गर्भावस्था में केला खाना चाहिए या नहीं?

गर्भावस्था में केला खाना

गर्भावस्था के दौरान महिला को अपने साथ अपने भीतर जन्म ले रहे अपने बच्चे के पालन पोषण का भी ख्याल रखना पड़ता है।

यही कारण है कि गर्भवती महिलाएं अपने खान पान को लेकर विशेष तौर पर सतर्क रहती हैं।

विभिन्न प्रकार के फल और सब्जियां इस स्थिति में महिलाओं के लिए अच्छे साबित होते हैं।

इसी प्रकार केला भी बहुत गुणवान होता है और इसका सेवन लाभदायक होता है लेकिन अक्सर महिलाएं इस दुविधा में रहती हैं कि उन्हें गर्भावस्था में केला खाना चाहिए या नहीं?

कई शोधों में यह सिद्ध हुआ है कि गर्भावस्था में केला खाना महिलाओं के लिए लाभकारी हो सकता है।

इस लेख में हम गर्भावस्था में केला खाने के फायदों के बारे में चर्चा करेंगे।

गर्भावस्था में केला खाने के फायदे (banana benefits in pregnancy in hindi)

केला एनीमिया की समस्या को दूर करे

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के लिए सबसे जटिल समस्या खून की कमी अथवा एनीमिया होती है।

इससे गर्भवती महिलाओं और उनके होने वाले शिशु खतरा बना रहता है।

  • ये समस्या ऐसे पदार्थों का सेवन करने से दूर हो सकती हैं जिनमें प्रचुर मात्रा में आयरन पाया जाता हो।
  • केला आयरन का प्रचुर स्रोत होता है जो लगभग हर महिला को लेना चाहिए। ऐसा करने से आपके शरीर में हीमोग्लोबिन का विकास बढ़ जाता है और खून की कमी दूर हो जाती है।

केला है कैल्शियम का उच्च स्रोत

इस बात से हम सब भली भांति परिचित हैं कि कैल्शियम से हड्डियों का विकास होता है और बच्चों के लिए अतिआवश्यक होता है।

  • केला कैल्शियम का बहुत ही उच्च स्रोत होता है।
  • यही कारण है कि ये आपके बढ़ते बच्चे के लिए अतिआवश्यक होता है और गर्भवती महिलाओं को इसका नियमित सेवन करना चाहिए।

गर्भवती महिला को केला खाने से कब्ज़ से निजात मिलती है

यदि किसी गर्भवती महिला को कब्ज़ की समस्या घेर ले तो यह परिस्थिति उसके लिए बहुत ही जटिल हो जाती है।

  • कब्ज़ से प्राकृतिक रूप से निजात पाने के लिए और अपने पेट की स्थिति संतुलित रखने के लिए गर्भवती महिलाओं का केले का नियमित सेवन करना चाहिए।
  • यह इसलिए आवश्यक है क्योंकि केले में फाइबर होते हैं जो शरीर की सफाई कर देते हैं।

केला फोलिक एसिड से भरपूर

आपके होने वाले बच्चे के मस्तिष्क, स्पाइनल कॉर्ड आदि के विकास के लिए फोलिक एसिड अतिआवश्यक होता है।

  • इसकी कमी होने से आपके बच्चे की जन्म से पूर्व ही मृत्यु हो सकती है या आपका बच्चा किसी समस्या के साथ पैदा हो सकता है।
  • केले में फोलिक एसिड होता है और इसमें मौजूद फोलिक एसिड आपके अन्दर पल रहे बच्चे द्वारा आसानी से लिया जा सकता है।

केले में उच्च एंटीओक्सीडैन्ट होते हैं

केले में विटामिन सी भी पाया जाता है।

  • विटामिन सी एक बहुत ही अच्छा एंटीओक्सीडैन्ट होता है जो बढती उम्र के लक्षणों को नहीं दिखने देता है।
  • ये आपका इम्यून सिस्टम सशक्त कर देता है जो आपके बच्चे के लिए बहुत लाभदायक होता है।

केला सेल के विकास में उपयोगी

गर्भावस्था के दौरान केले का सेवन करने से आपको विटामिन बी6 मिलता है।

  • विटामिन बी6 न्यूरोट्रांसमीटर की तरह काम करता है।
  • ये आपके शरीर में आरबीसी के विकास को भी बढाता है।

गर्भावस्था में केला शरीर को मज़बूत बनाता है

प्रोटीन को अक्सर विकास में उपयोगी पाया जाता है और केले प्रोटीन का प्रचुर स्रोत होते हैं।

  • शाकाहारी लोगों को केले का नियमित सेवन करना चाहिए जिससे उनके शरीर में प्रोटीन की मात्रा बढ़ जाये।
  • व्यायाम से पहले यह एक अच्छा नाश्ता हो सकता है क्योंकि आपको खाली पेट व्यायाम नहीं करना चाहिए।

