दा इंडियन वायर » समाचार » पीएम मोदी ने की खाद्य तेल उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए ₹11,000 करोड़ के राष्ट्रीय मिशन की घोषणा
समाचार

पीएम मोदी ने की खाद्य तेल उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए ₹11,000 करोड़ के राष्ट्रीय मिशन की घोषणा

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि केंद्र खाद्य तेल उत्पादन में आत्मनिर्भरता सुनिश्चित करने के लिए एक नए मिशन पर ₹ 11,000 करोड़ खर्च करेगा। यह कदम ऐसे समय में उठाया जा रहा है जब महंगे आयात पर भारत की निर्भरता ने खुदरा तेल की कीमतों को नई ऊंचाई पर पहुंचा दिया है।

कृषि मंत्रालय के अधिकारियों ने बाद में कहा कि राष्ट्रीय खाद्य तेल-तेल पाम मिशन (एनएमईओ-ओपी) के लिए यह वित्तीय परिव्यय पांच साल की अवधि में होगा। प्रधान मंत्री पीएम किसान योजना के तहत 9.75 करोड़ किसानों को 19,500 करोड़ रुपये की आय सहायता की नौवीं किश्त जारी करने के लिए एक वर्चुअल कार्यक्रम में बोल रहे थे।

प्रधान मंत्री मोदी ने कहा कि आयातित पाम तेल का हिस्सा 55% से अधिक है और “आज जब भारत को एक प्रमुख कृषि निर्यातक देश के रूप में पहचाना जा रहा है, तो हमारे लिए खाद्य तेल की जरूरतों के लिए आयात पर निर्भर रहना उचित नहीं है। हमें इस स्थिति को बदलना होगा। खाद्य तेल खरीदने के लिए हमें विदेशों में दूसरों को जो हजारों करोड़ देने हैं वह देश के किसानों को ही दिए जाने चाहिए।” उन्होंने उत्तर-पूर्वी भारत और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह को पाम तेल की खेती के लिए प्रमुख स्थानों के रूप में नामित किया।

फरवरी 2020 में राज्यसभा के एक प्रश्न के जवाब में वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने कहा था कि एनएमईओ के प्रस्ताव का उद्देश्य घरेलू खाद्य तेल उत्पादन को 1.05 करोड़ टन से बढ़ाकर 1.8 करोड़ टन करके 2024-25 तक आयात निर्भरता को 60% से घटाकर 45% करना होगा।

इसने तिलहन उत्पादन में 55% की वृद्धि का अनुमान लगाया है जो की 4.78 करोड़ टन है। हालाँकि यह स्पष्ट नहीं है कि मिशन के अंतिम संस्करण के तहत ये लक्ष्य बदल गए हैं या नहीं।

एनएमईओ-ओपी का पूर्ववर्ती राष्ट्रीय तिलहन और पाम ऑयल मिशन था, जिसे यूपीए सरकार के कार्यकाल के अंत में शुरू किया गया था और बाद में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन में विलय कर दिया गया था। मई 2020 में अपनी उपलब्धियों को बताते हुए, कृषि मंत्रालय ने कहा कि तिलहन उत्पादन 2014-15 में 2.75 करोड़ टन से 35% बढ़कर 2020-21 तक 3.73 करोड़ टन हो गया। हालांकि उस छह साल की अवधि में तिलहन का रकबा केवल 8.6% बढ़ा, लेकिन पैदावार 20% से अधिक बढ़ी।

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]