेरिका के साथ सैन्य समझौते पर दस्तखत किये थे। चीन बहुपक्षीय सैन्याभ्यास के विरुद्ध रहा है उसके मुताबिक ऐसे अभ्यास क्षेत्रीय स्थिरता को चुनौती देता है।

भारत अगले वर्ष तक रूस, जापान और अमेरिका के साथ त्रिस्तरीय सैन्याभ्यास का आयोजन करेगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है। एंडरसन एशेज सीरीज के पहले...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के खिलाफ मोर्चेबंदी की। सपा, कांग्रेस...

एप्पल 2021 में लॉन्च कर सकती है पूर्ण वायरलेस आईफोन

प्रसिद्ध विश्लेषक मिंग-ची कुओ ने खुलासा किया है कि एप्पल कंपनी 2021 में पूरी तरह से वायरलेस आईफोन लॉन्च करने की योजना बना रही...

एनजीएमए के महानिदेशक को मिला 3 साल का सेवा विस्तार

नेशनल गैलरी ऑफ मॉर्डन आर्ट (एनजीएमए) के महानिदेशक अद्वैत गणनायक को तीन साल का सेवा विस्तार दिया गया है। संस्कृतिक मंत्रालय ने शनिवार को...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -