शनिवार, दिसम्बर 7, 2019

चीन को उइगर समुदाय पर की गई कार्यवाई का जवाब देना चाहिए : एमनेस्टी रिर्पोट

Must Read

जीएसटी परामर्श दिवस पर वित्तमंत्री ने सुझाव मांगे

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लिए रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए...

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है।...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

एमनेस्टी इंटरनेशनल की जारी रिपोर्ट में कहा कि चीन को शिनजियांग प्रांत में मुस्लिम अल्पसंख्यकों पर की गई क्रूर कार्रवाई पर जवाब देना चाहिए। इसमें 10 लाख मुस्लिमों पर कार्रवाई की गयी थी।

बीजिंग ने मुस्लिम अल्पसंख्यकों पर प्रांत में अलगाववादी और चरमपंथी तत्वों पर बढ़ावा देने के शक पर प्रतिबन्ध लगाए थे।

कैंप में रह रहे लोगों से बातचीत के आधार पर जारी रिपोर्ट में बताया गया कि सरकार ने राजनीतिक विचारों को ज्ञान न होने, जानकारी के लिए घरों के बाहर क्यूआर कोड और धर्म परिवर्तन जैसे प्रतिबन्ध थोपे।

उइगर और अन्य मुस्लिम समुदाय को दाढ़ी बढ़ाने और बुर्का पहनने के लिए सज़ा दी गयी। पिछले साल जारी यूएन की रिपोर्ट के मुताबिक 10 लाख से अधिक लोग शरणार्थी कैंप में है। इनमे से कई नाबालिगों को देश से बाहर रह रहे रिश्तेदारों से बातचीत और ईद पर बधाई देने के जुर्म में बंधी बनाया गया है।

हज़ारो परिवारों के सैकड़ों बच्चे इस क्रूर कार्रवाई में फंसे है। वह जानने के लिए बेचैन है कि उनके रिश्तेदार किस हाल में हैं और अब चीन को उनके सवालों का जवाब देना होगा। रिपोर्ट में चीन को पूर्वी एशिया का तानाशाह कहा है।

बीजिंग ने इस रिपोर्ट को नकारते हुए कहा है की चीनी प्रशासन ने लोगों को राजनैतिक और सांस्कृतिक तौर तरीके से रूबरू करवाने लिए कैंप में रखा है। पूर्व में बंदी रहे कुछ लोगो से बातचीत कर रिपोर्ट में बताया की कैंप में बंदियों पर अत्याचार किया जाता है और उन्हें वामपंथ को राग अलापने पर मज़बूर किया जाता है।

अमेरिकी सचिव माइक पोम्पिओ ने कहा है की उइगर मुस्लिमों को शिक्षण कैंप में नज़रबंद रखना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। इसी माह की शुरुआत में चीन ने धार्मिक सामग्री को ऑनलाइन बेचने पर पाबंदी लगा दी थी। चीनी विभाग ने मुस्लिम समुदाय के धार्मिक चिह्नों को सार्वजनिक स्थलों से हटवा दिया।

यह कार्रवाई मुस्लिमों पर ही नहीं क्रिस्चियन समुदाय भी हो रही है। बीजिंग प्रांत में चर्च को गिराया गया। गिरिजाघरों से उनका धार्मिक प्रतिक क्रॉस को हटा दिया गया।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

जीएसटी परामर्श दिवस पर वित्तमंत्री ने सुझाव मांगे

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लिए रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए...

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए शनिवार को न्यूजीलैंड को...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है। एंडरसन एशेज सीरीज के पहले...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के खिलाफ मोर्चेबंदी की। सपा, कांग्रेस...

एप्पल 2021 में लॉन्च कर सकती है पूर्ण वायरलेस आईफोन

प्रसिद्ध विश्लेषक मिंग-ची कुओ ने खुलासा किया है कि एप्पल कंपनी 2021 में पूरी तरह से वायरलेस आईफोन लॉन्च करने की योजना बना रही...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -