दा इंडियन वायर » समाचार » गृह मंत्रालय: नशीली दवाओं के खतरे से लड़ने के लिए भारत ने 26 समझौतों पर हस्ताक्षर किए
विदेश समाचार

गृह मंत्रालय: नशीली दवाओं के खतरे से लड़ने के लिए भारत ने 26 समझौतों पर हस्ताक्षर किए

लोकसभा में गृह मंत्रालय (एमएचए) के जवाब के अनुसार, भारत ने मादक पदार्थों, दवाओं और नशीले पदार्थों की अवैध तस्करी से निपटने के लिए विभिन्न देशों के साथ 26 द्विपक्षीय समझौते, 15 समझौता ज्ञापन और सुरक्षा सहयोग पर दो समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं।

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने अंतरराष्ट्रीय मादक पदार्थों की तस्करी से निपटने के लिए सूचना और खुफिया जानकारी साझा करने के लिए विभिन्न अंतरराष्ट्रीय संगठनों के साथ समन्वय किया है। इनमें सार्क ड्रग ऑफेंस मॉनिटरिंग डेस्क; ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका (ब्रिक्स); कोलंबो योजना; दक्षिण – पूर्वी एशियाई राष्ट्र संघ; औषधि मामलों पर आसियान के वरिष्ठ अधिकारी; बिम्सटेक (बे ऑफ बंगाल इनिशिएटिव फॉर मल्टी-सेक्टोरल टेक्निकल एंड इकोनॉमिक को-ऑपरेशन); संयुक्त राष्ट्र ऑफिस ऑन ड्रग्स एंड क्राइम, और अंतर्राष्ट्रीय नारकोटिक्स कंट्रोल बोर्ड शामिल हैं।

गृह मंत्रालय ने कहा कि तीव्र और प्रभावी निगरानी, सार्वजनिक सहयोग, स्रोत-आधारित खुफिया जाँच, क्षेत्र के अधिकारियों की संवेदनशीलता और संबंधित उपायों के परिणामस्वरूप देश में नशीले पदार्थों की तस्करी से संबंधित कई मामलों के पंजीकरण में लगातार वृद्धि हुई है।

मंत्रालय ने जानकारी दी कि, “विभिन्न केंद्रीय और राज्य एजेंसियों के बीच समन्वय और प्रभावी दवा कानून प्रवर्तन के लिए वर्ष 2016 में गृह मंत्रालय द्वारा नार्को समन्वय केंद्र (एनसीओआरडी) तंत्र की स्थापना की गई थी। बेहतर समन्वय के लिए इस एनसीओआरडी प्रणाली को 29 जुलाई, 2019 से जिला स्तर तक चार स्तरीय योजना में पुनर्गठित किया गया है।

बड़ी बरामदगी से जुड़े मामलों की जांच की निगरानी के लिए 19 जुलाई, 2019 को एनसीबी के महानिदेशक के अध्यक्ष के रूप में एक संयुक्त समन्वय समिति का गठन किया गया था।

मंत्रालय ने बताया कि, “पैन-इंडिया ड्रग जब्ती डेटा के डिजिटलीकरण के लिए, गृह मंत्रालय ने 2019 में नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस एक्ट (एनडीपीएस एक्ट) के जनादेश के तहत सभी ड्रग कानून प्रवर्तन एजेंसियों के लिए ‘एसआईएमएस’ (जब्ती सूचना प्रबंधन प्रणाली) नामक एक ई-पोर्टल लॉन्च किया है।” ज्ञात हो कि एनडीपीएस एक्ट नशीली दवाइयों और पदार्थों के नियंत्रण, विनियमन और अवैध व्यापार से संबंधित संपत्ति की जब्ती का प्रावधान करता है।

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!