शनिवार, अप्रैल 4, 2020

कश्मीर हमले पर भारत की प्रतिक्रिया से अफगान शान्ति वार्ता प्रभावित होगी: पाकिस्तान

Must Read

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए।...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

रायटर्स के मुताबिक अफगानिस्तान में पाकिस्तान के राजदूत ने मंगलवार को कहा कि “कश्मीर हमले पर अगर भारत पाकिस्तान पर हिंसात्मक कार्रवाई करता है तो इससे अमेरिका और अफगानिस्तान के मध्य जारी शान्ति वार्ता पर असर पड़ेगा।” अफगानिस्तान में पाकिस्तान के राजदूत का बयान इस्लामाबाद के भय को उजागर कर रहा है।

बीते गुरूवार को कश्मीर के पुलवामा जिले में सीआरपीएफ के काफिले पर फियादीन आतंकी हमला किया गया था। जिसमे 40 जवान शहीद और थे और पांच बुरी तरह जख्मी थे। इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तानी समर्थित आतंकी समूह जैश ए मोहम्मद ने ली थी।

अमेरिकी राजदूतों के अनुसार अफगान शान्ति प्रयासों में पाकिस्तान की भूमिका अहम है क्योंकि उसका नाता तालिबान के चरमपंथियों के साथ है। अमेरिका के विशेष राजदूत 25 फरवरी को क़तर में तालिबानी प्रतिनिधियों से मुलाकात करेंगे। अमेरिका दशकों से जारी युद्ध को अब समाप्त करना चाहता है।

रायटर्स के मुतबिक हाल ही में अमेरिकी संसद में जनरल जोशफ वोटल ने कहा कि “यह जगजाहिर है कि पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ अपने प्रयासों में विफल रहा है। तालिबान या अन्य आतंकी संगठनों के खिलाफ लड़ाई में पाकिस्तान की भूमिका अभी भी संदेह के घेरे में हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान पर दबाव का प्रभाव देखा जा सकता है। हालांकि इमरान खान को जो मोर्चा संभालना चाहिए था उसमें कोई प्रगति नही दिखाई देती है।”

उन्होंने कहा कि हमारा रणनीतिक फोकस सुलह व क्षेत्रीय सुरक्षा है। पाकिस्तान के समक्ष अपने वादे को निभाने का अच्छा मौका है कि अफगानिस्तान विवाद के समाधान के लिए अमेरिका के प्रयासों का समर्थन करें।  जोसफ वोटल ने कहा कि यदि आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान कड़े कदम उठाता तो बेहतर होता। पाकिस्तान का सकारात्मक कदम उनके के हित में होता।

तालिबान ने मास्को में हुई बैठक के दौरान कहा कि अफगान सरकार का संविधान अवैध है। यह पश्चिम से लिया गया है और यह शांति वार्ता में बाधा है। यह विवादित है और हम इस्लामिक संविधान चाहते हैं। साथ ही नए संविधान को इस्लामिक बुद्धिजीवियों द्वारा निर्मित किया जाएगा।

नवम्बर में नाटो के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक अशरफ गनी की सरकार का प्रभाव या नियंत्रण 65 फीसदी जनता पर है लेकिन अफगानिस्तान के 407 जिले ही अफगान सरकार के पास है। तालिबान के दावे के मुताबिक वह देश के 70 फीसदी भाग पर नियंत्रण करता है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

एक विलेन 2: दिशा पटानी के बाद, तारा सुतारिया फिल्म से जुड़ी, जॉन अब्राहम और आदित्य रॉय कपूर भी होंगे फिल्म का हिस्सा

यह पहले बताया गया था कि जॉन अब्राहम 2014 की फिल्म, एक विलेन की अगली कड़ी बनाने के लिए बातचीत कर रहे थे। जनवरी...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए। 2 दिन में 16.03 करोड़...

महाराष्ट्र सरकार को कोई खतरा नहीं – कांग्रेस

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार शाम को अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। राकांपा नेताओं ने कहा कि 26 मार्च को होने...

पीएम मोदी, राहुल गांधी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके 78 वें जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा,...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -