Wed. Dec 7th, 2022
    केन्द्रीय गृह अमित शाह ने दिल्ली सरकार पर साधा निशाना, कहा दिल्ली का जनता तय करें कि उसे विज्ञापन की राजनीति चाहिए या विकास की

    केन्द्रीय गृह अमित शाह ने आज नई दिल्ली में दिल्ली नगर निगम के कूड़े से बिजली उत्पादन करने वाले तेहखण्ड वेस्ट टू एनर्जी प्लांट का उद्घाटन किया। इस अवसर पर दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना व अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

    उन्होंने कहा कि इस संयंत्र के शुरू होने के बाद दिल्ली में प्रतिदिन लगभग सात हज़ार मीट्रिक टन कूड़े के निस्तारण की क्षमता हो गई है। शाह ने कहा कि आज शुरू हो रहे इस संयंत्र से प्रतिदिन 2 हज़ार मीट्रिक टन कचरा अलग करके, जलाया जाएगा और हरित तरीके से इसका उपयोग किया जाएगा। इसके साथ ही इससे लगभग 25 मेगावॉट ग्रीन एनर्जी का उत्पादन भी होगा।

    अमित शाह ने कहा कि अगस्त, 2025 तक नरेला में 3 हज़ार मीट्रिक टन वेस्ट टू एनर्जी प्लांट के निर्माण की शुरूआत हो चुकी है और उसके पूरा होने के साथ ही दिल्ली में प्रतिदिन के कचरे के निस्तारण की व्यवस्था हो जाएगी। 

    उन्होंने कहा कि इस संयंत्र के अलावा ओखला में 300 मीट्रिक टन का बायो सीएनजी प्लांट, 200 मीट्रिक टन प्रतिदिन वाले 3 बायो गैस प्लांट और 175 मीट्रिक टन प्रतिदिन क्षमता वाली 8 मेटल रिकवरी सुविधाएं शुरू होने वाले हैं। पूरी दिल्ली को कूड़ारहित बनाने का जो काम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने दिल्ली नगर निगम को दिया था, वो जल्द ही पूरा हो जाएगा।

    उन्होंने कहा कि मोदी जी ने तीन हिस्सों में शहरी विकास नीति को बांटा है। पहला, शहरों को आधुनिक बनाने के लिए स्मार्ट सिटी मिशन, ई-गवर्नेंस, इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सिस्टम और सीसीटीवी कैमरों का जाल खड़ा करना। दूसरा, शहरों में भौतिक बुनियादी ढांचे का कायाकल्प करके उन्हें आधुनिक बनाने के लिए अमृत मिशन, रेरा कानून, 25 से अधिक शहरों में मेट्रो का नेटवर्क खड़ा करना और इलेक्ट्रिक बसें देना। तीसरा, शहरों को स्वच्छ बनाना जिससे शहरों में रहने वाले सभी लोगों, विशेषकर झुग्गी-झोंपड़ी में रहने वालों, के स्वास्थ्य को इसका फायदा पहुंचे। इसके लिए शौचालय निर्माण, वेस्ट टू क्लीन एनर्जी के प्लांट तैयार करने, सोलर रूफटॉप और एलईडी लाइट्स के माध्यम से हम आगे बढ़ रहे हैं। इसके साथ-साथ प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना, पीएम स्वनिधि योजना और डिजिटल लेनदेन को भी पूरा प्रोत्साहन दिया जा रहा है।

    अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने 2014 में 15 अगस्त के दिन लाल किले की प्राचीर से स्वच्छता का जो अभियान शुरू किया था, 8 सालों में उसके अच्छे परिणाम देशभर में मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि कई कचरे के पहाड़ अब धीरे-धीरे कम होते जा रहे हैं, कचरे के निस्तारण के लिए अनेक संयंत्र लगाए गए हैं, गटर व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त किया गया है और कचरे के कलेक्शन के लिए भी एक साइंटिफिक नेटवर्क कश्मीर से कन्याकुमारी और असम से गुजरात तक हर शहर और गांव में बनाने की शुरूआत की गई है। 

    उन्होंने कहा कि आज़ादी से पहले महात्मा गांधी ने भारत को स्वच्छता का संदेश दिया था लेकिन 70 सालों तक सभी लोगों ने महात्मा के इस संदेश को भुला दिया। लेकिन 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी जी ने स्वच्छता के सन्देश को फिर से जमीन पर उतारा है। उन्होंने कहा कि ये स्वच्छता अभियान का ही नतीजा है कि कूड़ा फेंकने पर बच्चा भी उसे डस्टबिन में डालने के लिए आपसे कहेगा। 

    केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी द्वारा बनाये गए इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ दिल्ली में एमसीडी एक ऐसा इकोसिस्टम खड़ा करने में सफल होगी जिससे दिल्ली दुनिया में सर्वश्रेष्ठ राजधानी बन जायेगी। 

    उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार मानती है कि विज्ञापन से विकास होता है और इंटरव्यू से जनता भ्रमित होती है, ये दिल्ली को आप-निर्भर बनाना चाहते हैं और हम दिल्ली को आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं। दिल्ली सरकार ने तीनों नगर निगमों के साथ अन्याय और दोयम दर्जे का व्यवहार कर निगम का करोड़ों रूपये रोकने का काम किया, लेकिन केंद्र में मोदी सरकार है हम दिल्ली के विकास के काम रुकने नहीं देंगे।

    अमित शाह ने कहा कि एमसीडी ने दिल्ली में कई फ्लाईओवर,रोड,टनल,वेस्ट टू एनर्जी प्लांट, 150 टनस्क्रैप से पार्कबनाकर कचरे को कंचन में तब्दील किया है। एलईडी की सोलर पावर के लिए भी मोदी सरकार द्वारा सब्सिडी दी जा रही है।

    शाह ने कहा कि ये दिल्ली का जनता को तय करना है कि उसे विज्ञापन की राजनीति चाहिए या विकास की, प्रचार की राजनीति चाहिए या परिवर्तन की, भ्रष्टाचार की राजनीति चाहिए या पारदर्शिता की।

    केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि दिल्ली को स्वच्छ बनाने की दिशा में आज एक बहुत बड़ा कदम उठाया गया है और 2025 से पहले दिल्ली के दैनिक कचरे के निस्तारण की व्यवस्था एमसीडी के माध्यम से हो जाएगी जिससे ये कचरे के पहाड़ नजर नहीं आएंगे और दिल्ली और सुंदर बनेगी।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *