Sat. Jul 13th, 2024
    क्यूआर कोड qr code in hindi

    विषय-सूचि

    क्यूआर कोड क्या है? (qr code meaning in hindi)

    आप ने कभी न कभी तो QR कोड जरूर देखा होगा, मगर इसके बारे में आपको कोई जानकारी नहीं होगी। इस आर्टिकल के बाद आप QR कोड को अच्छी तरह से समझ जायेंगे।

    QR कोड का फुल फॉर्म क्विक रेस्पॉन्स (quick response) कोड होता है, क्‍योकि इन्‍हे क्विकली रिड करने के लिए डिजाइन किया गया है। QR कोड एक ऐसा कोड है जो मशीन के द्वारा ही पढ़ा जा सकता है।

    ये कोड काले और सफ़ेद रंग से बने एक डिब्बे जैसा आकर का बना होता है। QR कोड को हम 2D बारकोड भी कहते है। अगर आपने कभी नही देखा तो ये कुछ इस तरह से दिखता है।

    ये QR कोड हमारी वेबसाइट का है आप इसे अपने फ़ोन से स्कैन कर हमारी वेबसाइट के और लेख भी पढ़ सकते हैं।

    QR कोड को आप मोबाइल कैमरा की सहायता से आसानी से स्कैन कर सकते है।

    इसके लिए फोन के अलग अलग ओएस के प्लेटफार्मों के लिए विभिन्न एप्लिकेशन स्टोर में कई मुफ्त क्यूआर कोड रिडर आपको मिल जाएंगे। इस कोड को स्कैन करने के बाद आपके मोबाइल मे कोड के अन्‍दर सुरक्षित किया हुआ डाटा खुल जायेगा।

    यह भी पढ़ें: वेब डिजाइनिंग क्या है? कैसे करें?

    अगर अापने आधार कार्ड देखा होगा तो उसमें भ्‍ाी एक QR कोड आता है। आधार कार्ड के QR कोड को अगर आप अपने मोबाइल से स्कैन करेगे तो मोबाइल में जिसको आधार कार्ड है उसकी पूरी जानकारी आ जायेगी।

    क्यूआर कोड काम कैसे करता है? (working of qr code in hindi)

    जब हमे बारकोड में कटने फटने की दिक्कत होती है, तो इसके लिए हमने QR कोड बनाया गया है। इसमें एक प्रकार का एरर कनेक्शन होता है, जो अगर कट फट भी जाये तो भी हम इससे जानकारी निकाल सकते है। और इसमें हम काफी ज्यादा जानकारी भी स्टोर की जा सकती है।

    QR कोड को 2 डायमेंशनल बारकोड भी कहा जाता है इसमें तीन लार्ज स्क्वायर और बहुत सारे छोटे छोटेस्क्वायर होते हैं। जिनसे मिलकर यह पूरा होता है।

    इसे भी दूसरी लिपियों या की भाषाओ की तरह ही एक भाषा भी माना जा सकता है। जिसे मशीने अपने इमेज सेंसर यानी कैमरा द्वारा पढ कर प्रोसेस कर सकती हैं यानी समझ सकती हैं।

    इसके काम करने का एक ही तरीका है वह यह की इसमें जो छोटे छोटे डॉट्स होते हैं वो किस पोजीशन पर एक दुसरे से कितने दूर हैं और संख्या में कितने हैं इन सारी चीजों को पड़ कर ही कंप्यूटर समझ पाता है की इसमें क्या जानकारी स्टोर की गई है।

    बारकोड और क्यूआर कोड में अंतर (difference between bar code and qr code in hindi)

    QR कोड बार कोड का एक नया स्वरुप है पर इनका अंतर इनकी संरचना में है। BARCode ब्लैक वाइट की खड़ी लाइनों से मिलकर बना होता है।  लेकिन इसमें बहुत कम इनफार्मेशन स्टोर होती है।

    अगर ये एक बार स्टोर हो जाये तो आप बड़े ही आराम से इसे read कर सकते है।  इसमें मैन्युअली नंबर से या सिंपल बारकोड स्कैनर की मदद से इसे पढा जा सकता है।

    अगर बात करे कि बारकोड काम कैसे करता है तो इसमें नीचे  1 से लेकर 9 नंबर, कोई सा भी हो सकता है। हर नंबर में 7 लाइन को चुना गया है अगर सात लाइन खड़ी है तो इसमें कुछ वाइट तो कुछ ब्लैक होती है। तो हर लाइन के लिए अलग अलग नंबर होते है।