केला जी मिचलाने की समस्या दूर करे

अक्सर गर्भवती महिलाओं का जी मिचलाने लगता है और उन्हें उलटी भी हो जाती है।

  • यह अक्सर गर्भावस्था के पहले तीन महीनों में ही होता है।
  • यह पाया गया है कि गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में यदि नियमित रूप से केले का सेवन किया जाये तो इससे जी मिचलाने की समस्या का समाधान हो जाता है।

केला उर्जा बढ़ाता है

उर्जा बढ़ने में केले का कोई मुकाबला नहीं होता है। इसके अलावा यदि इसे दूध के साथ लिया जाये तो इसे सम्पूर्ण भोजन के सामान माना जाता है।

  • केले में तीनों प्रकार के प्राकृतिक शक्कर मौजूद होते हैं जैसे कि ग्लूकोस, फ्रक्टोस और सुक्रोस जो सभी आयु वर्ग के लोगों को उर्जा प्रदान करते हैं।
  • यही कारण है कि गर्भवती महिलाओं को अपनी उर्जा बनाये रखने के लिए नियमित रूप से केले का सेवन करना चाहिए।

केला ब्लड प्रेशर करे नियंत्रित

गर्भावस्था के दौरान अक्सर महिलाओं के ब्लड प्रेशर में उतार चढ़ाव आता रहता है। इसे अपने आहार के द्वारा नियंत्रित रखना ही सबसे अच्छा उपाय होता है।

  • केले पोटैशियम का उच्च स्रोत होने के कारण गर्भवती महिलाओं का ब्लड प्रेशर नियंत्रित रखने में उपयोगी होता है।
  • इसके अलावा गर्भावस्था के दौरान होने वाले मांसपेशियों में तनाव और पैरों के दर्द को भी ठीक कर देता है।

रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रोल के स्तर को नियंत्रित रखे

गर्भावस्था के दौरान यह अत्यधिक महत्त्वपूर्ण होता है कि महिलाओं का रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रोल का स्तर नियंत्रित रहे।

  • यदि आपको गर्भावस्था में मधुमेह है तो यह और भी आवश्यक होता है।
  • केले का नियमित सेवन करने से यह समस्या दूर की जा सकती है।

अचानक लगने वाली भूख का उचित उपाय है केला

केला आवश्यक कार्बोहाइड्रेट्स में प्रचुर होता है। यह बहुत ही फायदेमंद होता है तो चिप्स या अन्य चीजें खाने से अच्छा है कि आप इसे चुनें।

  • आपके नियमित आहार के बीच में लगने वाली भूख को मिटाने के लिए आप केले का सेवन कर सकते हैं।
  • इससे आपको थोड़े थोड़े समय में लगने वाली भूख से निजात मिलेगा।

प्रेगनेंसी में केला तनाव मुक्त रखे

बहुत कम लोग ही यह बात जानते हैं कि केले में तनाव को दूर करने की क्षमता होती है।

  • केला खाने से आपकी चिंता और तनाव दूर हो जाता है।
  • इसलिए दिन में जब भी मौका मिले केले का सेवन करना न भूलें।

स्तनपान कराने वाली माताओं की लिए उपयोगी केला

माँ का दूध ऐसे एंटीबॉडीज से भरपूर होता जो बच्चे को बिमारियों से बचाते हैं। आपके बच्चे को शक्ति और स्फूर्ति आपसे ही मिलती है। इस दूध में कई प्रकार के पोषक तत्व मौजूद होते हैं।

  • यदि आप एक स्तनपान कराने वाली महिला हैं तो आपके लिए गर्भावस्था में केला खाना आवश्यक होता है। आपके आहार में किसी भी ज़रूरी तत्व की कमी नहीं होनी चाहिए।
  • आपके पूर्व और प्रसवोत्तर आहार को ऊर्जा में समृद्ध होना चाहिए, क्योंकि यह उस समय होता है जब आपके शरीर को अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है (विशेषकर गर्भावस्था के अंतिम तिमाही के दौरान और बाद में)। केला आपको यह प्रदान करता है।

इस लेख में हमनें जाना कि महिलाओं के लिए गर्भावस्था में केला खाना काफी फायदेमंद हो सकता है।

यदि इस विषय में आपका कोई और सवाल है, तो आप उसे नीचे कमेंट के जरिये हमसे पूछ सकते हैं।

6 टिप्पणी

    • गर्भवती महिला को केला खाने से कई फायदे होते हैं. उलटी का कारण केला नहीं होता है. इसके लिए डॉक्टर की सलाह लें.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here