Mon. Sep 26th, 2022

    पुलिस और मीडियाकर्मियों की संख्या से भी कम, 200 किसानों का एक समूह गुरुवार को संसद मार्ग पर स्थित जंतर मंतर अपना विरोध दर्ज कराने पहुंचा। वहां इन किसानों ने संसद में चल रही कार्यवाही के सामानांतर अपनी एक ‘किसान संसद’ आयोजित की।

    अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव हन्नान मुल्ला ने कहा कि, “हम उन्हें दिखा रहे हैं कि कैसे ज्ञानवर्धक चर्चा के साथ संसद का संचालन किया जाए। सरकार का कहना है कि किसान अशिक्षित हैं, उनका कहना है कि उन्हें इन तीन कृषि कानूनों के प्रभाव के बारे में किसानों को शिक्षित करने की जरूरत है। यहां बहसें सुनें। क्या यह स्पष्ट नहीं है कि किसान समझ गए हैं कि इन कानूनों से उनका जीवन और आजीविका कैसे प्रभावित होगी?”

    पंजाब किसान यूनियन की समिति सदस्य जसबीर कौर ने संसद के पहले घंटे के दौरान बोलते हुए कहा कि, “इन कानूनों से मौजूदा मंडी प्रणाली और एमएसपी खरीद समाप्त हो जाएगी। इसका नतीजा यह होगा कि किसान, खेतिहर मजदूर और मंडी के मजदूर अपनी नौकरी से वंचित रहेंगे। और जब निजी मंडियां आती हैं, सरकारी मंडियों की जगह, उनके बुनियादी ढांचे से केवल अंबानी और अडानी को फायदा होगा, किसानों को नहीं।” वह गुरुवार को प्रदर्शनकारियों में शामिल केवल सात महिलाओं में से एक थीं।

    कीर्ति किसान संघ के एक नेता रामिंदर सिंह पटियाला ने कहा कि, “अगर इस देश के खेत और फसल कॉरपोरेट्स के हाथों में चले जाते हैं, अगर वे हमारी फसल और हमारे अनाज पर नियंत्रण करते हैं, तो यह लोग हैं जो भूखे रहेंगे और भुखमरी का सामना करेंगे। इसलिए यह विरोध सिर्फ किसानों का नहीं बल्कि लोगों का है। यह एक जन संसद है। ”

    वहीं स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा, “ये कानून वास्तव में पहले ही मर चुके हैं, लेकिन हमें अभी भी सरकार को मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने की आवश्यकता है।” किसानों ने विपक्षी सांसदों को चेतावनी दी, जिनके लिए किसानों द्वारा “वोटर व्हिप” जारी किया गया है कि यदि वे संसद में लगातार इस मुद्दे को उठाने में विफल रहते हैं, तो उन्हें भाजपा सांसदों के समान किसानों के बहिष्कार का सामना करना पड़ेगा।

    जब संसद का सत्र चल रहा था, तब भी केरल के 20 से अधिक सांसद किसान संसद में अपनी एकजुटता व्यक्त करने पहुंचे, लेकिन किसानों के मंच पर उन्हें आने की अनुमति नहीं दी गई।

    By आदित्य सिंह

    दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.