दा इंडियन वायर » समाचार » के. कस्तूरीरंगन होंगे नई राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा (एनसीएफ) विकसित करने के लिए जिम्मेदार 12 सदस्यीय संचालन समिति के प्रमुख
समाचार

के. कस्तूरीरंगन होंगे नई राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा (एनसीएफ) विकसित करने के लिए जिम्मेदार 12 सदस्यीय संचालन समिति के प्रमुख

केंद्र ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के पूर्व अध्यक्ष के. कस्तूरीरंगन को एक नई राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा (एनसीएफ) विकसित करने के लिए जिम्मेदार 12 सदस्यीय संचालन समिति के प्रमुख के रूप में नियुक्त करके स्कूली पाठ्यपुस्तकों को संशोधित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

डॉ कस्तूरीरंगन ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 के लिए मसौदा समिति की भी अध्यक्षता की थी जिसने एक नए एनसीएफ के विकास की सिफारिश की थी। शिक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि संचालन समिति को अपना काम पूरा करने के लिए तीन साल का कार्यकाल दिया गया है।

आखिरी बार ऐसा ढांचा 2005 में विकसित किया गया था। यह देश भर के स्कूलों में पाठ्यपुस्तकों, पाठ्यक्रम और शिक्षण प्रथाओं के विकास के लिए एक मार्गदर्शक दस्तावेज है। राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद द्वारा पाठ्यपुस्तकों का बाद में संशोधन नए एनसीएफ के आधार पर किया जाएगा।

वास्तव में संचालन समिति चार ऐसे ढांचे का विकास करेगी जिनमें से प्रत्येक स्कूली शिक्षा, शिक्षक ट्रेनिंग, प्रारंभिक बचपन शिक्षा और वयस्क शिक्षा के पाठ्यक्रम का मार्गदर्शन करेगा। डॉ. कस्तूरीरंगन के अलावा, पैनल में जिन अन्य लोगों ने एनईपी का मसौदा तैयार करने में मदद की थी, उनमें कर्नाटक ज्ञान आयोग के पूर्व सदस्य सचिव एम.के. श्रीधर और आंध्र प्रदेश के केंद्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय के कुलपति टी.वी. कट्टिमणि शामिल हैं। संचालन समिति के अन्य शिक्षाविदों में जामिया मिलिया इस्लामिया की कुलपति नजमा अख्तर, पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय के चांसलर जगबीर सिंह और भारतीय मूल के अमेरिकी गणितज्ञ मंजुल भार्गव भी शामिल हैं।

पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित फ्रांसीसी मूल के भारतीय मिशेल डैनिनो जिन्होंने वर्तमान जल निकाय के साथ पौराणिक सरस्वती नदी की पहचान करने वाली पुस्तक लिखी है, नेशनल बुक ट्रस्ट के अध्यक्ष गोविंद प्रसाद शर्मा और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एजुकेशनल प्लानिंग एंड एडमिनिस्ट्रेशन चांसलर के साथ संचालन समिति में भी हैं। महेश चंद्र पंत भारतीय प्रबंधन संस्थान-जम्मू के अध्यक्ष मिलिंद कांबले और गैर-लाभकारी क्षेत्र से धीर झिंगरान और शंकर मारुवाड़ा भी पैनल का हिस्सा हैं।

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!