Thu. Jun 13th, 2024
    farmers

    सूखे जैसी परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने कोष में के लिए ऐसी परिस्थितियों से निपटने के लिए कुल 2000 करोड़ रूपए अतिरिक्त आवंटित किये हैं। यह राजकोष से लिए गए हैं और किसानों की खरीफ फसल खराब होने या कोई आपदा आने पर किसानो की सहायता के लिए इस्तेमाल किये जायेंगे।

    सरकारी अधिकारी का बयान :

    इस पर एक सरकारी अधिकारी ने बयान दिया और कहा “यह एक अस्थायी व्यवस्था है जो समय-समय पर सूखा प्रभावित लोगों के समर्थन के लिए धन खींचने के लिए बनाई जाती है। फंड का उपयोग आधारभूत पानी की आपूर्ति जैसे कि जून तक पानी की कमी से निपटने के लिए पानी के टैंकरों और अन्य कार्यक्रमों की आपूर्तिके लिए किया जाएगा”

    कैबिनेट मीटिंग में लिए गए ये फैसले :

    मंगलवार को साप्ताहिक राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में कॉर्पस को बढ़ाने का निर्णय लिया गया। मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक प्रेस बयान में कहा गया है कि आकस्मिक निधि की सीमा अस्थायी रूप से ₹ 150 करोड़ से बढ़ाकर 2,150 करोड़ कर दी गई है।

    एक अलग विकास में, राज्य मंत्रिमंडल ने पशु चिकित्सकों की मोबाइल टीमों को स्थापित करने के लिए भी मंजूरी दी है, जो पहले चरण में महाराष्ट्र के 80 दूरस्थ तालुकों में मवेशियों को शामिल करेंगे। इस नए उद्यम के लिए – जिसे मुख्यमंत्री पशु स्वास्थ्य योजना के रूप में नामित किया गया है – 4 16.74 करोड़ धनराशि स्वीकृत की गई है।

    कॉटन मिल्स का वित्त बढ़ने का प्रस्ताव मंजूर :

    इन फैसलों के अतिरिक्त महाराष्ट्र सरकार ने राज्य की कॉटन मिल्स को दिए जाने वाले वित्त में बढ़ोतरी के प्रस्ताव को मंजूरी दी है। इस फैसले से मराठवाड़ा और विदर्भ क्षेत्र में कपास मिलों को सबसे ज्यादा फायदा होने की उम्मीद है।

    मंत्रिमंडल ने ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युतीकरण, एलपीजी सिलेंडरों की आपूर्ति और बीमा पॉलिसियों सहित अन्य योजनाओं के लिए केंद्र प्रायोजित ग्राम स्वराज अभियान को लागू करने के एक प्रस्ताव को भी मंजूरी दी। ग्राम स्वराज अभियान देश के 66,028 गांवों में सभी गरीब परिवारों को लाभ पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया गया एक दो चरण का कार्यक्रम है।

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *