किरण बेदी के खिलाफ धरना, पुडुचेरी सीएम-विधायकों ने राज निवास के बाहर रात गुजारी

Must Read

भारत में कोरोनावायरस के मामले 1.5 लाख के करीब, पढ़ें पूरी जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज कहा है कि 6,535 नए संक्रमणों के बाद भारत में कोरोनोवायरस बीमारी (COVID-19) के...

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के...

दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल और बंगाल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बाद अब पुडुचेरी के सीएम वी. नारायणास्वामी धरने पर बैठ गए हैं। मुख्यमंत्री वहां की गवर्नर किरण बेदी से खफा है। सीएम का आरोप है कि गवर्नर किरण बेदी संविधान के नियमों के तहत काम नहीं कर रही हैं साथ ही वे सरकार के कारोबार अधिनियम 1963 को भी नहीं मान रही हैं। इसपर विरोध जताते हुए मंत्रीजी ने अपने विधायकों के साथ राज निवास के बाहर डेरा डाल दिया हैै।

गुरुवार को प्रदर्शन करने के लिए सीएम अपने मंत्रिमंडल, विधायकों के साथ एक दिन पहले यानी बुधवार की रात को राज निवास के बाहर ही सो गए।

काले रंग की कमीज और धोती पहनकर धरने पर बैठे नारायणास्वामी का आरोप है कि गवर्नर राज्य सरकार की बातों को अनदेखा कर रही है। जनता द्वारा चुने सरकार के फैसलों में अड़चन पैदा कर रही है और राज्य की तमाम योजनाओं व विकास कार्यों में हस्तक्षेप कर रही है। वह यह नहीं सहेंगे। उन्होंने कहा कि ‘किरण बेदी ने राज्य सरकार द्वारा शुरु किए जाने वाले ‘मुफ्त चावल योजना’ को खारिज कर दिया और फाइल लौटा दी। वे कौन होती हैं ऐसा करने वाली?’

जवाब में किरण बेदी ने सीएम नारायणास्वामी को एक पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने आग्रह किया है कि मंत्रीजी 21 फरवरी को सुबह 10 बजे राज निवास आएं और फिर इस मसले पर विस्तृत चर्चा करें। बिना उनका जवाब सुने मंत्रीजी धरने पर बैठ गए इस हरकत की उन्होंने कड़ी निंदा की और इसे कानून व्यवस्था के खिलाफ बताया। किरण बेदी ने कहा कि ‘एक राज्य के मुख्यमंत्री को यह सब शोभा नहीं देता है।’

बेदी ने यह भी कहा कि ‘7 फरवरी को नारायणास्वामी ने पत्र में जो बातें लिखी थी, उन्हें जांचने के बाद जवाब देने की जरुरत है।’ उन्होंने बताया कि ‘नारायणास्वामी जो लापरवाही का आरोप

लगा रहे हैं वो पूरी तरह से झूठा है। सीएम को पत्र का जवाब मिलने तक इंतजार करना चाहिए था, लेकिन वे अपने विधायकों व मंत्रिमंडल के साथ धरने पर बैठ गए हैं। बाद में सूत्रों से उन्हें पता चला कि 7 फरवरी के पत्र का जवाब न मिलने के कारण वे धरने पर हैं।’

नारायणास्वामी ने 7 फरवरी को एक पत्र लिखा था कि ‘जिसमें राज्य के लिए 36 चार्टर की मांग की गई थी। उन्होंने कहा कि उन्हें लेफ्टिनेंट गवर्नर की ओर से इसका कोई जवाब नहीं मिला। गवर्नर राज्य के विकास कार्यों में सहयोग नहीं कर रही हैं। ऐसे में केंद्र शासित प्रदेश का विकाय नहीं हो पाएगा।’ नारायणास्वामी ने कहा कि ‘उनकी ओर से गवर्नर को कई बार उनके रवैए को ठीक करने के लिए पत्र लिखा जा चुका है, लेकिन वे शायद सुधार करना ही नहीं चाहती।’

प्रदेश में हेलमेट को लेकर लागू किए गए नियम के कारण वे किरण बेदी की आलोचना भी करते है। उनका मानना है कि डीजीपी को प्रदेश की जनता को हेलमेट की उपयोगिता बताते हुए एक निश्चित तरीके से हेलमेट पहनने का नियम लागू करना चाहिए था। कांग्रेस समेत डीएमके के विधायक भी इस धरने में शामिल रहे।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

भारत में कोरोनावायरस के मामले 1.5 लाख के करीब, पढ़ें पूरी जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज कहा है कि 6,535 नए संक्रमणों के बाद भारत में कोरोनोवायरस बीमारी (COVID-19) के...

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी और लोगों से सवाल पूछने...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच टकराव की...

औरंगाबाद में रेल के नीचे आने से 16 मजदूरों की मौत, 45 किमी की दूरी तय करने के बाद हुई घटना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में शुक्रवार सुबह कम से कम 16 प्रवासी श्रमिक ट्रेन के नीचे कुचले गए, जब वे मध्य प्रदेश...

भारत में कोरोनावायरस के आंकड़े 50,000 के पार, महाराष्ट्र में सबसे भयानक स्थिति

भारत (India) में कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित लोगों की संख्या में पिछले दो दिनों में 14 फीसदी की वृद्धि देखि गयी है। यह आंकड़ा...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -