दा इंडियन वायर » समाचार » गीतांजलि श्री के हिंदी से अनुवादित उपन्यास ‘Tomb of Sand’ ने जीता International Booker Prize
समाचार

गीतांजलि श्री के हिंदी से अनुवादित उपन्यास ‘Tomb of Sand’ ने जीता International Booker Prize

गीतांजलि श्री के हिंदी से अनुवादित उपन्यास 'Tomb of Sand' ने जीता International Booker Prize

हिंदी लेखक गीतांजलि श्री के हिंदी उपन्यास ‘रेत समाधि’ अनुवादित ‘Tomb of Sand’ ने International Booker Prize जीता है। ऐसा करने वाला हिंदी से अनुवादित पहला उपन्यास बन गया है।

गीतांजलि श्री न केवल पुरस्कार की पहली हिंदी विजेता हैं बल्कि यह भी पहली बार है कि मूल रूप से किसी भारतीय भाषा में लिखी गई किसी पुस्तक ने बुकर पुरस्कार जीता है।

 गीतांजलि श्री ने कहा- कि ‘Tomb of Sand’ में जाने से एक उदासी भरी संतुष्टि है। यह उस दुनिया के लिए एक शोकगीत है जिसमें हम निवास करते हैं एक स्थायी ऊर्जा जो आसन्न कयामत के सामने आशा बनाए रखती है।

 डेज़ी रॉकवेल द्वारा हिंदी से अनुवादित गीतांजलि श्री के ‘Tomb of Sand’ ने प्रतिष्ठित बुकर पुरस्कार जीता है।  50,000 पाउंड की पुरस्कार राशि लेखक और अनुवादक के बीच समान रूप से साझा की जाएगी।

 गीतांजलि की पुस्तक ने पुरस्कार जीता है जहां 135 पुस्तकों ने प्रतिस्पर्धा थी। 

‘Tomb of Sand’ एक 80 वर्षीय महिला की कहानी है जो अपने पति की मृत्यु के बाद गहरे अवसाद में चली जाती है फिर संगठित होक जीवित हो जाती है। विभाजन के अपने किशोर अनुभवों के अनसुलझे आघात का सामना करने के लिए महिला पाकिस्तान की यात्रा करती है। वह 80 वर्षीय महिला पुनर्मूल्यांकन करती है कि एक माँ, एक बेटी, एक महिला और एक नारीवादी होने का क्या असल मतलब है।

 गीतांजलि तीन उपन्यास और कई लघु कहानी संग्रहों की लेखिका हैं हालांकि ‘Tomb of Sand’ ब्रिटेन में प्रकाशित होने वाली उनकी पहली पुस्तक है। रॉकवेल अमेरिका के वर्मोंट में रहने वाले एक चित्रकार, लेखक और अनुवादक हैं जिन्होंने हिंदी और उर्दू साहित्य की कई रचनाओं का अनुवाद किया है।

बुकर के अधिकारियों ने कहा कि इस तथ्य के बावजूद कि भारतीय उपमहाद्वीप के साथ ब्रिटेन का बहुत लंबा संबंध है भारतीय भाषाओं से बहुत कम पुस्तकों का अनुवाद किया जाता है। हिंदी, उर्दू, मलयालम और बंगाली से बुकर के अधिकारियों ने कहा और उम्मीद है कि गीतांजलि की सफलता दुनिया भर के अन्य लेखकों को प्रतियोगिता में प्रवेश करने के लिए प्रेरित करेगी।

 

 

About the author

Shashi Kumar

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]