दा इंडियन वायर » टैकनोलजी » क्लाईंट सर्वर कंप्यूटर क्या है?
टैकनोलजी

क्लाईंट सर्वर कंप्यूटर क्या है?

client computer in hindi

क्लाईंट कंप्यूटर की परिभाषा (client computer definition in hindi)

परिभाषा – क्लाईंट एक तरह का कम्प्युटर हार्डवेयर है और हम इसे सॉफ्टवेयर भी बोल सकते हैं जो की सर्वर के द्वारा हमें सर्विस देने का काम करता है।

यदि आपका सर्वर और किसी कम्प्युटर सिस्टम में है तो भी क्लाईंट नेटवर्क के माध्यम से उसकी सर्विस की देख रेख की जा सकती है। इस तरह की देख रेख से काम करने वाले को हम क्लाईंट सर्वर मॉडल बोलते हैं।

क्लाइंट कंप्यूटर क्या है? (client computer in hindi)

क्लाईंट एक कम्प्युटर या फिर प्रोग्राम की मदद से दूसरे कम्प्युटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर जो की सर्वर से चलते हैं उनको सिग्नल भेजने का काम करता है। उदाहरण के तौर पर हम इसे ऐसे समझ सकते हैं वेब ब्राउज़र भी एक तरह का क्लाईंट ही होता है जो की वेब सर्वर से जुड़ा हुआ होता है और वेब पेज आदि को दिखने का काम करता है।

ईमेल क्लाईंट जो होता है वह भी ईमेल को मेल सर्वर से लेता है। जिन जिन साइटों पर हम ऑनलाइन चैट करते हैं वह भी काफी तरह के क्लाईंट इस्तेमाल करते हैं। विडियो गेम और कम्प्युटर गेम आदि भी क्लाईंट की मदद से काफी कम्प्युटरों पर चलाये जाते हैं। क्लाईंट भी क्लाईंट सर्वर मॉडल का एक अंग है जिसका हम आज भी काफी इस्तेमाल करते हैं।

क्लाईंट और सर्वर एक तरह से कम्प्युटर प्रोग्राम होते हैं जो की एक ही मशीन पर चलते हैं और आंतरिक संचार के माध्यम की तकनीकी से जुडते हैं और संपर्क के काम में आते हैं।

क्लाईंट सर्वर कंप्यूटर के प्रकार (client server architecture in hindi)

  1. थिक – इसको हम रिच क्लाईंट या फिर फ्लैट क्लाईंट भी बोलते हैं यह डाटा को प्रोसैस करने का काम करता है और पूरी तरह से सर्वर पर निर्भर नहीं करता। जो हमारे कम्प्युटर होते हैं वह भी फेट क्लाईंट का ही एक उदाहरण है। इसमे बहुत तरह के विकल्प होते हैं जिससे की यह क्लाईंट की क्षमता बढाने का काम करते हैं। कम्प्युटर जो की अकेला मशीन को संकेत देने का काम करते हैं वह नेटवर्क से फ़ाइल लेने और भेजने में काफी सहायक होते हैं और इन्हे हम वर्कस्टेशन भी बोलते हैं।
  2. थिन – थिन क्लाईंट होस्ट कम्प्युटर के संसाधन का काम करते हैं। यह उस प्रोसैसड डाटा को दिखाता है जो की सर्वर की एप्लीकेशन द्वारा दिखाया जाता है जो की ज्यादा मात्रा में डाटा प्रोसैसिंग का काम करते है।
  3. हाइब्रिड – यह ऊपर के दोनों मॉडलों का मिश्रण होता है। यह सही से अच्छे डाटा के लिए सर्वर पर निर्भर होता है। एक उपकरण जो की ऑनलाइन विडियो गेम डियाब्लो 3 को चलता है वह हाइब्रिड क्लाईंट का उदाहरण है।

इस लेख से सम्बंधित किसी भी प्रकार के सवाल या सुझाव को आप नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

About the author

अभिषेक विजय

1 Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]