    जब हम इसको लेज़र स्कैनर से स्कैन करते है तो वाइट लाइन लेजर को वापस कर देती है और ब्लैक लाइन लेजर को ऑब्ज़र्व कर लेती है, तो जहाँ से लेजर वापस आती है वहां वन और जहाँ से लेजर बापस नहीं आती वहां जीरो।

    तो ऐसे में हम उसे सात सात में बाँट कर पता लगा लेते है कि इसमें पहला दूसरा तीसरा कौन सा है। और इसकी मदद से हम बारकोड के नंबर आसानी से पढ़ लेते है। वहीँ QR कोड को किसी लेज़र स्कैनर की जरुरत नहीं होती।

    QR कोड में 7089 नंबर तक स्टोर किये जा सकते हैं मगर 1D बरकोड में 30 नंबर ही स्टोर हो पते हैं। इसी वजह से QR कोड अब ज्यादा प्रचलन में हैं। इसकी ज्यादा स्टोरेज की वजह से इसमें वीडियोस और अन्य बड़ी फाइल्स को भी स्टोर किया जा सकता है।

    क्यूआर कोड के फायदे (benefits of qr code in hindi)

    QR कोड के पारंपरिक बारकोड के मुकाबले में कई फायदे है।

    स्‍टोरेज कैपेसिटी: QR कोड 7,089 न्यूमेरिक कैरक्टर्स (बिना स्‍पेस के) स्टोर कर सकते हैं। या 2,953 अल्फान्यूमेरिक कैरक्टर्स स्‍पेस और विराम चिह्न के साथ स्‍टोर कर सकते है।

    छोटा आकार: एक ही डेटा के लिए क्यूआर कोड, बारकोड की तुलना में कम जगह लेता है

    ओरिएंटेशन: QR कोड को 360 डिग्री किसी भी एंगल से स्कैन किया जा सकता है।

    एन्कोडिंग: QR कोड न्यूमेरिक, अल्फान्यूमेरिक, बाइनरी और कांजी कैरेक्‍टर को एनकोड कर सकता है।

    एरर करेक्‍शन: QR कोड खराब (30% तक) होने के बावजूद भी स्‍कैन हो सकता है।

    क्यूआर कोड के नुकसान (disadvantages of qr code in hindi)

    आपको इसके फायदे तो पता चल गए होंगे लेकिन इसके कुछ नुकसान भी है जैसे -अगर कोई हैकर आपके मोबाइल को हैक करना चाहे तो वह कोई हैकिंग कोड बनाकर आपसे स्कैन करवा सकता है क्योंकि उसके QR कोड को स्कैन करने से आपके मोबाइल में वायरस आ सकते है जिनसे वह आपके मोबाइल को हैक कर सकता है।

    क्यूआर कोड के उपयोग (uses of qr code in hindi)

    आप अपने wifi में इसका यूज़ कर सकते है जैसे आप अपने फ्रेंड को Password बताने की जगह उसे QR Code से डायरेक्ट कनेक्ट करवा सकते है।

    अगर आपकी कोई स्टोर है तो ग्राहक से QR Code से स्कैन करवा कर पेमेंट करवा सकते है। ये आज कल ज्यादा प्रचलन में है। मोबाइल वॉलेट्स जैसे PAYTM, MOBIKWIK इसका उपयोग बहुत तेज़ी से कर रहे हैं।

    आप अपने facebook page के लिए भी इसका यूज़ कर सकते है। क्योंकि इसमें आपके फेसबुक पेज का लिंक होगा जब कोई इस QR कोड को स्कैन करेगा तो वो आपके फेसबुक पेज पर पहुँच जायेगा।

    आप अपने विजिटिंग कार्ड में भी इसका उपयोग कर सकते है।

    आप अपनी वेबसाइट के लिए भी इसका यूज़ कर सकते है।

    अगर आपके पास QRकोड से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

    2 thoughts on “क्यूआर कोड क्या है, काम और फायदे”
    1. khud ka qr code kaise bana sakte hian? mera ek android app hai aur mujhe uski security ke liye qr code banama hai. maine php seekh rakhi hai. kya koi aur asan upaay hai?
      aur qr code ko banakar meri website par kaise daal sakte hain? meri website security products ki hai aur login page par mujhe qr code lagana hai?

      1. नमस्कार अभिषेक, आप खुद का QR कोड ऑनलाइन वेबसाइट से बना सकते हैं। आप इसकी सेकुयर्टी के लिए इसे पासवर्ड प्रोटेक्टेड कर सकते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *