Sun. Feb 5th, 2023
    भाजपा के पक्ष में क्रॉस वोटिंग

    गुजरात में आज राज्यसभा की तीन सीटों के लिए चुनाव हो रहे हैं। इन तीन सीटों पर चार उम्मीदवार अपनी ताल ठोंक रहे हैं। अब तक बड़ी पार्टियों के उम्मीदवार निर्विरोध ही निर्वाचित हो जाते थे पर गुजरात कांग्रेस में पड़ी फूट के कारण उसके उम्मीदवार अहमद पटेल की उम्मीदवारी खतरे में आ गई थी। इसका फायदा उठाते हुए भाजपा ने बागी कांग्रेसी विधायकों को अपनी ओर मिलाने के लिए अहमद पटेल के खिलाफ ‘अहमद पटेल का आदमी’ कहे जाने वाले बलवंत सिंह राजपूत को ही चुनाव में उतार दिया। भाजपा के दो अन्य उम्मीदवारों राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की जीत तय मानी जा रही है। ऐसे में गुजरात में पहले से ही अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही कांग्रेस के लिए यह राज्यसभा चुनाव अब सम्मान की लड़ाई बन गया है। ताजा जानकारी के अनुसार गाँधीनगर में विधानसभा में मतदान शुरू हो गया है।

    मतदान के लिए कांग्रेस के 44 विधायक विधानसभा पहुँच गए हैं। ये सभी पहले बेंगलुरु के ईगलटन रेसॉर्ट और फिर आनंद के एक रेसॉर्ट में ठहरे हुए थे। कांग्रेस को अहमद पटेल को राज्यसभा भेजने के लिए 45 विधायकों के समर्थन की आवश्यकता है और उसके पाले में अभी 44 विधायक ही हैं। कांग्रेस के सहयोगी दलों में एनसीपी ने भाजपा उम्मीदवार बलवंत सिंह राजपूत के समर्थन में मतदान करने की घोषणा कर दी है। वहीं गुजरात से जेडीयू का भी एक विधायक है और अब जेडीयू भी भाजपा की सहयोगी बन गई है। ऐसे में उसके बलवंत सिंह राजपूत के पक्ष में मतदान करने की उम्मीद है। धुरंधर राजनीतिज्ञ शंकर सिंह वाघेला ने अपना वोट डाल दिया है। मतदान के बाद बाहर निकलते हुए उन्होंने कहा की उन्होंने अपना मत अहमद पटेल को नहीं दिया है क्योंकि वह जीतने वाले नहीं है।

    कांग्रेस के बागी विधायकों में से धर्मेंद्र जडेजा और राघवजी पटेल समेत कई अन्य ने यह एलान किया है कि उन्होंने बलवंत सिंह राजपूत के समर्थन में मतदान किया है। सभी उम्मीदवार विधानसभा में मौजूद हैं। कांग्रेस उम्मीदवार अहमद पटेल खुद अपने विधायकों की निगरानी कर रहे हैं ताकि कोई विधायक उनके खिलाफ न जाये। वहीं भाजपा उम्मीदवार बलवंत सिंह राजपूत ने कहा की उनकी जीत सुनिश्चित है। यह सब पार्टी की सकारात्मक रणनीति की वजह हो रहा है। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी भी विधानसभा में मौजूद हैं। नतीजे आज शाम 6 बजे तक आयेंगे। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या कांग्रेस के चाणक्य कहे जाने वाले अहमद पटेल भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का चक्रव्यूह तोड़ पाते है और वह भी तब जब उनके घर का भेदी ही उनके सामने खड़ा है।

     

    By हिमांशु पांडेय

    हिमांशु पाण्डेय दा इंडियन वायर के हिंदी संस्करण पर राजनीति संपादक की भूमिका में कार्यरत है। भारत की राजनीति के केंद्र बिंदु माने जाने वाले उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले हिमांशु भारत की राजनीतिक उठापटक से पूर्णतया वाकिफ है।मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक करने के बाद, राजनीति और लेखन में उनके रुझान ने उन्हें पत्रकारिता की तरफ आकर्षित किया। हिमांशु दा इंडियन वायर के माध्यम से ताजातरीन राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर अपने विचारों को आम जन तक पहुंचाते हैं।