गुरूवार, अक्टूबर 17, 2019

नितिन गडकरी अयोध्या से काशी के बीच 5 हाईवे परियोजनाओं की आज रखेंगे आधारशिला

Must Read

देवोलीना भट्टाचार्जी का जीवन परिचय

हिंदी सीरियल में आज्ञाकारी बहु के किरदार को दर्शाने वाली 'गोपी बहु' यानि 'देवोलीना भट्टाचार्जी' जिनके अभिनय को स्टार...

दिल्ली : फिर गिरा शेर के पिंजरे में युवक, उसके बाद क्या हुआ तमाशा?

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। दिल्ली स्थित चिड़िया घर में एक युवक गुरुवार को शेर के पिंजरे में जा...

स्कंदगुप्त को इतिहास के पन्नों पर स्थापित करने की जरूरत : अमित शाह (लीड-1)

वाराणसी, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने गुरुवार को कहा कि सम्राट स्कंदगुप्त के पराक्रम और उनके...
विकास सिंह
विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

मोदी सरकार 2019 लोक सभा चुनाव की आचार संहिता लागू होने से पहले जोकि अगले महीने लागू हो रही है, इससे पहले वे उत्तर प्रदेश के महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों के बीच की सडकों को सुधारने की परियोजना शुरू करने जा रही है।इसके अंतर्गत पांच परियोजनाएं हैं।

परियोजनाओं की जानकारी :

मोदी सरकार द्वारा इस पहल के अंतर्गत पांच परियोजनाएं आज शुरू की जायेंगी जिनकी कुल लागत 7195 करोड़ आवंटित की गयी है। इन सड़क परियोजनाओं की कुल लम्बाई 632 किलोमीटर निर्धारित की गयी है।

इनका उद्देश्य भारत के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य बुंदेलखंड क्षेत्र में स्थित अयोध्या, प्रयाग, काशी और चित्रकूट के प्राचीन शहरों में आने वाले पर्यटकों और तीर्थयात्रियों को बेहतर कनेक्टिविटी और सुविधाएं प्रदान करना है।

ये राजमार्ग परियोजनाएं अयोध्या से एक अन्य महत्वपूर्ण वैष्णव तीर्थ केंद्र चित्रकूट जहां भगवान राम ने अपने 14 वर्षों के वनवास में से 11 से अधिक वर्ष बिताये थे, तक सीधे रोड नेटवर्क स्थापित करेंगी, इसके साथ ही 84 कोसी परिक्रमा मार्ग अयोध्या के आसपास तीर्थ यात्रियों की आवाजाही को कम करेगा।

परियोजनाओं के अंतर्गत अयोध्या में एक रिंग रोड बन्ने के लिए भी आवंटन है। प्राचीन अयोध्या शहर के चारों ओर एक रिंग रोड यातायात की भीड़ को कम करेगा और प्रदूषण के स्तर को कम करेगा।

इन सभी परियोजनाओं का उद्देश्य देश के दो सबसे प्राचीन धार्मिक शहरों – अयोध्या और वाराणसी में पर्यटकों और तीर्थयात्रियों को सुविधा प्रदान करना है, जिसका प्रतिनिधित्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया लोकसभा क्षेत्र है।

इस परियोजना में 55 करोड़ रुपये की लागत से लखनऊ-अयोध्या राजमार्ग का अयोध्या खंड और अयोध्या-वाराणसी राजमार्ग का अयोध्या-अकबरपुर खंड का फोर-लेनिंग, 1,081 करोड़ रुपये की लागत से सौंदर्यीकरण शामिल है।

गडकरी रखेंगे आधारशिला :

परिवहन मंत्री नितिन गडकरी शुक्रवार को अयोध्या में 5 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं के लिए आधारशिला रखेंगे, जिससे अयोध्या, प्रयाग, काशी और चित्रकूट के बीच कनेक्टिविटी में सुधार होगा।

46 किलोमीटर लंबी 4 लेन की अयोध्या रिंग रोड के निर्माण में 1,289 करोड़ रुपये की लागत आएगी, वहीं राम वन गमन मार्ग के 44 किलोमीटर लंबे मोहनगंज-श्रृंगवेरपुर खंड के निर्माण में 478 करोड़ रुपये खर्च होंगे। अयोध्या के 84 कोसी परिक्रमा मार्ग के 91 किमी बीकापुर-रुदौली-मूर्तिघाट खंड के निर्माण में 896 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

देवोलीना भट्टाचार्जी का जीवन परिचय

हिंदी सीरियल में आज्ञाकारी बहु के किरदार को दर्शाने वाली 'गोपी बहु' यानि 'देवोलीना भट्टाचार्जी' जिनके अभिनय को स्टार...

दिल्ली : फिर गिरा शेर के पिंजरे में युवक, उसके बाद क्या हुआ तमाशा?

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। दिल्ली स्थित चिड़िया घर में एक युवक गुरुवार को शेर के पिंजरे में जा गिरा। शेर के सामने युवक...

स्कंदगुप्त को इतिहास के पन्नों पर स्थापित करने की जरूरत : अमित शाह (लीड-1)

वाराणसी, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने गुरुवार को कहा कि सम्राट स्कंदगुप्त के पराक्रम और उनके शासन चलाने की कला पर...

मुझे अपने सिवाय कुछ और साबित करने की जरूरत नहीं : जेजे

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। स्ट्राइकर जेजे लालपेखलुवा भारतीय फुटबाल में एक बड़ा नाम हैं। वह हालांकि अभी सर्जरी के बाद रीहैब पर हैं...

मोजरबियर बैंक घोटाला मामले में ईडी ने आरोप पत्र दाखिल किया

नई दिल्ली, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार को मोजरबियर बैंक घोटाला मामले में आरोप पत्र दाखिल किया।--आईएएनएस
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -