Wed. Apr 17th, 2024
    अफ्रीका में चीन

    चीन ने महत्वकांक्षी परियोजना बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव के विस्तार के लिऐ एशिया से अफ्रीका का रुख किया था लेकिन कई देशों में चीन की इस परियोजना को लेकर संशय बना हुआ है।

    क्वार्टज़ वेबसाइट के मुताबिक सिएरा लियॉन के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जूलियस माडा बायो ने अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे के लिए चीनी कर्ज लेने से इंकार कर दिया है। यह कर्ज 400 मिलियन डॉलर का था।

    सिएरा लियॉन के मंत्री ने कहा कि देश में नया एयरपोर्ट बनाने से बेहतर है कि एकमात्र हवाईअड्डे का दोबारा निर्माण करवाया जाये। देश की राजधानी लुंगी में एकमात्र हवाईअड्डा है। उन्होंने बताया कि शहर को एयरपोर्ट से जोड़ने के लिए एक पुल का निर्माण करवाया जायेगा।

    चीन अफ्रीका और एशिया के विकाशील देशों पर कर्ज का भार डालकर उन पर आधिपत्य स्थापित करना चाहता है। विश्व बैंक ने सिएरा लियॉन को चेताया था कि चीन से कर्ज लेकर देश कर्ज के जाल में फंस जायेगा।

    बीते माह चीनी राष्ट्रपति ने बीजिंग में चीन-अफ्रीका सहयोग (एफओसीएसी) की बैठक आयोजित की थी। इस बैठक में चीन ने अफ्रीका में विकास और वृद्धि के लिए 60 बिलियन डॉलर देने की बात कही थी।

    सूत्रों के मुताबिक केन्या पर चीन का 70 फीसदी द्विपक्षीय कर्ज है। एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन ज़ाम्बिया की राष्ट्रीय बिजली कंपनी का अधिग्रहण करने की जुगत में है।

    हाल में ही जारी मानव विकास सूचकांक में सिएरा लियॉन की 189 देशों में 184 वां स्थान था। सिएरा लियॉन के गृहयुद्ध पर जीत हासिल के बाद अब एबोला बीमारी से भी आज़ादी के लिए लड़ना होगा।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *