गुरूवार, फ़रवरी 27, 2020

सकारात्मक दृष्टिकोण व नियमित स्क्रीनिंग से जीती जा सकती है कैंसर से जंग

Must Read

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

नई दिल्ली, 31 मई (आईएएनएस)| ‘जिंदगी हर कदम एक नई जंग है’, ये पंक्ति जीवन का मार्गदर्शन करने में कारगर है क्योंकि यहां हमें हर पल, हर समय पर एक जंग से जूझना है, लड़ना है और स्थिति से पार पाकर आगे बढ़ जाना है। कुछ ऐसा ही जीवन कैंसर पीड़ित एवं सर्वाइवर्स का भी है। कुछ इसकी जंग में जीत गये और कुछ लगातार संघर्ष कर रहे हैं।

कैंसर दुनिया में बीमारी से होने वाली मृत्यु के प्रमुख कारणों में से एक है, लेकिन जैसा कि कहा जाता है सावधानी बरतने से दुर्घटना से बचा जा सकता है। ठीक वैसे ही कैंसर का ईलाज संभव है अगर इसका पता जल्दी लगा लिया जाए यानि अपने स्वास्थ्य, जीवन-शैली और खान-पानी की आदतों में सावधानी रखी जाए तो कैंसर नामक दुर्घटना से बचा जा सकता है।

राजीव गांधी कैंसर इन्स्टीट्यूट एवं रिसर्च सेंटर (आरजीसीआईआरसी) द्वारा वल्र्ड नो टोबाको डे के अवसर पर आयोजित रियल वॉरियर मीट में यह और इस तरह की कई सकारात्मक बातें के बारे में जानने का मिला। मौके पर कैंसर से पार पा चुके सर्वाइवर्स ने अपनी यात्रा के कई सकारात्मक पहलू साझा किए और एक सशक्त उदाहरण दिया कि कैंसर के साथ और बाद अच्छा साधारण जीवन संभव है।

आरजीसीआईआरसी द्वारा अपने नीति बाग स्थित प्रांगण में आयोजित इस वॉरियर मीट में डॉ. सनी मलिक, डॉ. लीना डडवाल, इंडियन कैंसर सोसायटी के विशेषज्ञों के सत्र, एक्सपर्ट पैनल डिसकशन हुए। कैंसर फाइटर्स एवं सर्वाइवर मीट में कैंसर से जूझने वालो ने अपनी कहानी साझा की उन्हें सम्मानित भी किया गया। इसके अतिरिक्त प्रख्यात हास्य कवि सुरेन्द्र शर्मा के साथ मोटीवेशनल लाफ्टर सत्र इस मीट का विशिष्ट आकर्षण रहा।

उपस्थित मेहमानों, एक्सपटर्स, कैंसर फाइटर्स एवं अन्य को संबोधित करते हुए आईजीसीआईआरसी (नीति बाग) की मेडिकल डायरेक्टर डॉ. गौरी कपूर ने कहा, ” कैंसर लाइलाज बीमारी नहीं है, इसका इलाज संभव है, अगर इसका पता जल्दी लगा लिया जाए और इसके बारे में अधिक से अधिक लोगों को जागरुक किया जाए। मेडीकल साईंस ने भी काफी तरक्की की है और अब कैंसर के ईलाज एवं उसके बाद के उत्तम जीवन प्रदान करने वाली तकनीक व दवाईयां काफी सहायक हैं।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के लिए 5-6 फिल्मों को अस्वीकार...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -