स्वतंत्रता दिवस पर कश्मीर का दिल कहे जाने वाले ‘लाल चौक’ पर एक अद्भुत नजारा देखने को मिला। एक तरफ पूरा देश जहाँ अपनों के साथ स्वतंत्रता दिवस मनाने में व्यस्त था ठीक उसी वक्त अपने और अपनों के हक के लिए एक शक्ति ‘कश्मीर का दिल’ कहे जाने वाले ‘लाल चौक’ पर ‘सिंह गर्जना’ कर रही थी। लाल चौक पर अकेले ‘भारत माता की जय’ और ‘वन्दे मातरम’ के नारे लगा रही इस महिला का वीडियो सोशल मीडिया वेबसाइट पर वायरल हो रहा है। उनके इस ज़ज्बे को आज पूरा देश सलाम कर रहा है। वीडियो को जम्मू-कश्मीर का बताया जा रहा है और कहा जा रहा है कि 15 अगस्त को इस महिला ने ‘लाल चौक’ पहुंचकर यह नारे लगाए हैं। महिला के आस-पास सिक्योरिटी फोर्स वाले खड़े दिख रहे हैं और महिला उनसे भी नारे लगाने को कह रही है। महिला सुरक्षाकर्मियों से कहती है कि वह भी भारत के है और उन्हें भी नारे लगाने चाहिए।

चंडीगढ़ से भाजपा सांसद किरण खेर के पति और फिल्म अभिनेता अनुपम खेर ने इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा है कि इस अकेली कश्मीरी पंडित महिला ने श्रीनगर में वन्दे मातरम और भारत माता की जय के नारे लगाए। मैं इनके जज़्बे को सलाम करता हूँ, जय हो। पत्रकार इस दृश्य को लाल चौक का द्दृश्य बता रहे हैं। वीडियो में नजर आ रहे सुरक्षाकर्मी महिला को रोकने का प्रयास नहीं करते हैं बल्कि उसकी सुरक्षा के लिए चारों तरफ घेरा बना लेते हैं। बता दें कि जम्मू-कश्मीर में इन दिनों हालात बिगड़ते जा रहे हैं। सेना द्वारा आतंकियों के सफाये के लिए जारी ‘ऑपरेशन ऑलआउट’ का लगातार विरोध हो रहा है। सेना पर घाटी में लगातार पत्थरबाजी की घटनाएं सामने आ रही हैं और सीमापार से भी घुसपैठ लगातार जारी है। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट में जम्मू-कश्मीर विधानसभा को विशेषाधिकार देने वाले अनुच्छेद 35ए को हटाने की मांग करने वाली याचिका दायर की गई है जिसपर अगले 6 हफ़्तों में सुनवाई होनी है। इससे जम्मू-कश्मीर में हालात और बिगड़ गए हैं और याचिका पर सुनवाई को लेकर जम्मू-कश्मीर के सभी राजनीतिक दल एकमत हो केंद्र की भाजपा सरकार के खिलाफ हो गए हैं।


हिमांशु पाण्डेय दा इंडियन वायर के हिंदी संस्करण पर राजनीति संपादक की भूमिका में कार्यरत है। भारत की राजनीति के केंद्र बिंदु माने जाने वाले उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले हिमांशु भारत की राजनीतिक उठापटक से पूर्णतया वाकिफ है।मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक करने के बाद, राजनीति और लेखन में उनके रुझान ने उन्हें पत्रकारिता की तरफ आकर्षित किया। हिमांशु दा इंडियन वायर के माध्यम से ताजातरीन राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर अपने विचारों को आम जन तक पहुंचाते हैं।