Mon. Oct 3rd, 2022
    China-Japan-South-Korea

    चीन, जापान और दक्षिण कोरिया के सांस्कृतिक मंत्रियों ने शुक्रवार को पूर्वी एशिया में शांति और विविधता को बढ़ावा देने के लिए पारस्परिक सम्मान और पारस्परिकता के सिद्धांतों पर आधारित भविष्य के सांस्कृतिक आदान-प्रदान और सहयोग को बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की है।

    दक्षिण कोरिया के सांस्कृतिक मंत्री पार्क यांग-वू ने सियोल और टोक्यो के बीच तनावपूर्ण कूटनीतिक और व्यापारिक विवाद के बावजूद बंदरगाह इंचियोन में चीनी सांस्कृतिक मंत्री लुओ शुआंगंग और उनके जापानी समकक्ष मासाहिको शिबायामा के साथ एक त्रिपक्षीय बैठक की थी।

    हालांकि ये तीनों देश भविष्य के सांस्कृतिक आदान-प्रदान को बढ़ावा देते हैं, लेकिन उनके साझा इतिहास पर अलग-अलग विचार हैं, जैसे जापान के चीन और कोरिया के हिस्सों पर कब्जा है।

    तीनों मंत्रियो ने अगले दस वर्षों में खेल, लोगों से लोगों और सांस्कृतिक आदान-प्रदान को बढ़ाने का भी वादा किया है।   जापान साल 2020 में आयोजित ग्रीष्मकालीन ओलंपिक की मेजबानी करेगा और चीन बीजिंग में 2022 के शीतकालीन ओलंपिक की मेजबानी करेगा।

    मंत्रियों ने एक संयुक्त बयान जारी किया कि “तीनों देशों ने स्पष्ट किया कि भविष्य के सांस्कृतिक आदान-प्रदान और सहयोग आपसी सम्मान और पारस्परिकता के सिद्धांतों पर आधारित होना चाहिए, पूर्वी एशिया में संस्कृतिक विविधता और शान्ति का प्रचार कर सके।

    दक्षिण कोरिया के सांस्कृतिक मंत्रालय ने एक आधिकारिक बयान में कहा कि “जापान के शिबायामा और कोरिया के पार्क ने गुरुवार को एक अलग द्विपक्षीय बैठक की, जिसके दौरान दोनों नेताओं ने दोनों देशों के बीच तनावपूर्ण स्थिति के बावजूद अपने सांस्कृतिक आदान-प्रदान को जारी रखने पर सहमति व्यक्त की थी।”

    जापान की क्योदो समाचार एजेंसी ने शिबायामा के हवाले से कहा कि “जापान और दक्षिण कोरिया के संबंध एक मुश्किल मोड़ पर है और सांस्कृतिक क्षेत्र में सहयोग के माध्यम से जमीनी स्तर पर संबंधों को बेहतर करने में मदद मिलेगी।”

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.