Sat. Feb 24th, 2024

    देश में कोरोना वायरस से भयावहता स्थिति बनी हुई है। सोमवार को संक्रमण के मामलों में मामूली गिरावट रही। लेकिन मंगलवार के बाद से लगातार नए केस में तेजी से बढ़ोतरी देखने को मिली। बीते 24 घंटों में 3,60,960 नए मामले सामने आए हैं। जबकि 3,293 लोगों ने दम तोड़ दिया है। ऐसे में कोविड-19 से मरने वालों का आंकड़ा 2,01,187 हो गया है। वहीं पहली बार हुआ है जब महामारी से इतनी मौतें हुई है। देश में फिलहाल एक्टिव केस 29,78,708 हो गए।

    एक दिन में तीन हजार से अधिक मौत

    स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा आज (बुधवार) सुबह 8 बजे जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक देश में पिछले 24 घंटों में 3,60,960 लोग इस बीमारी की चपेट में आए हैं। ऐसे में संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 1,79,97,267 पहुंच गई है। वहीं 3293 नई मौतें से मरने वालों का आंकड़ा 2,01,187 हो गया है। फिलहाल सक्रिय मामलों की संख्या 29,78,709 हैं और स्वस्थ्य हुए मरीजों की कुल संख्या 1,48,17,371 है। जबकि पिछले 24 घंटे में 25,56,182 वैक्सीन लगाई गई हैं। जिसके बाद टीकाकरण का आंकड़ा 14,78,27,367 हुआ। इसके साथ कोविड से मरने वालों की संख्या 2,01,187 पहुंच गई। महामारी के दस्तक देने से लेकर अब तक एक दिन में पहली बार 3000 से अधिक लोगों की कोरोना से मौत हुई।

    सर्वाधिक मौतें महाराष्ट्र में

    बीते 24 घंटों में 3,285 लोगों की मौत हुई उनमें सर्वाधिक 895 लोग महाराष्ट्र के हैं। इसके बाद दिल्ली में 381, उत्तर प्रदेश में 264, छत्तीसगढ़ से 246, कर्नाटक में 180, गुजरात में 170 और राजस्थान में 121 लोगों की मौत हुई।

    लोगों के ठीक होने की दर घटकर पहुंची 82.54 फीसद

    उधर, स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवर सुबह आठ बजे जो आंकड़े जारी किए उनके अनुसार बीते 24 घंटों में 3,23,144 और लोगों के संक्रमित होने से इस बीमारी की चपेट में आने वालों की संख्या बढ़कर 1,76,36,307 हो गई। इन नए मामलों के साथ लोगों के ठीक होने की दर घटकर 82.54 फीसद और मृत्यु दर 1.12 फीसद हो गई है।

    दस राज्यों में 70 फीसद नए केस

    बीते 24 घंटों में 70 फीसद मामले दस राज्यों से आए हैं। इन प्रदेशों में महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, कर्नाटक, केरल, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, गुजरात और राजस्थान शामिल हैं। महाराष्ट्र में सर्वाधिक 48,700 मामले दर्ज हुए। फिर यूपी में 33,551 और कर्नाटक में 29,744 नए केस सामने आए हैं।

    By आदित्य सिंह

    दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *