समाचार

दिल्ली में जंतर मंतर पर किसानों ने ‘किसान संसद’ का आयोजन किया

पुलिस और मीडियाकर्मियों की संख्या से भी कम, 200 किसानों का एक समूह गुरुवार को संसद मार्ग पर स्थित जंतर मंतर अपना विरोध दर्ज कराने पहुंचा। वहां इन किसानों ने संसद में चल रही कार्यवाही के सामानांतर अपनी एक ‘किसान संसद’ आयोजित की।

अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव हन्नान मुल्ला ने कहा कि, “हम उन्हें दिखा रहे हैं कि कैसे ज्ञानवर्धक चर्चा के साथ संसद का संचालन किया जाए। सरकार का कहना है कि किसान अशिक्षित हैं, उनका कहना है कि उन्हें इन तीन कृषि कानूनों के प्रभाव के बारे में किसानों को शिक्षित करने की जरूरत है। यहां बहसें सुनें। क्या यह स्पष्ट नहीं है कि किसान समझ गए हैं कि इन कानूनों से उनका जीवन और आजीविका कैसे प्रभावित होगी?”

पंजाब किसान यूनियन की समिति सदस्य जसबीर कौर ने संसद के पहले घंटे के दौरान बोलते हुए कहा कि, “इन कानूनों से मौजूदा मंडी प्रणाली और एमएसपी खरीद समाप्त हो

जाएगी। इसका नतीजा यह होगा कि किसान, खेतिहर मजदूर और मंडी के मजदूर अपनी नौकरी से वंचित रहेंगे। और जब निजी मंडियां आती हैं, सरकारी मंडियों की जगह, उनके बुनियादी ढांचे से केवल अंबानी और अडानी को फायदा होगा, किसानों को नहीं।” वह गुरुवार को प्रदर्शनकारियों में शामिल केवल सात महिलाओं में से एक थीं।

कीर्ति किसान संघ के एक नेता रामिंदर सिंह पटियाला ने कहा कि, “अगर इस देश के खेत और फसल कॉरपोरेट्स के हाथों में चले जाते हैं, अगर वे हमारी फसल और हमारे अनाज पर नियंत्रण करते हैं, तो यह लोग हैं जो भूखे रहेंगे और भुखमरी का सामना करेंगे। इसलिए यह विरोध सिर्फ किसानों का नहीं बल्कि लोगों का है। यह एक जन संसद है। ”

वहीं स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा, “ये कानून वास्तव में पहले ही मर चुके हैं, लेकिन हमें अभी भी सरकार को मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने की आवश्यकता है।” किसानों ने विपक्षी सांसदों

को चेतावनी दी, जिनके लिए किसानों द्वारा “वोटर व्हिप” जारी किया गया है कि यदि वे संसद में लगातार इस मुद्दे को उठाने में विफल रहते हैं, तो उन्हें भाजपा सांसदों के समान किसानों के बहिष्कार का सामना करना पड़ेगा।

जब संसद का सत्र चल रहा था, तब भी केरल के 20 से अधिक सांसद किसान संसद में अपनी एकजुटता व्यक्त करने पहुंचे, लेकिन किसानों के मंच पर उन्हें आने की अनुमति नहीं दी गई।

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Recent Posts

क्या होंगे आने वाले समय में भारत के लिए औकस (AUKUS) के मायने?

संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम और ऑस्ट्रेलिया के बीच एक नए सुरक्षा समझौते औकस (या…

September 25, 2021

वाइट हाउस में हुई प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन के बीच में द्विपक्षीय वार्ता

वाइट हाउस के ओवल कार्यालय में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन…

September 25, 2021

पर्यावरण मंत्रालय ने सर्दियों में वायु प्रदर्शन की रोकथाम के लिए दिल्ली और पड़ोसी राज्यों के साथ की बैठक

केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने गुरुवार को दिल्ली और पड़ोसी राज्यों के प्रतिनिधियों के साथ एक…

September 24, 2021

केंद्र सरकार का सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा: जातिगत जनगणना की प्रक्रिया प्रशासनिक रूप से कठिन और बोझिल

केंद्र सरकार ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि पिछड़े वर्ग की जाति जनगणना…

September 24, 2021

प्रधान मंत्री मोदी ने अमेरिकी दौरे के पहले दिन कमला हैरिस और अन्य नेताओं से की मुलाकात

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कल दो साल में अपनी पहली अमेरिका यात्रा की शुरुआत…

September 24, 2021

डब्ल्यूएचओ ने 2005 के बाद किये नए वायु गुणवत्ता दिशानिर्देश; कई निर्देश हुए सख्त

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 2005 के बाद से अपने पहले ऐसे अपडेट में पिछले…

September 23, 2021