Sun. Nov 27th, 2022

    अरब सागर से उठा इस साल का पहला चक्रवाती तूफान तौकाते तेजी से आगे बढ़ रहा है। शुक्रवार को केरल के कोट्टायम तट पर इसके कारण भारी बारिश हुई। मौसम विभाग के मुताबिक अगले 24 घंटे में इसका रूप और विकराल होगा और 18 मई की सुबह तक इसके गुजरात पहुंचने के आसार हैं, जहां इससे भारी तबाही की आशंका है। इस बीच एनडीआरएफ ने 53 टीमों को राहत कार्य के लिए तैनात करने की तैयारी कर ली है।

    तूफान तौकाते की दस्तक से कोट्टायम में शुक्रवार को तेज बारिश हुई। मौसम विभाग ने भी अलग-अलग जगहों पर भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान लगाया था। केंद्रीय जल आयोग के मुताबिक कोट्टायम के अलावा दक्षिण केरल के कुछ इलाकों में सुबह 8:30 बजे से भारी बारिश दर्ज की गई। अनुमान है कि जैसे-जैसे तूफान आगे बढ़ेगा कर्नाटक, महाराष्ट्र, गोवा, लक्षद्वीप के तटीय इलाकों में भारी बारिश के साथ तेज हवाएं चलेंगी।

    मौसम विभाग के मुताबिक बृहस्पतिवार को अरब सागर और लक्षद्वीप के इलाके में दबाव वाला क्षेत्र बना था और तूफान के शनिवार सुुबह तक गहरे दबाव में परिवर्तित होने के आसार हैं। यहां से चक्रवाती तूफान का रूप लेते हुए यह अगले 24 घंटे में और आगे बढ़ेगा। इसके बाद विकराल रूप लेता हुआ यह तूफान उत्तर से होते हुए उत्तर पश्चिमी दिशा में आगे बढ़ेगा। तौकाते 18 मई की शाम तक गुजरात व उससे लगते पाकिस्तानी तटीय क्षेत्र के तट से टकरा सकता है और इससे वहां भारी तबाही होने की आशंका है।

    चक्रवाती तूफान ‘तौकते’ का असर हवाई सेवाएं पर भी नजर आ रहा है। विस्तारा की ओर से कहा गया है कि अरब सागर में प्रतिकूल मौसम की संभावना के कारण, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, कोच्चि, बेंगलुरु, मुंबई, पुणे, गोवा और अहमदाबाद के लिए उड़ानें 17 मई, 2021 तक प्रभावित होने की संभावना है। वहीं इंडिगो की चक्रवात के कारण कन्नूर आने-जाने वालीं उड़ानें प्रभावित हुई हैं।

    मोर्चा लेने के लिए पांच राज्यों में एनडीआरएफ की 53 टीमें तैयार हैं। एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान ने शुक्रवार को ट्वीट कर बताया कि इनमें से 24 को केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात और महाराष्ट्र में तैनात कर दिया गया है वहीं शेष 29 टीमों को तैयार रखा गया है।

    भारतीय तट से गुजरने वाले साल के पहले चक्रवाती तूफान को ‘तौकाते’ नाम म्यांमार ने दिया है, इसका अर्थ है ‘गेको’ यानी छिपकली।

    By आदित्य सिंह

    दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *