Thu. Jun 20th, 2024

    तीन साल से अधिक के अंतराल के बाद रविवार की सुबह केरल के कोझीकोड जिले में जूनोटिक निपाह वायरस के संक्रमण का एक मामला सामने आया। कोझीकोड जिले के एक निजी अस्पताल में एक 12 वर्षीय लड़के की मौत हो गई।

    राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने मीडिया को बताया कि 188 व्यक्तियों की संपर्क सूची तैयार की गई है जिनमें से अधिकांश स्वास्थ्य कार्यकर्ता है। उन्होंने कहा कि, “उनमें से उच्च जोखिम वाले कुल 20 कर्मियों को सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल, कोझीकोड (एमसीएच) में स्थानांतरित किया जा रहा है। एमसीएच और एक निजी अस्पताल में दो स्वास्थ्य कर्मी रोगसूचक हैं और इन सभी को आइसोलेशन में रखा गया है।

    कोझीकोड तीन साल में दूसरी बार इस वायरस के घातक संक्रमण को रिपोर्ट कर रहा है। मई-जून 2018 में जिले से अठारह प्रयोगशाला-पुष्टि मामले और सात संदिग्ध मामले सामने आए थे। संक्रमित व्यक्तियों में से एक जोड़े पास के मलप्पुरम जिले के थे। उस समय 16 लैब-पुष्टि हुई मौतें और सात संदिग्ध मौतें हुईं थीं।

    यह वायरस जानवरों से लोगों में फैलता है और दूषित भोजन या सीधे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भी फैल सकता है। चमगादड़ को इस वायरस का प्राकृतिक भंडार माना जाता है। लक्षणों में तीव्र एन्सेफलाइटिस और श्वसन संबंधी बीमारियां शामिल हैं।

    स्वस्थ्य मंत्री ने कहा कि लड़के को शुरुआत में 29 अगस्त को बुखार और अन्य लक्षणों के साथ एरनजिमावु के एक निजी क्लिनिक में ले जाया गया था। उसे एमसीएच में स्थानांतरित करने से पहले 31 अगस्त को दो निजी अस्पतालों में ले जाया गया था। उन्होंने एमसीएच में लगभग 20 घंटे बिताए और 1 सितंबर को उन्हें फिर से दूसरे निजी अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया। निजी अस्पताल के सतर्क कर्मचारियों ने, जिन्हें निपाह के संक्रमण का संदेह था, परीक्षण के लिए शरीर के तरल पदार्थ के नमूने भेजे। प्रारंभिक परीक्षण नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी की अलाप्पुझा इकाई में किए गए थे।

    कोझीकोड और आसपास के जिलों मलप्पुरम और कन्नूर में अलर्ट घोषित कर दिया गया है। स्वास्थ्य मंत्री जॉर्ज ने कहा कि सरकार ने इलाज के लिए मोनोक्लोनल एंटीबॉडी की खरीद के लिए भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद से संपर्क किया था। इसे एक हफ्ते में इसे ऑस्ट्रेलिया से उपलब्ध करा दिया जाएगा।

    By आदित्य सिंह

    दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *